Tuesday, June 22, 2010

प्राकृतिक और सामाजिक प्रबंधन हेतु सदियों से चली आ रही "बारी" व्यवस्था

पहाड़ हो चाहे मैंदान, मरूस्थल हो चाहे समुद्री किनारा- जल, जंगल, जमीन से बेदखल किए जाते स्थानीय निवासियों पर चलने वाले डण्डे की मार एक जैसी ही है। हरे चारागाहों के शिकारी पर्यावरण और पारिस्थितिकी संतुलन जैसे तर्कों से लदी भाषा के साथ न सिर्फ कानूनी रूप से बलपूर्वक, बल्कि जनसंचार के माध्यमों के द्वारा विभ्रम फैलाकार सामाजिक रुप से भी, खुद को दुनिया को खैरख्वाह और स्थानीय निवासियों को उसका दुश्मन करार देने की कोशिश में जुटे हैं। पहाड़ के एक छोटे से हिस्से लाता गांव में उत्तर चिपको आंदोलन के बाद शुरु हुए  छीनों-झपटो आंदोलन के प्रणेता धन सिंह राणा का यह खुला पत्र जिसका संपादन डॉ सुनील कैंथोला ने किया है, ऐसे ही सवालों से टकराता हुआ कुछ प्रश्न खड़े कर रहा है। पत्र मेल द्वारा भाई सुनील कैंथोला के मार्फत पहुंचा है जिसको एक स्थानीय पत्रिका में प्रकाशित होने के बाद यहां पुन: प्रकाशित किया जा रहा है।    


असकार का मतलब समझते हो प्रोफेसर सत्या कुमार?

सेवा में,
प्रो.सत्या कुमार
भारतीय वन्य जीव संस्थान
देहरादून, भारत

आदरणीय साहब,
आशा है कि आप स्वस्थ और राजी खुशी होंगे और आपका रिसर्च करने का धंधा भी ठीक-ठाक चल रहा
होगा। हम भी यहां गांव में ठीक-ठाक हैं। ऐसा कब तक चलेगा, ये तो ऊपर वाला ही जानता है लेकिन हमारा अभी तक भी बचे रहना किसी चमत्कार से कम नहीं है। क्योंकि गांव में सड़क से ऊपर पर्यावरण संरक्षण का शिकंजा है और सड़क से नीचे बन रहे डाम का डंडा हम सब पर बजना शुरू हो चुका है। यहां पिछले कई वर्षों से हम आपका बड़ी बैचेनी से इंतजार कर रहे हैं। हमें लगा कि जो व्यक्ति पर्यावरण का इतना बड़ा पुजारी है कि जिसके शोध के हिसाब से हमारी भेड़-बकरी के खुर पर्यावरण को हानि पहुंचाते हैं, जो नंदा अष्टमी के अवसर पर नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क में सदियों से चली आ रही दुबड़ी देवी की पूजा तक को बंद करवाकर इस आजाद देश में धार्मिक स्वतंत्रता के हमारे मौलिक अधिकार तक छीन ले, वह महान वैज्ञानिक हमारे गांव की तलहटी पर बन रहे डाम से होने वाली पर्यावरणीय क्षति को लेकर अवश्य चिंतित होगा और अपनी वैज्ञानिक रिपोर्ट के आधार पर बांध का निर्माण चुटकी बजाते ही रुकवा देगा। अब हमें लगने लगा है कि हो न हो दाल में जरूर कहीं कुछ काला है। अत: इस शंका के निवारण के लिए ही गांव के बड़े बुजुर्गों की सहमति से यह पत्र आपको लिख रहा हूं।
आदरणीय साहब,
आप तो हिमालय के चप्पे-चप्पे में घूमे हैं। आपकी शिव के त्रिनेत्र समान कलम ने हिमालय में निवास करने
वाले लाखों परिवारों की आजीविका और संस्कृति का संहार किया है। पूरे विश्व का बि(क समाज आपके इस
पराक्रम के आगे नत मस्तक है। ऐसे में हे! मनुष्य जाति के सर्वश्रेष्ठ संस्करण, आपकी ही कलम से ध्वस्त हुआ
मैं, धन सिंह राणा और उसका समुदाय, आपको, आपके जीवन के उन गौरवशाली क्षणों की याद दिलाना चाहते हैं, जब आपने हमारा आखेट किया था।

हे ज्ञान के प्रकाश पुंज,

नाचीज, ग्राम लाता का एक तुच्छ जीव है, जो पिछले जन्मों के पापों के कारण मनुष्य योनि में पैदा हुआ। मेरा
गांव उत्तराखंड के सीमांत जनपद चमोली की नीति घाटी में स्थित है। यह इलाका भारत में पड़ता है और पूरे विश्व में नंदा देवी बायोस्फेयर रिजर्व के नाम से जाना जाता है। यदि मेरी स्मृति सही है, तो हमारी भूमि पर आपके कमल रूपी चरण पहली बार संभवत: 1993 में पड़े थे। आप भारतीय सेना के एक अभियान दल के साथ नंदादेवी कोर जोन के भ्रमण पर आए थे, जिसमें सेना के सिपाहियों ने नंदा देवी कोर जोन से कचरा साफ किया था। आपसे दिल की बात कहना चाहता हूं, जिसे आप लोग कचरा कह रहे थे, उसमें अनेक चीजें ऐसी थी कि जिन्हें देखकर हमारी लार टपक रही थी। मुझे याद है कि जब अपने गांव से हम लोग पोर्टर बनकर नंदादेवी बेस कैंप जाते थे, तब महिलाओं का एक ही आग्रह होता था कि बेस कैंप से दो-चार खाली टिन के डिब्बे लाना मत भूलना। टिन के ये खाली डिब्बे हमारे नित्य जीवन में बड़ी सक्रिय भूमिका निभाया करते थे। अभियान दल की वापसी पर आप लोगों द्वारा ग्राम रैंणी के पुल पर एक मीटिंग का भी आयोजन किया था, जिसमें आपने फौज द्वारा लाए गए कचरे को हमारे सामने कुछ ऐसे प्रस्तुत किया था, जैसे कि वह हमारे द्वारा प्रकृति के साथ किए गए अपराध का ठोस सबूत हो।

हे! पर्यावरण के अखंड तपस्वी,

यही वह अवसर था, जब आपके साक्षात् दर्शन हुए थे। मैं अबोध और गंवार आपके हृदय में हिलोरे लेते प्रकृति प्रेम के सागर और उसमें पनप रहे उस तूफान से तब पूर्णत: अनभिज्ञ था, जो हमें समूचा लील जाने को अधीर था। इस नाचीज ने तब आपसे यह प्रश्न करने का साहस किया था कि इस कचरे का असली जिम्मेदार कौन
है? और आपने कहा था- इंसान। वह बड़ी अजीब स्थिति थी। एक तरफ मैं अपने समुदाय को इस अपराध से परे
रखने का तर्क रखना चाहता था और दूसरी तरफ, मां कसम, आपको चूम लेने की इच्छा भी हो रही थी। आपने
एक ही झटके में अमीर-गरीब, गोरा-काला, पोर्टर-मैंबर की सारी दीवारें गिरा दी थी और हमें भी इंसानों की श्रेणी में शामिल कर दिया था।

हे अपनी इंद्रियों को वश में रखने वाले विधियात्मा,

वर्ष 2003 में आपके द्वारा नंदादेवी बेस कैंप यात्रा का स्मरण करने की अनुमति चाहता हूं। संदेश मिला कि
प्रोफेसर सत्या कुमार साहब के साथ गए फौज के दस्ते का वायरलैस ऑपरेटर कोर जोन से लौटते समय बीमार
पड़ गया है। जैसे कि हमारे गांव की परंपरा रही है, सूचना मिलते ही मैं व अन्य ग्रामीण मदद पहुंचाने के उद्देश्य से तुरंत दुब्बल घाटी रवाना हो गए। आपके दल से मिलने पर पाया कि मरीज की जान खतरे में है और खराब मौसम के कारण हैलीकॉप्टर का उतरना असंभव है। आपको याद होगा कि दुब्बल घाटी से पोर्टर आप लोगों का सामान लेकर लाता खर्क निकल गए थे और उस भीषण वर्षा में थोड़े से राशन और तिरपाल की सहायता से मैंने भी आपके साथ दो रातें मात्र उस वायरलेस ऑपरेटर की जान की रक्षा के लालच में गुजारी थी। प्रोफेसर सत्या कुमार साहब थोड़ा और याद करेंगे तो आपको यह भी ध्यान आ जाएगा कि ये दो दिन और रात हम लोगों ने आस-पास की घास-पत्ती उबालकर और सूखी लकड़ियों को जलाकर बिताई थी। गांव लौटने पर जब इस घटना का जिक्र मैंने आपके साथ गए पोर्टरों से किया, तो वे आपको बुरा-भला कहने लगे। उनका कहना था कि ये आदमी पाखंडी है। बेस कैंप की यात्रा के दौरान बोझा ढोने वाला कोई पोर्टर यदि घास को पकड़कर सहारा लेने की कोशिश करता था, तो ये साहब जोर से चिल्लाने लगता था। जब तक इसके पास तंबू था, तो खराब मौसम में भी पत्थरों की आड़ में रात बिताने वाले पोर्टरों को आग जलाने की अनुमति न थी और जब अपनी जान पर बन आई तो सारे नियम-धर्म ताक पर रख दिए। बहरहाल! मैंने गांव वालों को यह कहकर शांत कर दिया था कि वे बड़े विद्वान पुरुष हैं। उन्हें परमात्मा ने वन्य जीवों के रक्षार्थ भेजा है। अत: मानवीय संवेदनाएं व सरोकार उनकी समझ के परे हैं।

हे संरक्षित क्षेत्रों के इष्ट गुरू!

मनुष्य होते हुए भी पशुवत् जीवन जीने वाला यह तुच्छ प्राणी क्या आपकी करूणा का पात्र नहीं है? हमारे पुराणों में रावण का उल्लेख है, जिसे दशानन अर्थात् दस सिर वाला भी बोलते थे। अपनी गंवार जड़ बुद्धि से मुझे
लगता है कि रावण के दस सिर जरूर दस किस्म की बात करते रहे होंगे। ऐसा ही उसकी दृष्टि के साथ भी रहा होगा।

हे! जैव विविधता के आराध्य देव,

क्या आपको कभी ऐसा प्रतीत हुआ है कि आप भी दशानन के एक मुख का प्रतिनिधित्व करते हैं? क्योंकि जो आप कहते और देखते हैं, वह आपके शरीर के दूसरे सिर को दिखाई नहीं देता! वन्य जीव संस्थान के रूप में
आप भी सरकार हैं और टी.एच.डी.सी.व एन.टी.पी.सी।
भी सरकार हैं। यह कैसा प्रभु का मायाजाल है कि आपके ज्ञान चक्षुओं से जहां जैव विविधता का भंडार है, जो ग्रामीणों के हगने-मूतने से भी नष्ट हो सकता है। उसी क्षेत्र में डाम विशेषज्ञों को कहीं कोई विविधता नजर नहीं आती और आप दोनों के ही सिर उस शरीर से जुड़े हैं, जिसे हम आदिवासी, 'सरकार’ कहते हैं। यह खेल गज़ब है। वन विभाग माणा से मिलम गांव तक बायोस्फेयर के नाम पर प्रतिबंध लगाता है और बांध के विशेषज्ञ नीति घाटी को नंदादेवी पार्क से बाहर बताते हैं। हमारे लिए इसका एक ही मतलब है यानि जो आपकी कलम का शिकार होने से बच गया, उसके लिए बांध के बुलडोजर की व्यवस्था है।

हे दुर्निग्रहम! अर्थात कठिनता से वश में होने वाले,

इस जगत में कीट-पतंगों से लेकर घास, कुशा और फूल-पत्तियों का भी अपना अस्तित्व है। ये सब एक-दूसरे
से जुड़े हैं। जैसे- हमारे घरों में होने वाली मधुमक्खियों का अस्तित्व मात्र मधु उत्पन्न करने के लिए नहीं, बल्कि फूलों के परागकणों की अदला-बदली के लिए भी था। मधुमक्खियां थीं, तो फूलों के प्रजनन की गारंटी थी। जैसे- फूल मधुमक्खियों के जिंदा रहने की अनिवार्य शर्त। मधुमक्ख्यां इसलिए थी, क्योंकि उन्हें हमारे घर में आश्रय मिलता था। यह आश्रय इसलिए मिलता था, क्योंकि हमें उनसे मधु मिलता था। अब न मुमक्खी है, न मधु। कदाचित आपका ध्यान इस ओर नहीं भी जाएगा, परंतु हे विद्या के मंदिर के गर्भगृह! हमारे समुदाय से मधुमक्खी की प्रजाति के नाश का आपकी जैव विविधता पर क्या प्रभाव पड़ा होगा, इस पर आप जैसे विद्वान की दृष्टि का न जाना सुनियोजित लगता है।

हे जैव विविधता के सचिन तेंदुलकर!

यह कैसा विरोधाभास है कि आप कंक्रीट की इमारत में रहकर भी प्रकृति की इबादत करते हैं और हम प्रकृति
के बीच रहकर भी उसके दुष्मन हैं। हमारे और आपके कार्बन उत्सर्जन में भले ही विराट असामानता हो, पर
प्रकृति की रक्षा का जिम्मा हमेशा आपकी ही बिरादरी का रहेगा। अंग्रेजों के जमाने से ही हमारे जंगलों का शोषण होता आ रहा है। ये अब जंगल भी कहां रहे। ये तो आप लोगों के खेत हैं। जिसमें आप अपनी आवश्यकता के हिसाब से पेड़ बोते हैं। हमारी जरूरतें और हमारे जंगलों में रहने वाले वन्य प्राणियों की जरूरतें आपकी जरूरतों से भिन्न हैं। मान्यवर, जंगलों में अब वन्य प्राणियों के लिए आहार बचा ही कहां है? भूख से बैचेन वन्य प्राणी जंगलों से बाहर आ रहे हैं और गांवों, बस्तियों व खेतों पर आफत ढा रहे हैं। इसमें भोले-भाले इंसान भी मर रहे हैं और बेजुबान वन्य जीव भी। इस सब के लिए कोई दोषी है, तो आप और आपकी बिरादरी द्वारा की जा रही शोध और उससे उपजा वन प्रबंधन।
विभिन्न राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय कार्यशालाओं में गरजने वाले ओ मिट्टी के शेर, हमारे यहां एक कहावत है कि- जो सो रहा हो, उसे जगाया जा सकता है। पर जो सोने का नाटक कर रहा हो, उसे जगाना नामुमकिन है। चूंकि आप हमारे नीति नियंता हैं, तो यह पूछने का अधिकार तो हमारा बनता ही है कि मान्यवर क्या आप सो रहे हैं या फिर सोने का नाटक कर रहे हैं। प्रकृति हो या समाज, उस पर आधिपत्य जमाने की साम्राज्यवादी प्रवृत्ति खत्म कहां हुई है? अंगुलि बंदूक के घोड़े पर हो या फिर अंगुलियों के बीच फंसी कलम को ही बंदूक बना दिया गया हो। निशाना लगने के बाद अनुभूति तो शिकारी की ही होती है न प्रोफेसर सत्या कुमार साहब! आज मेरा गांव जोशीमठ के बाजार के बिना जिंदा नहीं रह सकता। सदियों से किसानी करने वाला अब खेत के कम और बाजार के ज्यादा चक्कर काटता है। हमारी स्वावलंबी जीवन शैलियों से बलात्कार आपका संवैधानिक अधिकार है, पर यदि हम आपकी जीवनशैली पर अंगुलि उठाएं, तो वह आपकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता के मौलिक अधिकारों के हनन का मामला बन जाता है। मैं इतना पढ़ा-लिखा नहीं हूं, पर यह सवाल मेरे दिमाग में हमेशा कौंधता है कि आखिर साहब लोग हमारी तरह हाथ से क्यों नहीं धोते? आपकी बिरादरी द्वारा सिर्फ टायलेट पेपर के इस्तेमाल को बंद कर देने से प्राकृतिक संसाधनों व बढ़ते कार्बन उत्सर्जन को कितनी राहत मिलेगी, यह आपके शोध का विषय कब बनेगा? आदरणीय प्रोफेसर साहब! अपने अभिजात्य वर्ग के लालन-पालन के कारण यदि आप इस कौशल को सीखने से वंचित रह गए हैं, तो गांव लाता का कोई भी बच्चा आप लोगों को यह बिना कंस्लटैंसी या मानदेय के सिखाने को तैयार है।
हमारी स्वावलंबी जीवन शैलियों से बलात्कार आपका संवैधानिक अधिकार है, पर यदि हम आपकी जीवनशैली पर अंगुलि उठाएं, तो वह आपकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता के मौलिक अधिकारों के हनन का मामला बन जाता है। मैं इतना पढ़ा-लिखा नहीं हूं, पर यह सवाल मेरे दिमाग में हमेशा कौंधता है कि आखिर साहब लोग हमारी तरह हाथ से क्यों नहीं धोते? आपकी बिरादरी द्वारा सिर्फ टायलेट पेपर के इस्तेमाल को बंद कर देने से प्राकृतिक संसाधनों व बढ़ते कार्बन उत्सर्जन को कितनी राहत मिलेगी, यह आपके शोध का विषय कब बनेगा?

परम आदरणीय साहब,

हम लोकतंत्र में विश्वास रखते हैं और साथ ही उस अलौकिक सत्ता में भी जिसने बिना किसी परियोजना अथवा विश्व बैंक की सहायता से इस जंगल का निर्माण किया। जब हम पर विपत्तियां आती हैं, तो हम दोनों के ही दरवाजे खटखटाते हैं, लोकतंत्र के भी और उस परम सत्ता के भी जिसने इस सृष्टि का निर्माण किया। इस मामले में तो मैं आपको कतई बदकिस्मत ही कहूंगा कि आप नंदादेवी विश्व धरोहर की जैव विविधता को समझने तो आए, पर हमारे क्षेत्र की सांस्कृतिक धरोहर को समझने व आत्मसात करने से वंचित रह गए। अपने पूर्वाग्रहों के कारण आपने स्वयं अपनी ज्ञानप्राप्ति के वह दरवाजे बंद कर दिए, जो आपको एक स्वावलंबी सामाजिक-सांस्कृतिक इकाई के उसके प्राकृतिक वातावरण के साथ सदियों से स्थापित सतत सहजीवी संबंधों को समझने की दिशा प्रदान करते। आपके अधूरे शोधों ने लोकतंत्र के कानों को बंद और उसके दिमाग को दूषित कर दिया है। पर ऐसा करते हुए स्वयं आपके दूषित मंतव्य भी जग जाहिर हो गए हैं।
पर्यावरण अध्ययन से हुई कमाई को एन.टी.पी.सी, वेदान्ता और जी.वी.के जैसी कम्पनियों के शेयर में लगाने की बेशक़ आप लोगों को वैधानिक इजाजत है, पर यदि इस जगत में पाप करने की भी कोई कैरयिंग कैपेसिटि है, तो आप लोगों का घड़ा कब का भर चुका है!
क्योंकि बांधों से प्रकृति पर पड़ने वाले प्रभावों की लड़ाई में आप नदारद हैं। हमारे लोगों का यह भी मानना है कि संभवत: अपनी रोजी-रोटी और नौकरी के चलते आप दिल से चाहकर भी यह कदम उठा ना पा रहे हों। हमारे यहां प्राकृतिक और सामाजिक प्रबंधन हेतु सदियों से चली आ रही 'बारी" व्यवस्था है। इसके अंतर्गत हम आपकी व्यवस्था करने को प्रतिबद्ध रहेंगे। यदि आप यथोनाम तथो गुण को चरितार्थ करने का साहस करें। जाहिर है कि आप और आपकी कथित वैज्ञानिक बिरादरी के पास अपने तर्क होंगे, जिसमें अपनी नौकरी को बचाने और बाल-बच्चे पालने के भी सरोकार होंगे, जो कि स्वाभाविक भी है। पर आपके जूठे बर्तनों को धोने और नित्य फर्श पर पोचा लगाने जो आती है, उसके अस्तित्व को आप अपने पारिस्थितिकीय के समग्र ज्ञान में कहां रखते हैं प्रोफेसर साहब? कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक लाखों आदिवासी परिवारों को कहीं संरक्षण तो कहीं बांध अथवा खान के नाम पर बेदखल किया गया है, जो आप जैसे साहब लोगों के लिए सस्ती मजदूरी से लेकर मानवीय अंगों और विकृत मनोरंजन का मुख्य स्रोत बन जाते हैं। पर्यावरण अध्ययन से हुई कमाई को एन.टी.पी.सी, वेदान्ता और जी.वी.के जैसी कम्पनियों के शेयर में लगाने की बेशक़ आप लोगों को वैधानिक इजाजत है, पर यदि इस जगत में पाप करने की भी कोई कैरयिंग कैपेसिटि है, तो आप लोगों का घड़ा कब का भर चुका है! हमारे लोकगीतों में सृष्टि की रचना के गीत हैं, जिसमें निरंकार का भी जिक्र है और अहंकार का भी। आपके पास भी अपने ज्ञान का अहंकार है पर आपका ज्ञान अधूरा है और आपका अहंकार प्रकृति के अहंकार के सामने बौना है। इन्हीं रहस्यमयी रास्तों से हमारी व्यथा भी उस तक पहुंचती है, जिसके समग्र नियमों को समझने में आप
असफल रहे हैं। उसी के मायावी संसार में "हाय" अथवा "असकार" भी एक शब्द है, बल्कि पूरी व्यवस्था है। हम
मानते हैं कि यह अत्याचारियों और आतताईयों को सबक सिखाती है। यह हमारे हाथ के बाहर की बात है पर हमारा करुण रुदन और विलाप इसके कारण हो सकते हैं। फिर भी हम इतने घटिया या तुच्छ नहीं कि किसी
के अनिष्ट के बारे में सोचें। पर साथ ही हम यह भी मानते हैं कि हमारे साथ हुए अन्याय का 'असकार" जगत के
उन्हीं अनबूझे नियमों के तहत एक स्वाभाविक और अनिवार्य प्रक्रिया है। शांत मन से, बिना किसी पूर्वाग्रह के आंखों को बंद करके सोचेंगे तो इसी नतीजे के इर्द-गिर्द पहुंचेंगे कि जिस रास्ते से आप अपने संरक्षण के विषय को ले जाना चाहते हैं, वह वहां नहीं ले जाता, जहां उसे ले जाना चाहिए था। इसके बाद आईने में अपनी आंखों से आंखें ईमानदारी से मिलाएंगे तो आपको स्वत: यह अहसास हो जाएगा कि अब तक का जीवन व्यर्थ गया। यही "असकार" है, पर यह अंत नहीं! पश्चाताप करने का कोई समय या आयु सीमा नहीं होती।
बाकी फिर कभी
लाता से धन सिंह और उसके ग्रामवासी


धन सिंह राणा द्वारा लिखित एवं डॉ. सुनील कैंथोला
द्वारा संपादित-
खुला पत्र


भेड़ चरवाहे

ऊंचे पहाड़ों पर देवता नहीं
चरवाहे रहते हैं
भेड़ों में डूबी उनकी आत्मायें

खतरनाक ढलानों पर
घास चुगती हैं

पिघलती चोटियों का रस
उनके भीतर
रक्त बनकर दौड़ता है

उड्यारों में दुबकी काया
बर्फिली हवाओं के
धार-दार चाकू की धार को भी
भोंथरा कर देती है

ढंगारों से गिरते पत्थर या,
तेज उफनते दरिया भी
नहीं रोक सकते उन्हें आगे बढ़ने से
न ही उनकी भेड़ों को

ऊंचे- ऊंचे बुग्यालों की ओर
उठी रहती हैं उनकी निगाहें

वे चाहें तो
किसी भी ऊंचाई तक
ले जा सकते हैं भेड़ों को
पर सबसे वाजिब जगह
बुग्याल ही हैं
ये भी जाने हैं

ऊंचाईयों का जुनून
जब उनके सिर पर सवार हो
तो भी
भेड़ों को बुग्याल में ही छोड़
निकलता है उनमें से कोई एक
बाकि के सभी
बर्फ से जली चट्टानों की किसी खोह में
डेरा डाले रहते हैं
बर्फ के पड़ने से पहले तक

भेड़ों के बदन पर
चिपकी हुई बर्फ को
ऊन में बदलने का
खेल खेलते हुए भी
रहते हैं बेखबर
कि उनके बनाये रास्ते पर
कब्जा करती व्यवस्था जारी है,

ये जानते हुए भी कि
रुतबेदार जगहों पर बैठे
रुतबेदार लोग
उन्हें वहां से बेदखल करने पर आमादा हैं,
वे नये से नये
रास्ते बनाते चले जाते हैं
वहां तक
जहां, जिन्दगी की उम्मीद जगाती
घास है
और है फूलों का जंगल

बदलते हुए समय में
नक्शेबाज दुनिया ने
सिर्फ इतनी ही मद्द की
कि खतरनाक ढाल के बाद
बुग्याल होने का भ्रम अब नहीं रहा
जबकि समय की नक्शेबाजी ने
छीन लिया बहुत कुछ
जिस पर वे लिखने बैठें
तो भोज-पत्रों के बचे हुए जंगल भी
कम पड़ जाएंगे

भोज-पत्रों के नये वृक्ष रोपें जायें
पर्यावरणवादी सिर्फ यही कहेगें

उनके शरीर का बहता हुआ पसीना
जो तिब्बत के पठारों में
नमक की चट्टान बन चुका गवाह है
कि सुनी घाटियों को गुंजाते हुए भी
अनंत काल तक गाते रहेगें वे
दयारा बुग्याल हमारा है
नन्दा देवी के जंगल हमारे हैं
फूलों की घाटी में
पौधों की निराई-गुड़ाई
हमारे जानवरों ने
अपने खुरों से की है


-विजय गौड़     

8 comments:

डॉ .अनुराग said...

कविता आत्मा को झझोरती है ....विकास के कुछ साइड इफेक्ट्स के साथ मनुष्य की अपने स्वार्थ के कारण प्रकर्ति के दोहन को जैसे विवशता से देखते रहने की गुहार है ...आने वाली नसले हमें शायद क्षमा न करे

Maria Mcclain said...

interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this site to increase visitor.Happy Blogging!!!

प्रदीप कांत said...

बदलते हुए समय में
नक्शेबाज दुनिया ने
सिर्फ इतनी ही मद्द की
कि खतरनाक ढाल के बाद
बुग्याल होने का भ्रम अब नहीं रहा
जबकि समय की नक्शेबाजी ने
छीन लिया बहुत कुछ
जिस पर वे लिखने बैठें
तो भोज-पत्रों के बचे हुए जंगल भी
कम पड़ जाएंगे
______

झझोरती है कविता

Dr. D. Sati said...

This letter addressed to Prof. Satya Kumar of Wildlife Institute of India, Dehra Dun by Shri Dhan Singh Rana from a buffer zone village of Lata in Nanda Devi Biosphere Reserve raise some important issues related to evaluation of Environmental Impact Assessment in the mountain areas where the upper reaches are declared as National Parks or Wildlife Reserves and valleys are occupied by hydropower projects besides laying of highway networks in the available limited land strip. It really necessitates a relook into government’s biodiversity conservation policy vis-à-vis developmental projects. There should not be two different yardsticks to measure environmental impacts on a common resource. Above all in such biodiversity conservation programs, where are the local communities who remained dependent on the local resources for centuries! Unfortunately non holistic approach to the environmental problems is creating all sorts of nonsense and it should be stopped!

अजेय said...

कविता तो पहले ही पढ़ रखी है. चिट्ठी कमाल की है. इधर लोगों को पढ़ाऊंगा .... आभार.

मुनीश ( munish ) said...

जी दुखाती है ये कविता ! क्या किया जाना है ये भी तो कहें !

KEEPTHEWORD said...

I do not see here dilemma of balancing environment and development because what seems to me from Dhan Singh ji observations is that our very understanding of development is skewed. We first need to sort this and ask is the building of a hydro-electric project in Dhauli Ganga Valley “development.”
Any environmental assessment done by a consultant (I would not like to use the word scientist here) is already biased against the world view and lifeworld of the local community. We end up comparing numbers and calculating cost-benefit analysis on the basis of a questionable premise of “development.”
I think, it is very clear that it is about just making money at the cost of environment and lives of local communities. Building a dam will make all the stakeholders (the construction company and its employees, bureaucrats, politicians and local petty contractors and businessmen) richer, but will not only cause destruction to the local ecology and lifeworld in the long term.

Anup Kumar,
Cleveland

तुषार राज रस्तोगी said...

सार्थक लेखन |

कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page