Wednesday, August 11, 2010

पत्रकार वार्ता

देहरादून

नया ज्ञानोदय के अगस्त अंक में प्रकाशित साक्षात्कार में महिला रचाकारों के रचनाकर्म पर की गई अभद्र टिप्पणी के विरोध में आयोजित पत्रकार वार्ता में देहरादून के विभिन्न सामजिक साहित्यिक संगठनों के बीच स्पष्ट एकता दिखायी दी। महिला समाख्या, जागो रे अभियान, उत्तराखंड महिला मंच, संवेदना, दिशा सामाजिक संगठन, वाइज, प्रगतिशील महिला मंच की प्रतिनिधियों ने सामूहिक तौर पर पत्रकारवार्ता को संबोधित किया। साक्षात्कार में की गई टिप्पणी की निंदा करते हुए महात्मा गांधी राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा के कुलपति और साहित्यकार विभूतिनारायण राय के इस्तीफे की मांग शिक्षा मंत्री से की गई। वार्ता में शामिल महिला संगठनों का मानना था कि विभूतिनारायण राय की ओर से की गई टिप्पणी उनकी कुत्सित मानसिकता को दिखाती है। पत्रकार वार्ता को संबोधित करने वालों में गीता गैरोला, कमला पंत, मनमोहन चड्ढा, पदमा गुप्ता आदि मुख्य रहे। देहरादून के अन्य साहित्यकार और सामाजिक, सांस्कृतिक संगठनों के बहुत से कार्यकर्ता इस अवसर पर उपस्थित रहे।

4 comments:

vidya singh said...

lekhikaon par ki gayi abhadra tippadi ka mahilasangathan tatha anya logon dwara kiye gaye virodh ka mkp staff purjor samarthan karata hai. is prakar ki kutsit maansikata ki kade shabdon mein ninda ki jaani chahiye.

Ek ziddi dhun said...

yh achha hai ki dilli se bahar bhi bolne wale bol rahe hain

Geeta Gairola said...

kewal dun mai hee nahee nainital tehari kotdara udhamsinghnagar champawat mai bhee mahilaon dwara jabardast virodh darj kiya gaya hai. aurton kee ath das atmkathaon se etna dar.are abhee to ye angraee hai age dekhiye hota hai kya

rajendra said...

naya gyanoday me shri vibhutinarayn rai se mai puri tarah sahmat hun, bas unhe chhinal ki jagah koi any prayaywachi shabd prayog karna tha.

rajendra gupta, dehradun