Tuesday, January 4, 2011

आजाद परिंदों के सामने भारी भरकम वृक्षों की कतारें भी बे-मायना होती हुई दिखाई देती हैं

अब्बास कैरोस्तामी आधुनिक इरान के सबसे बड़े फ़िल्मकार माने जाते हैं...इरानी शासन की अजीबो गरीब और बेहद रुढ़िवादी सांप्रदायिक सोच के कारण अन्य इरानी फिल्मकारों की तरह उन्हें भी फिल्म निर्माण में गंभीर कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है.यही कारण हैं कि कई बार ऐसा लगने लगता है कि उनके लिए भविष्य में कोई फिल्म देश के अंदर बनाना मुश्किल होगा.उनका रचनात्मक मन ऐसे उदास मौकों पर  कला के अन्य पक्षों ...जैसे फोटोग्राफी , पेंटिंग और कविता की ओर मुखातिब होता है...यहाँ प्रस्तुत हैं अब्बास के चार फोटोग्राफ जिनमें चाहे घनघोर बरसात हो या भारी हिमपात...अपना सिर उठाये आजाद परिंदों के सामने भारी भरकम वृक्षों की कतारें भी बे-मायना होती हुई दिखाई देती हैं:     
  आगे जल्दी ही अब्बास की फिल्मों,पेंटिंग्स और कविता पर पोस्ट लगायी जाएगी.
 
                                                                                                                
 
चयन और प्रस्तुति: यादवेन्द्र  

6 comments:

नया सवेरा said...

...khoob !!

डॉ .अनुराग said...

dilchasp!

अशोक कुमार पाण्डेय said...

सुन्दर…बहुत सुन्दर

प्रदीप कांत said...

बहुत ही सुन्दर

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर|

वर्षा said...

तस्वीर ही बहुत कुछ कहती है।