Tuesday, March 1, 2011

बीबीसी रेडियो


शमशेर सिंह बिष्ट

गिरदा के अचानक जाने के बाद सुबह-शाम स्थानीय से अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर विचार-विमर्श का जो सिलसिला टेलीफोन पर बात करने का होता था, वह खत्म हो गया। कई दिनों तक आदतन हाथ टेलीफोन में 05942-23XX30  पर चला जाता था। तब झटके से ख्याल आता कि अब तो इस टेलीफोन पर गिरदा से कभी बात हो ही नहीं पायेगी।

ऐसा ही एक जर्बदस्त धक्का तब लगा, जब मालूम पड़ा कि 27 मार्च, 11 बीबीसी बन्द होने वाला है। तब फिर सुबह 6.30 बजे आदतन हाथ ट्रांजिस्टर पर बीबीसी लगाने के लिये जायेगा, लेकिन फिर एकाएक ध्यान आ जायेगा कि इस रेडियो से तो बीबीसी ने हमेशा के लिए बोलना बंद कर दिया है। गिरदा व बीबीसी में अन्तर इतना ही है कि गिरदा ने अचानक बोलना बंद किया, जबकि बीबीसी बाकायदा घोषणा कर अपनी आवाज बंद करने जा रहा है। गिरदा के साथ जहाँ 35 वर्ष का सम्बन्ध रहा, वहीं बीबीसी के साथ 50 वर्ष पुराना।

तब आठवीं कक्षा में अल्मोड़ा इण्टर कालेज में बढ़ता था। सुबह प्रार्थना के बाद प्रधानाचार्य नीलाम्बर जोशी का वक्तव्य होता था, जिसमें वे दुनिया भर की घटनाओं का विवरण भी देते थे। हमें आश्चर्य होता कि अखबार तो दिल्ली से दूसरे दिन पहुँचते हैं, जोशी जी कैसे एक दिन पहले ही खबरें बता देते हैं। मैंने हिम्मत करके एक दिन जोशी जी से पूछ ही लिया, तो उन्होंने बताया कि वे नियमित रूप से बीबीसी सुनते हैं। उन दिनों हमारे मोहल्ले, पल्टन बाजार में सिर्फ बचीलाल जी के पास ही रेडियो था, जिसे वे सुबह आठ बजे आकाशवाणी के समाचारों के लिए ही चालू करते थे।

मोहल्ले के सभी इच्छुक लोगों के साथ मैं भी वहाँ होता। जब नवीं कक्षा में गया तो ‘काकू’ के नाम से जाने जाने वाले एक सीआईडी इन्सपेक्टर रिटायर होकर हमारे मोहल्ले में आ गये। उनके पास एक रेडियो था, जिसके पीछे एक बड़ी बैट्री लगती थी। वे शाम को बीबीसी सुनते थे। मैं नियमित रूप से उनके घर जाने लगा। जब बड़े भाई साहब की शादी हुई तब उन्हें दहेज में एक ट्रांजिस्टर मिला। मुझे सुबह-शाम, दोनों समय बीबीसी सुनने की सुविधा मिल गई। बी.ए. में मैं सबसे पीछे की बेंच पर बैठता था।

एक दिन राजनीति विज्ञान की कक्षा में पूछा गया कि भारत में किन-किन राज्यों में विधान परिषद है ? सिर्फ मेरा ही जवाब सही निकला, क्योंकि दो दिन पहले ही बीबीसी से मालूम हुआ था कि पं. बंगाल में विधान परिषद समाप्त कर दी गई है। सन् 1972 में अल्मोड़ा छात्र संघ के चुनाव की जनरल गैदरिंग के दिन मुझे भाषण करना था। मेरे शुभचिन्तक मुझे बता रहे थे कि तुम्हें यह कहना चाहिए, वह कहना चाहिये। लेकिन उन्हीं दिनों भारत के एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक ने उत्पीड़न के कारण आत्महत्या कर ली थी। मैंने बीबीसी से प्राप्त जानकारी के आधार पर अपना पूरा भाषण इसी पर केन्द्रित कर दिया। नतीजन मुझे 92 प्रतिशत मत मिले थे। लोगों को उन दिनों यह भ्रम होने लगा था कि मै बहुत अध्ययन करता हूँ।

मुझे हर विषय का ज्ञान है। लेकिन बात सिर्फ इतनी थी कि मैं बीबीसी का नियमित श्रोता था। बीबीसी के नियमित श्रोता, गिरदा के रूम पार्टनर रहे राजा के अंतिम दिनों का एक दृश्य याद आता है। तब वह जंगल के बीच एक अंधेरे कमरे में रहता था। नीम अंधेरे में एक दिया टिमटिमाता होता और बीबीसी की आवाज उस जंगल को गुंजायमान करती। जब उसकी मृत्यु हुई तो उसके कमरे से सबसे मूल्यवान चीज रेडियो ही निकला था। एक बार जब बीबीसी की टीम कुमाऊँ दौरे पर आई थी। एक दिन राजा ने कहीं से मुझे टेलीफोन किया कि वह टीम अल्मोड़ा पहुँच गई है। रामदत्त त्रिपाठी किसी पान की दुकान से बोल रहे हैं। पूछताछ करने पर मालूम हुआ कि वे अल्मोड़ा में नहीं, नैनीताल की किसी पान की दुकान से बोल रहे हैं। राजा को बहुत निराशा हुई।

हमारा जनान्दोलनों का एक साथी बसन्त खनी आजकल धौलादेवी के अपने गाँव में बकरी चराता है। वहाँ बिजली नही है। फिर भी वह नियमित रूप से बीबीसी सुनता है। उसकी जानकारी विश्वविद्यालय के किसी प्रवक्ता से अधिक है। अल्मोड़ा में ऐसे सैकड़ों श्रोता मिल जायेंगे। बीबीसी सिर्फ समाचार ही नही देता बल्कि व्यक्तित्व का भी निर्माण करता है। जब कभी नैनीताल गया, तो राजीव के बड़े भाई ‘मालिक साब’ से बीबीसी के समाचार मालूम हो जाते हैं। बाएँ से खड़े हुए--गोपाल भनोट, पुरुषोत्तम लाल पाहवा, रत्नाकर भारतीय, मार्क टली, गौरीशंकर जोशी, आले हसन. बाएँ से बैठे हुए--हिमांशु कुमार, सुषमा दत्ता, ओंकारनाथ श्रीवास्तव बीबीसी को लोग क्यों पंसद करते है ? सच यह है कि बीबीसी प्रामाणिकता के साथ और तत्काल खबरें प्रसारित करता है। कभी दबाव या पक्षपात उसके प्रसारण में नहीं देखा गया। उसका विश्लेषण अद्भुत है।

रेडियों की सुई घुमाते हुए बीबीसी ढूँढने में कठिनाई नही होती, क्योंकि उसके वाचकों का समाचार प्रस्तुत करने का तरीका निराला है। मेरे कई वामपंथी मित्र एक पूँजीवादी देश का प्रसारण होने के कारण बीबीसी पर वाम विरोधी होने का आरोप लगाते हैं। मुझे ऐसा नहीं लगता। भारत के माओवादियो की खबरें जितनी निष्पक्षता से बीबीसी देता है, उतना भारत का कोई प्रचार माध्यम नहीं देता। आज तो भारत का लगभग पूरा मीडिया कारपोरेट क्षेत्र का गुलाम बन गया है। ऐसे में बीबीसी का बंद होना निश्चित रूप से लोकतंत्र पर आघात है, क्योंकि लोकतंत्र में सबसे बड़ा लाभ ही बोलने की आजादी है। बीबीसी विज्ञापनों का गुलाम नहीं है, भले ही उसे ब्रिटिश सरकार के विदेश विभाग की मदद मिलती हो। इसी के चलते उसकी विश्वसनीयता बनी हुई थी। ब्रिटेन को तो लोकतंत्र की जननी कहा जाता है, तो क्यों फिर ब्रिटेन सरकार बीबीसी का प्रसारण बंद कर विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र पर रेडियों पर कुठाराघात कर रही है ? जबकि आज भी भारत में करोड़ों लोग बीबीसी सुनते हैं।

भारत के आकाशवाणी से यह आशा कभी नहीं की जा सकती। निजी क्षेत्र में भी कोई ऐसा संस्थान नहीं है जो इसकी पूर्ति कर सके। आज 13 फरवरी को फैज अहमद फैज की 100वीं जयन्ती मनाई जा रही है। आकाशवाणी से सुबह के समाचार में एक शब्द भी फैज के बारे में नहीं था। लेकिन बीबीसी ने फैज के बारे में ही नहीं बताया, बल्कि उनकी पुत्री का इन्टरव्यू भी श्रोताओ को सुनवाया। 12 फरवरी को मिश्र में सम्पन्न रक्तक्रांति के दिन प्रतिदिन का हाल और सारा राजनैतिक विश्लेषण बीबीसी ने प्रस्तुत किया। लगता है, बीबीसी पर भी कारपोरेट सेक्टर का दबाव बढ़ता जा रहा है। भूमण्डलीकरण के इस युग में लोकतंत्र से बड़ा बाजार हो गया है।

भारत भी एक बड़ा बाजार है। इसलिये आशंका है कि रेडियो का खात्मा कहीं मोबाइल का बाजार को बढ़ाने के लिये तो नही किया जा रहा है, क्योंकि मोबाइल और इंटरनेट पर तो बीबीसी चलता रहेगा। परन्तु रेडियो से बीबीसी का जाना एक युग का अन्त होगा। मेरे पास आज जो रेडियो है, वह बीबीसी के लिये ही रखा है। तब मेरा रेडियो से नाता ही समाप्त हो जायेगा।


नैनीताल समाचार से साभार

4 comments:

सुबीर रावत said...

शमशेर सिंह बिष्ट जी का आलेख दिल को छू गया. बी बी सी के बंद होने की खबर वास्तव में अत्यंत पीड़ादायक है. बिष्ट जी जितने अच्छे वक्ता हैं उतने ही अच्छे लेखक भी. ....... आभार. और प्रकाशित कर आपने भी सराहनीय कार्य किया है. बधाई.

सतीश सक्सेना said...

यह खबर चौकाने वाली और नुकसानदेह साबित होगी ! आप औरों से अलग लगे ! हार्दिक शुभकामनायें !

डॉ .अनुराग said...

यक़ीनन वहां कई काबिल ओर अहसासों से शिद्दत से जुड़े लोग थे.....जिनकी भरपाई मुश्किल है ..एक अच्छे ओर बेहतर समाज के लिए अच्छे कहने सुनने वालो का होना जरूरी होता है

प्रदीप कांत said...

कि रेडियो का खात्मा कहीं मोबाइल का बाजार को बढ़ाने के लिये तो नही किया जा रहा है, क्योंकि मोबाइल और इंटरनेट पर तो बीबीसी चलता रहेगा। परन्तु रेडियो से बीबीसी का जाना एक युग का अन्त होगा। मेरे पास आज जो रेडियो है, वह बीबीसी के लिये ही रखा है। तब मेरा रेडियो से नाता ही समाप्त हो जायेगा।

___________________________________


बाज़ार है दोस्त,
सब कुछ सम्भव है