Thursday, March 3, 2011

खिलखिलाने दो उसे सरे बाजार

मौज लेना एक चालू मुहावरा है। फिर उसके साइड इफ़ेक्ट पर बात करना ? ली गई मौज को मस्ती मान लिया जाए तो मौज बहार आ जाए। मौज का यथार्थ थोड़ा ज्यादा शालीन और कम औपचारिक होते हुए दोस्तानेपन का सबब बने।
हमारे घर के पास रहने वाला वह लड़का जो बोलते हुए हकलाता था, अल्टी नाम था उसका, सब उससे मौज लेते थे। वह भी कम न था। हकला-हकला कर गाली देते हुए पीछे भागता और मौज लेने को आतुर भीड़ से दूसरे की भी मौज लिवाने में कोई कसर न छोड़ता। हालांकि, नहीं जानता था कि उसके हुनर में ही वह ताकत है जो हर एक को मौज लेने का अवसर देती है और माहौल को कुछ ज्यादा आत्मीय बनाती है। डॉक्टर 'होगया’ भी ऐसे ही हुनर का मास्टर, उपन्यास 'फाँस’ का एक पात्र है। प्रस्तुत है उपन्यास का एक छोटा-सा अंश।


         रात के अंधेरे को परे धकेल, खुल चुकी सुबह का वह ऐसा समय था, जब अलसाई हुई दुनिया के मुँह पर पानी की छपाक मारता वह बाजार, जो कस्बे को शहर में तब्दील करने की ओर था, आँखें धो चुका था। रेहड़ी वाले मण्डी से उठाए माल को झल्लियों और माल ढुलाई के लिए लगी गाड़ियों पर लदवा रहे थे। ज्यादातर सब्जी वाले लद चुकी रेहड़ियों को धकेलते हुए अपने-अपने ठिकानों को निकल चुके थे। ठिकानों पर पहुँच चुकी रेहड़ी वाले रेहडियों पर सब्जियां सजाने लगे थे। फल वालों का माल अभी झल्लियों में झूलता चला आ रहा था। टमाटर वाला पेटियों को खोल-खोलकर एक-एक टमाटर उठाता, झाड़न से साफ करता और बहुत ही तल्लीनता से मीनार दर मीनार चढ़ाता जा रहा था। गारे मिट्टी की दीवारों को चिनने वाला कोई कारीगर देखता तो जरूर ही ठिठ्कता। ईर्ष्या करना भी चाहता तो टमाटर के रंग और उनकी चमकती सतह पर टिकी निगाहें उसे उल्लास से भर देती। वह फल वाला, जो पहले सब्जी का काम करता था और अब पफल बेचने लगा था, अपनी पूर्व आदत के साथ अब भी तड़के ही माल उठाने मण्डी पहुँच जाता। उन फल वालों की तरह उसने अपनी आदत बदली नहीं थी, सब्जी वालों के निकल जाने के बाद जो मण्डी पहुँचते और इस तरह देर से मण्डी पहुँचने में अपनी शान समझते। टमाटर वाले की तरह उसके हाथ भी पफलों को झाड़ने-पोंछने में व्यस्त थे। सँतरों को झाड़न से पोंछ-पोंछकर रेहड़ी पर सजाते हुए, चमकते छिलों को देखकर उसका मन प्रफुल्लित हो रहा था। केले के गुच्छे अभी रेहड़ी के किनारे ही रखे थे, बहुत जल्द ही वह उन्हें धागे से लटका देने वाला था। रेहड़ी पर उठायी हुई छप्पर में लगाई गईं खपच्चियाँ उसने पहले से ही केलों के लिए निर्धरित की हुई थी। सेब की पेटी को उसने अभी तोड़ा नहीं था।
आलू-प्याज वाले ने आलू और प्याज के बोरों का खुला मुँह अपनी ओर को रख, उन्हें ज्यों का त्यों बिछाकर अपना ठिया जमा लिया था। गंदे नाले का वह किनारा, लम्बे समय से टूटी पुलिया के कारण जो पैदल चलने वालों के लिए कुछ खतरनाक हो गया था, उसका ठिया था। बगल में ही खड़ी रेहड़ी से एक कप चाय और साथ में बेकरी का बना पंखा, जो मुँह में जाते ही किरच-किरच करता, उसने खरीदा और सुबह का नाश्ता करने लगा। पुलिया के ठीक सामने, दूसरी ओर, सड़क के किनारे वाली कपड़ों की दुकान का मालिक शॅटर को मत्था टेकने के बाद ताला खोल चुका था और बादलों की गड़-गड़ाहट-सी आवाज करते शॅटर को उसने ऊपर उठा दिया था। दुकान के अन्दर धूप-बत्ती कर और गल्ले को हाथ जोड़ने की कार्रवाई अभी उसे जल्द से निपटानी थी और ग्राहक के इंतजार में मुस्तैदी से बैठ जाना था। बगल की दुकान में बर्तन वाला धूप-बत्ती करने के बाद आतुरता से बोहनी हो जाने का इंतजार कर रहा था। दूसरे दुकानदार भी व्याकुलता से बोहनी का ही इंतजार कर रहे थे।

- बिना हील-हुज्जत वाला ही ग्राहक आए---हे भगवान!

केले वाला मन ही मन कल सुबह-सुबह ही आ गए उस ग्राहक की याद को अपने मन से मिटा नहीं पाया था, जिसने बोहनी के वक्त ही तू-तू, मैं-मैं कर देने को मजबूर कर दिया था और जिसका असर दिन भर की बिक्री पर पड़ा, ऐसा वह माने बैठा था।

- हे भगवान कहीं आज पिफर ऐसा न हो जाए!

लेकिन डॉक्टर 'होगया" की उपस्थिति में उस ग्राहक की स्मृतियां उसके भीतर बची रहने वाली नहीं थी। अपने क्लीनिक की ओर आते डॉक्टर को देख वह बीते दिन के वाकये को एकदम से भूल चुका था और जोर से चिल्लाया -        

- होगया--- होगया---।

डॉक्टर उसी की ओर देख रहा है, यह ताड़ते ही उसने भरसक कोशिश की चुप होने की लेकिन एक क्षण को उसका मुँह खुला का खुला ही रह गया। शब्द मुँह से छूट चुके थे। डॉक्टर की निगाह से वह अपने को छुपाने में पूरी तरह से नाकामयाब रहा। क्लीनिक में भी अभी ठीक से न पहँुचा डॉक्टर 'होगया’ केले वाले की हरकत से बुरी तरह चिढ़ गया था। उसके मुँह से दना-दन गालियां फूटने लगी। केले वाला आगे-आगे और डॉक्टर उसके पीछे-पीछे दौड़ने लगा। डॉक्टर की पकड़ में आने से बचने के लिए केले वाला बित्ती भर चुका था। अब डॉक्टर होगया के लिए उसको पकड़ना आसान नहीं था। कहाँ पचास पार कर चुका डॉक्टर और कहाँ उसकी आधी उमर का वह उदंड। डॉक्टर की साँस उखड़ने लगी थी। वह एक ही जगह पर खड़े होकर उखड़ती साँसों से गालियां बकने लगा,

- ओ तेरी माँ का हो गया---साले हरामी तेरा हो गया।

डॉक्टर को रुका हुआ देख, बचकर भाग रहा वह केले वाला भी रुक गया और वहीं से खड़े होकर डॉक्टर को चिढ़ाने लगा। दूर से खड़े होकर अपने को चिढ़ाते उस हरामी का क्या करे ?, डॉक्टर की समझ नहीं आ रहा था। तभी कोई दूसरा चिल्लाया,

- होगयाह्णह्णह्ण--- होगयाह्णह्णह्ण---।

डॉक्टर नीचे झुका हुआ था और पाँव से चप्पल निकाल रहा था। परेशान था कि कैसे निपटे इन हरामियों से। निगाहें उसी पर टिकी थी, जो अब भी दूर से खड़ा होकर तरह-तरह की हरकत करते हुए चिढ़ाये जा रहा था। डॉक्टर अचानक उस ओर को घूमा जिधर से दूसरी आवाज आई थी और बिना देखे ही उसने चप्पल उस ओर को दे मारी। चप्पल सीधे उस झल्ली वाले के लगी, जो सिर पर रखी केलों की झल्ली को नीचे उतार रहा था। चारों ओर से हँसी का फव्वारा छूट गया। सड़क के आर पार के रेहड़ी वालों के साथ-साथ, बिना ग्राहकों के खाली बैठे दुकानदार भी खिल-खिलाने लगे और शुरु हो चुके तमाशे में शामिल हो गए। मुश्किलों से ही जिनके चेहरे पर हँसी की कोई रेखा खिंचती हो, ऐसे लोगों के लिए भी मुस्कराये बिना चुप रहना संभव न रहा। झल्ली वाला, चप्पल जिसके बेवजह पड़ी थी, खुद भी खिल-खिला रहा था,

-क्या ---'होगया’--- डॉक्टर साहिब --- यूं ही बिना देखे ही हमको बजा दिये ?

बेवजह ही एक निर्दोष को चप्पल मार देने पर डॉक्टर को अपनी गलती पर माफी माँगनी चाहिए, ऐसा सोचने वाले अजनबियों के लिए तो पूरा मामला ही पेचिदा हो गया कि डॉक्टर तो उल्टा झल्ली वाले को भी गालियां सुना रहा है।

- हरामखोर अभी देखता  तुझे --- साले तेरे नहीं होता है क्या ?
  
झल्ली वाला और भी खिल-खिलाकर हँसने लगा। उसके इस तरह खिल-खिलाने से खिसियाया हुआ डॉक्टर पिफर से गालियां बकने लगा। ''होगया--- होगया" की आवाजें अब हर तरफ से आ रही थीं। डॉक्टर कभी एक ओर को मुँह कर गाली देता तो कभी दूसरी ओर। उछल-उछल कर गाली देते हुए उसकी साँस फूलने लगी थी। चप्पल उठाने के लिए झल्ली वाले की ओर दौड़ ही रहा था कि तभी न जाने कहाँ से तुफैल दौड़ता हुआ आया और 'होगया" चिल्लाते हुए उसने चप्पल पर जोर से किक जमा दी। चप्पल हवा में उछलकर उस ओर जा गिरी जिधर बित्ती भरकर दौड़ने वाला, खड़ा होकर सुस्ता रहा था। वह आश्वस्त था कि अब तो डॉक्टर उसकी बजाए तुफैल से निपटना चाहेगा। तुफैल की हरकत पर डॉक्टर पूरी तरह से झल्ला भी गया,

- अबे रुक साले कटवे के--- तेरी माँ का होगा मादरचो---। हरामखोर अभी तो तू भी पूरी तरह से नी हुआ---।

दूसरे पाँव की चप्पल उतार कर उसने उस ओर उछाली, जिधर तुफैल दौड़ रहा था। पिद्दी-सा तुफैल तेजी से दौड़कर सड़क के पार निकल चुका था। अबकी बार केले की ठेली के बगल में बैठा वह कुत्ता चपेट में था, खुजलीदार शरीर पर उड़ चुके बालों की वजह से जो मरगिल्ला-सा दिखायी देता था। चप्पल उसके न जाने किस अंग पर लगी कि जोर से किकियाने लगा। कुत्ते की कॉय-कॉय और डॉक्टर की गालियों से पूरा माहौल ही तमाशे में बदल गया। चिढ़ाने वालों के पीछे-पीछे, सड़क के इधर-उधर दौड़ता डॉक्टर हँसी का पात्र हो चुका था। आस-पास के दुकानदार भी दुकानों से बाहर निकल, दौड़-दौड़ कर गाली देते डॉक्टर से मजा ले रहे थे। जानते थे कि डॉक्टर को कुछ भी कहना, खुद को भी गालियों का शिकार बना लेना है तो भी वे ऐसा करने से बाज न आ रहे थे। हँसी की उठती स्वर लहरियां नौकरों को भी दुकान में आए ग्राहकों से निबटने की बजाय कुछ देर लुत्फ उठा लेने की छूट दे रही थी। महावर क्लाथ हाऊस का सेल्समैन, जिसे क्षण भर भी कभी खाली बैठने की छूट न होती, गज में पँफसाये कपड़े को हाथ में पकड़े हुए, गद्दी से बाहर को लटक कर तमाशे का मजा लूटने लगा। सामने बैठी ग्राहक के द्वारा चुन लिये गए कपड़े को उसने पूरा नाप लिया था और काटकर बस अलग ही करना था। ग्राहक भी हँसे बिना न रह पा रहा थी।



7 comments:

अनूप शुक्ल said...

मजेदार अंश हैं! डाक्टर ’हो गया’ के बारे में पढ़ने के उत्सुकता है अब तो! फ़ांस उपन्यास जुगाड़ते हैं।

मिथिलेश प्रियदर्शी said...

नमस्कार सर,

उपन्यास की बाबत और जानकारी दें..कहां से आयी है, कहां मिलेगी?

मिथिलेश प्रियदर्शी

विजय गौड़ said...

@मिथिलेश प्रियदर्शी- उपन्यास इसी वर्ष ग्यानपीठ प्रकाशन से प्रकाशित है। शायद साहित्यिक पुस्तकों की किसी भी दुकान में हो,ग्यानपीठ की पुस्तकें मिल ही जाती हैं।

mithilesh said...

jee shukriya

Arun Kumar Asafal said...

डाक्टर हो गया उपन्यास का अद्भुत पात्र है. इस उपन्यास मे ऎसे कई पात्र है जो इसे जीवन्त बनाते है. उपन्यास के प्रकाशन पर बधाई!

अशोक कुमार पाण्डेय said...

उपन्यास आ गया है…बांचना शुरु करना है!

अजेय said...

बधाई.

पता लगाना ही पड़ेगा कि क्या हुआ था....