Friday, August 1, 2014

उपन्यास अंश

एक हद तक अन्तिम ड्राफ्ट की ओर सरकते उपन्यास 'भेटकी" का यह एक छोटा-सा अंश है। कोशिश रहेगी कि अपने स्तर पर अन्तिम ड्राफ्ट को जल्द पूरा कर लूं और कुछ ऐसे मित्रों की मद्द से जो बेबाक राय देने में हिचकिचाहट महसूस न करते हों, के बाद ही ड्राफ्ट को उपन्यास का रूप दे सकूं।
वि.गौ.


ज्ञानेश्वर ने फार्म हाऊस में एक मस्त पार्टी एरेंज की। लोन आफिसर, जमीन का मालिक और प्रदीप मण्डल तीन ऐसे चेहरे थे जिनके ईर्द-गिर्द ही पार्टी की पूरी रौनक को सिमटना था। हकीकत भी इससे अलग नहीं थी। बल्कि प्रदीप मण्डल का अंदाज सबसे निराला था। ज्ञानेश्वर के घेरे के लम्पटों के चेहरों पर बहुत शालीन किस्म की मुस्कान थी। पार्टी की सारी जिम्मेदारियां वे बखूबी निभा रहे थे। नशे को कुछ अधिक रंगीन एवं पार्टी को लोन ऑफिसर की ख्वाहिश पर हसीन यादगार में तब्दील करने के लिए ज्ञानेश्वर ने नाच गाने की व्यवस्था भी की हुई थी। पैग हाथ में लिये वह खुद कभी इधर और कभी उधर आ जा रहा था। कहीं कोई चूक न रह जाये, उसका सारा ध्यान इसी पर था। बेहद सीमित अतिथियों वाली वह कोई मामूली पार्टी नहीं थी। पूरा माहौल उसे एक भव्य कार्यक्रम में बदल दे रहा था।

नाच गाना चालू था, ज्ञानेश्वर चाहता था कि आज की यह यादगार शाम अतिथियों के मन मस्तिष्क में किसी रंगीन वाकये की तरह दर्ज रह सके। मेहमान भी उसकी आत्मीयता के कायल हुए जा रहे थे।

अनौपचारिक-सी स्थितियों की औपचारिक अदायगी प्रहसन हो जाती है।

यूं, प्रहसन को प्रहसन की तरह से पकड़ने के लिए गम्भीरता की जरूरत होती है। लेकिन बहुत औपचारिक कार्यक्रमों की हू-ब-हू तर्ज पर जब कुछ वैसा ही किया जाये तो उस वास्तविक प्रहसन को बहुत साफ देखा जा सकता है, जिसे गम्भीर सी दिखने वाली स्थितियों के कारण पकड़ना बहुत मुश्किल हो रहा होता है। प्रदर्शन की भव्यता के भुलावे में दर्शक बहुत करीब घट रहे घटनाक्रम के साथ ही आत्मसात हुआ होता है। बहुत बेढ़ंगे तरह से सरके हुए परदे के पीछे का बेढंगापन उसकी निगाहों से छूट जाता है।

कार्यक्रम को वाचाल बनाने के लिए ज्ञानेश्वर को खुद वाचाल बनना पड़ रहा था। जो कुछ भी वह पेश कर रहा था, हर कोई हंसते हुए, दोहरा हो-होकर उसका लुत्फ उठा रहा था। उसके घेरे के लम्पटों को तो वैसे भी बेवजह हंसने की आदत थी। ज्ञानेश्वर का ज्यादा से ज्यादा करीबी हो जाने वाली अघोषित प्रतियोगिता में वे कुछ भी करते हुए होड़ कर सकते थे। फिर यहां तो मामला हंसने भर का ही था। उनकी किसी भी गतिविधि को आपे से बाहर हो गयी नशेबाजों की स्थिति नहीं कहा जा सकता था। लोन अधिकारी को कंधे पर बैठाकर नाचने की होड़ में वे लड़खड़ा रहे थे। घोड़े की उचकती पीठ पर सवारी करने का आनन्द उठाता लोन अधिकारी कभी इधर डोलता कभी उधर। खुद को संभालने की कोशिश में वह बहुत अराजक तरह से घ्ाोड़ों के चेहरों को ही भींच ले रहा था। जिसका अंदाजा ऊपर को चेहरा न उठा पाने की स्थितियों में फंसे घ्ाोड़ों का उस वक्त होता जब बहुत बेतुके ढंग से कोई एक हाथ उनके एक ओर के थोपड़े पर पड़ता। खुद को संभालने की कोशिश में लम्पटों के नाक, मुंह और गालों पर कितने ही चींगोडाें के निशान लोन ऑफिसर ने बना दिये थे लेकिन अभी तक किसी ने भी इस बात का बुरा नहीं माना था। आगे भी उनमें से कोई बुरा मानने की स्थिति में नहीं था। वे खुश थे और खुशी के उन पलों को हमेशा खून-खराबे में रहने वाली स्थितियों के साथ नहीं जीना चाहते थे। हर स्थिति के प्रति पूरी तरह सचेत थे और जानते थे कि बोस के मेहमान की हर ज्यादियों के बाद भी यदि वे उसे खुश रखने में सफल हो पाये तो करीब से करीब जाने का रास्ता तैयार होता रह सकता है। किसी भी तरह की गुस्ताखी पर चूतड़ों पर पड़ने वाली ज्ञानेश्वर की पहली किक के बाद अनंत किकों की स्थितियों से कोई भी अनभिज्ञ न था। दिमाग के संतुलन को नापने का पैमाना होता तो नशे के बावजूद लोन अधिकारी के चेहरे की मंद-मंद मुस्कराहटों को व्यक्त करना आसान हो जाता कि उन मासूम मुस्कराहटों की कितनी ही बिजलियां जो अभी तक मचलती हुई उसके चेहरे पर फिसल गयीं उनका धनत्व कितना रहा होगा। प्रदीप मण्डल और जमीन मालिक भी उसकी रोशनी में नहा गये थे। जमीन की कीमत की रकम का चैक, जिसे जमीन मालिक अगले दिन अपने खाते में जमा करने वाला था, ज्ञानेश्वर ने उसे साथ लेते आने की हिदायत उसी वक्त दे दी थी ज बवह उसे पकड़ाया जा रहा था। इस वक्त जमीन मालिक को वही चैक अपनी गंजी की अंदरूनी जेब से बाहर निकालने का इशारा ज्ञानेश्वर ने इतने चुपके से किया कि जमीन-मालिक के अलावा किसी को नहीं दिखा। ऑरकेस्ट्रा की धुन पर बहुत धूम धड़ाका कर रहे गायक के हाथ का माइक, ज्ञानेश्वर ने अपने हाथ में ले लिया था।

''हां तो हाजरिन आज की इस रंगीन शाम हम आप सबके साथ हमारे आज के अजीज मेहमान श्रीमान गोगा साहाब का हृदय से आभार करते हैं। हमारे इस गरीब तबेले पर पहुंच कर उन्होंने हमारा मान बढ़ाया है। श्रीमान गोगा की तारीफ में ज्यादा कुछ न कहते हुए सिर्फ इतना ही कहा जा सकता है कि दुखियारों के दुख के संकटों के निवारण में वे हमेशा बढ़-चढ़ कर आगे रहे हैं और अपनी कलम की नोंक पर बैठी उस चिड़िया को बेझिझक उन कागजों में बैठाने में भी उन्होंने कभी गुरेज न किया जिनके मायने एक जरूरतमंद का सहारा बन जाते है। उनके कलम की नोंक की चिड़िया की उड़ान पर ही हमारे सबसे प्रिय मित्र, बड़े भाई प्रदीप मण्डल ने जो ताकत हासिल की है वह किसी से छुपी नहीं है। आज का यह जलसा गोगा साहाब के हाथों भाई प्रदीप मण्डल को नवाजा जाने वाला यादगार दिन बन कर हमारे सामने है। मैं गोगा साहाब से अनुरोध करता हूं अपने पावन कर कमलों से दादा प्रदीप मण्डल को अपने हाथों वह चैक अदा करें जिसमें लाखों के वारे न्यारे करने की ताकत है। बारह लााख रूपये का तौहफा जरूरतमंद का सहारा बने।"

सभी का ध्यान ज्ञानेश्वर की ओर था। मानो उसे सुनने के लिए ही इक्टठा हुए हों। कुछ क्षणों के लिए माहौल का खिलंदड़पन जाने कहां गायब हो गया था। इधर-उधर की कह लेने के बाद जमीन-मालिक से अपनी कस्टडी में कर लिये गये चैक को बाहर निकाल कर उसने ऐसे लहराया कि मानो अभी उसे हवा में उड़ा देना चाहता हो। लोन अधिकारी गोगा साहब के हाथों प्रदीप मण्डल को सौंपे गये चैक का दृश्य वह फिर से जीवन्त कर देना चाहता था। उसकी कोशिश थी कि वास्तविक घटनाक्रम से जुड़ी ऐसी ही गतिविधियों की नकल के जरिये ही वह पार्टी को एक अनोखा रंग दे सकता है। उसके मौलिक अंदाजों ने हर एक को उत्साह से भर दिया था। हर कोई अपने को उन घट चुकी घटनाओं का जीवन्त हिस्सा महसूस कर रहा था। प्रदीप मण्डल के चेहरे पर तो पहली बार हाथ में आ रहे चैक की सी खुशी झलक रही थी। गोगा साहब भी डोलते हुए ऐसे खड़े हो रहे थे मानो चैक को किसी दूसरे के हाथों में सौंपनस ही नहीं चाहते हों। लेकिन मजबूर करता बैंक कर्मचारीपन लोन प्राप्त करता के सामने असहाय हो जा रहा हो। ज्ञानेश्वर ने हाथ आगे बढ़ा कर चैक उनका सौंपना चाहा तो नशे की लड़खड़ाहाट में गोगा साहब चैक पकड़ने से सूत भर फिसल गये और संभलने की कोशिश में डगमगाने लगे। गिरने-गिरने को थे। लेकिन ज्ञानेश्वर ने तेजी से लपक कर संभाल लिया। गोगा साहब की पेंट की जिप खुली हुई थी। नाच-गाना रूका हुआ था। किनारे खड़ी डांसिंग गर्ल्स के साथ-साथ सामने बैठे ज्ञानेश्वर के घेरे के हर लम्पटों तक की निगाह खुला हुआ लेटर बाक्स अटक रहा था। जोरदार हंसी का फव्वारा छूट गया। किसी लम्पट की फब्तियां हंसी का तूफान उठा देने वाली थी,

''अरे गोगा साहाब लोकर खुला पड़ा है उसे बंद कर लो वरना खुले लोकर पर धावा बोलने वालों की कमी नहीं यहां।"

हो हो हो की आवाज में कितने ही स्वर थे। लम्पटों की निगाहें सामने खड़ी डांसिग गर्ल्स को ताकती हुई थीं। बहुत तेज आवाज में दूसरी ओर से कोई कह रहा था,

''किस्तों की रकम वाले लॉकर का ग्राहक कोई नहीं यहां गोगा साहेब, बंद कर लो इसका ढक्कन।''

''गोगा साहब यदि उंगलिया कांप रही हों तो कहिय---बंद करने को बहुत सी मुलायम-मुलायम उंगलियों का इंतजाम किया है हमारे बोस ने।"

हंसी थी कि थम ही नहीं रही थी। बहुत तीखे नैन नक्श और बेहद तंग चोली वाली डांसिंग गर्ल की आंखों में बहुत खिलखिलाहट थी। अपनी उपस्थिति को उसकी आंखों में देखने को उत्सुक हर कोई, बहुत बढ़-चढ़ कर फब्तियां कसने लगा। डांसिग गर्ल का ध्यान सिर्फ ज्ञानेश्वर की ओर था। ज्ञानेश्वर से निगाहें मिलते ही उसने अपने बदन को कुछ इस तरह हिलाया था, घास में लोट लोट कर थकान मिटाती घोड़ी जैसे बीच-बीच में बदन को झटकती है, और नजरों को मटकाते हुए जाने ऐसा क्या कहा कि हंसी की बहुत तेज फुलझड़ियां भी मंद मुस्काराहटों में बदल गयी। पुकारे गये अपने नाम सुन कर प्रदीप मण्डल चैक लेने के लिए कुछ ऐसे खड़ा हुआ था मानो किसी महत्वपूर्ण पारितोषिक समारोह में हो। बहुत ही विनम्र होकर चैक को दोनों हथेलियों के बीच थामते हुए वह गोगा साहब से हाथ मिला रहा था। कुछ देर को खामोश हो गया ऑरकेस्ट्रा ड्रम गिटार और दूसरे वाद्य यंत्रों के स्वर हॉल को झन-झनाने लगा था। डांसिग गर्ल्स की करतल ध्वनियों पर चिल्लाहटों के तेज स्वर में लम्पटों के हाथ भी स्वत: तालियां की गूंज बन गये। सम्मान की रस्म अदायगी का यह पहला पड़ाव था। माइक पर ज्ञानेश्वर की आवाज फिर उभर रही थी।

''दोस्तों दादा प्रदीप मण्डल जैसे शख्स की महानता का बखान शब्दों में नहीं किया जा सकता। हमारे इस बेहद पिछड़े इलाके के बीच प्रदीप मण्डल सरीखे अपने मित्रों के दम पर ही हमने इलाके की तस्वीर संवारने की जिम्मेदारी ली है। यह जिम्मेदारी स्वैछिक है। किसी सरकारी एजेन्सी ने नहीं सौंपा है कि तन्ख्वाह के खतिर हमें इसके लिए खटना हो। गैर सरकारी संस्थाओं का विकास के नाम पर गांट हथियाऊ मामला भी हमारा नहीं। हम तो सचमुच में जन विकास की चिन्ताओं के साथ अपने नागरिक कर्तव्य को निभाना चाहते हैं। वरना आप ही बताइये--- ऐसी बंजर भूमि जो कि वर्षों से पूर्वज की जायदाद कह कर संभालने वालों के लिए ही जब एक दम निरर्थक साबित हो रही हो तो अपने जीवन की आज तक की गाढ़ी कमाई को यहां फूक देने वालों को क्या दे देने वाली है। इस पर भी दादा प्रदीप मण्डल ने हमारे आग्रह को स्वीकारा और हमारे बुजर्ग, नवाब सैनी साहब, जिनके जीवन का मामला इस बंजर भूखण्ड की चौकीदारी से तो चलने वाला था नहीं, उसके एक छोटे से हिस्से के बदले अच्छी खासी रकम से उन्हें नवाजने का फैसला लिया, हम उनके शुक्रगुजार हैं। मैं दादा से अनुरोध करता हूं कि अब वे अपने हाथों ही उस चैक को नवाब काका को सौंपने का कष्ट करें जो हमारे गोगा साहब ने बैंक के बिहाफ से उन्हें अभी कुछ क्षण पहले सौंपा है, ताकि इस दुर्लभ दिन का बखान करने का अवसर हमें मिल सके और इलाके के दूसरे जरूरत मंद भी बिना हिचकिचाये हमारे इस पुनीत कार्य में शामिल हो सके और इलाके को संवारने में बढ़-चढ़ कर आगे आ सके हैं। हम हमारे बड़े भाई, दोस्त और ऐसे सामाजिक कार्य के लिए हमेशा हमारे साथ खड़े रहने वाले बैंक के लोन अधिकारी गोगा साहब के भी आभारी हैं, जिनके सहयोग से ही प्रदीप मण्डल सरीखे हमारे दोस्त उस ताकत को हांसिल कर पाता है जिसमें वे अपने सामाजिक जिम्मेदारी को तत्काल निभा सकने की एक मुश्त ताकत हांसिल कर पाते हैं। दोस्तों हमें विश्वास है कि बंजर पड़ी सारी जमीनों को हम प्रदीप सरीखे अपने दोस्तों की मद्द से गांव के विकास के रास्ते खोलने के अवसर उपलब्ध करा सकेगें। यह आंकड़ों में सुना जा रहा एफडीआई नहीं बल्कि सीधे निवेशित होती पूंजी से गांव भर के लोगों के जीवन को रोशन करने वाला होगा। इस तरह से मिलने वाली रकम का एक बड़ा हिस्सा उन सभी आधारभूत जरूरतों पर खर्च करने के दूसरे आकर्षक प्रोग्राम भी हम गांव वालों की सुविधा के लिए बनवाना चाहते हैं जिससे हमेशा के अपने वंचित जीवन में वे भी खुशीयों की आधुनिकता लाने में सक्षम हों और आधुनिक उपभोग का वह सारा बाजार बिना हो हल्ले के उनके घरों के भीतर, कीचन के भीतर उनकी सेवा में हर वक्त मौजूद रह सके। गांव भर स्त्रियां बेवजह के कामों में जो अपने जीवन के कीमती समय को बेइंतिहा नष्ट करने को मजबूर हैं, एक हद तक छुटकारा पा सके और बचे हुए समय में दुनिया जहान की खबरें देते कार्यक्रमों का लुत्फ ही नहीं बल्कि कुछ हंसोड़ किस्म के दूसरे कार्यक्रमों को देखने का समय भी उन्हें हांसिल हो सके। "

चैक अदायगी की रस्म ने फिर से हो-हल्ले की संरचना कर दी। प्रदीप मण्डल खुश था कि जमीन खरीदने का उसका उपक्रम मात्र बैंक से लिये जाने वाले लोन का मामला भर नहीं बल्कि एक सामाजिक कर्म भी है। नवाब सैनी ही नहीं ज्ञानेश्वर के घेरे में बोक्सा जनजाति के तमाम युवकों के भीतर प्रदीप मण्डल के लिए गहरा सम्मान उपज रहा था। ज्ञानेश्वर का एक ही तीर कई-कई लक्ष्यों को बेध रहा था।

2 comments:

Ashok Kumar Pandey said...

रोचक लग रहा है। इंतज़ार अभी से

Santosh Chaturvedi said...

इस अंश ने हमारे अन्दर इसे पूरी पढने की उत्सुकता जगा दी है. आपके इस उपन्यास की हमें प्रतीक्षा रहेगी.