Thursday, July 12, 2018

जेल के अन्दर एक जेल होती है जिसे तन्हाई कहते हैं


सिर्फ आँसुओं की बोली बोलने वाली, चकड़ैतों की साजिश की शिकार तमिलनाडु की मूल निवासी किरदेई कबाड़ बिनने के काम से अपना जीवन यापन करती थी। चौंकिए नहीं कि सरकारी कागजों में किरदेई के नाम से जानी गई इस स्‍त्री का वास्‍तविक नाम कुछ और रहा। भिन्‍न भाषी प्रदेश में तमिड़ जुबान बोलने वाली किरदेई कैसे बेजुबान सी हो गई यह उसकी दास्‍तान का दूसरा पीडि़त पक्ष है। इस महिला की कहानी रोंगटे खड़ी करने वाली है।

दिल दिमाग को झकझोरने वाली यह कहानी महिला समाख्‍या की बेहद सक्रिय साथी कुसुम रावत की जिंदगी का भी सुंदर पाठ और कड़वा सबक है। कुसम रावत का मानना है कि किरदेई की पीड़ा ने उन्‍हें मजबूत बनाया है। कानूनी षडयंत्रों को समझने का मौका दिया है। कुसम रावत कहती हैं, ‘’साथ ही कानूनी मकड़ जाल को तोड़ने की थकने-थकाने वाली कोशिश ने मेरा ‘सत्य’ पर भरोसा मजबूत किया। किरदेई की आँसुओं की धार ने मेरी अंतर्यात्रा को नया ठौर दिया। किरदेई ने ही मुझे परमात्मा का बोध कराने वाली ‘नई सड़क’ का पता बताया। किरदेई ने समझाया- कुसुम सत्य-असत्य, धर्म-अधर्म, न्याय-अन्याय में क्या अंतर है? और कैसे धैर्य धारण कर निर्भय मन से की गई विवेकी सामूहिक कोशिशों से सत्यमेव जयते जमीन पर उतरता है? नहीं तो मेरी क्या ताकत थी- नारकोटिक्स एक्ट में फंसी मुजरिम को छुड़ाने की- जो अपना गुनाह कबूल चुकी हो।‘’ कुसुम रावत की जुबानी ही पढ़ते हैं किरदेई कथा।

एक थी बेगुनाह किरदेई


कुसम रावत

मैं किरदेई को भूल गई थी। अचानक 17 साल बाद अपने100 साल के बूढ़े गुरुजी के शब्द मेरे जुहन में आकार लेते हैं, जेल के अन्दर एक जेल होती है जिसे तन्हाई कहते हैं...’एक दिन युगवाणी के सम्पादक संजय कोठियाल से बात करते हुए नई टिहरी जेल में कैद किरदेई मेरे खामोश अन्तर्मन में एक यक्ष प्रश्न के साथ फिर से आ खड़ी हुई,जेल से छूटने पर कोर्ट कंपाउंड में सूनी आँखों से आसमान को ताकती अपने इन आखिरी आखरों के साथ- मैं काम की तलाश में तमिलनाडू से दिल्ली आई थी। पर वक्त ने मुझे टिहरी जेल पहुंचा दिया। मैं जेल में इसलिए रोती थी कि मैं बेगुनाह हूँ। आज मैं खुशी में रो रही हूँ। मुझे यकीन नहीं कि हो रहा है कि मैं जेल की तन्हाईयों से आजाद हो खुले आसमान के नीचे सांस ले रही हूँ। क्या मैं वास्तव में छूट गई हूँ? कहीं फिर से कोई मुझे कहीं और ना फंसा दे?मैं अब दिल्ली ना जा सीधे अपनी माँ के पास जाऊंगी। लोग परदेश में औरतों के साथ किसी न किसी तरह ऐसे ठगी करते हैं कि औरत निर्दोष होते हुए भी ऐसे फंस जाती है कि उसे खुद को बेगुनाह साबित करना मुश्किल हो जाता है?यह ईश्वर की कृपा और कुछ औरतों का सहयोग था कि मैं निर्दोष करार दी गई...। यह महज संयोग है या कुछ और?पर कुछ तो जरूर है किरदेई कथा में।
सन् 2001 की बात है। मैं महिला समाख्या टिहरी में थी। राधा रतूड़ी कुछ दिन पहले ही कलक्टर बन टिहरी आई थीं। एक दिन वे सपाट शब्दों में बोलीं- कुसुम भारत सरकार ने 2001 को महिला सशक्तिकरण वर्ष घोषित कर साल भर जिला प्रशासन से ठोस जमीनी काम की अपेक्षा की है। हम तुम्हें नोडल आफिसर बना रहे हैं। तुम हमारी ओर से कमान थामो। हमें तुम पर पूरा भरोसा है। तुम्हारा अनुभव काम आयेगा।
मैं चुप रही। मेरी दिक्कत थी- मेरी निदेशक बड़े उलाहने देतीं- तुम हमेशा फालतू कामों में उलझी रहती हो। हम एक दिन तुम्हारी गर्दन उड़ा देंगे।
निदेशक मेरी अच्छी मित्र थीं। कलेक्‍टर जो जिम्‍मेदारी मुझे दे रही थीं, वह एक दिन की बात नहीं थी। मामला पूरे साल का था। कलक्टर अड़ी रहीं। कलक्टर का व्यकितत्व और स्वभाव कुछ ऐसा था कि मैं सोचने लगी क्या करूं? खैर मैंने दो दिन का वक्त मांगा। काम काफी मुश्किल था। हजारों साथिनों की बेहद अच्छी, प्रतिबद्ध, ईमानदार टीम मेरे साथ थी। एक आवाज पर मरने-मिटने वाली ऐसी जुझारू टीम किस्मत से बनती है। सबने आश्‍वस्‍त किया, दीदी फिकर नाट! निदेशक को आप मना ही लोगे। ये काम हमारे टिहरी जिले की औरतों के लिए उपयोगी होगा। फिर एक महिला कलक्टर के शब्दों की गरिमा का सवाल भी है। मैंने कलक्टर को हाँ कर दी। साल भर की ठोस कार्ययोजना बनाकर मैं और मेरी सहकर्मी गुरमीत कौर कलक्टर को मिले। कुछ ऐसा खाका तैयार किया कि वह हमारे रूटीन काम के साथ फिट हो। हमारा कार्यक्षेत्र सिर्फ 4 ब्लाक थे। बाकी जगह जिला प्रशासन थामेगा। वहाँ हम रणनीतिकार,रिसोर्स पर्सन और दस्तावेजीकरण की भूमिका में होंगे। हाँ मैं समन्वय पूरे जिले में करूंगी।
समाज के हर वर्ग के साथ महिला मुद्दों पर बात करना तय हुआ। हमें साल भर में सब तक पहुँचना था। कुछ महिला मुद्दों का चयन कर हमने रातों-रात रोचक प्रचार-प्रसार सामग्री बनाई। कलक्टर हमारे साथ दिन-रात मेहनत करतीं। मेरे कार्यालय आकर हमारा हौसला बढ़ातीं। 1 मार्च2001 को महिला सशक्तिकरण वर्ष की शुरूआत पूरे जिले में एक साथ हुई। मुझे याद है सैंट्रल स्कूल नई टिहरी का प्रांगण- जब शुरूआती कार्यक्रम के बाद स्कूल प्रांगण से कलक्ट्रेट तक पहली रैली निकली। शायद देश में यह अपनी तरह का यादगार मौका होगा- जिसमें जिले की कलक्टर खुद , राधा रतूड़ी, ने बैनर पकड़ महिला सशक्तिकरण रैली की अगुवाई की। जिले भर के सरकारी अधिकारी, स्वयं सेवी संस्थाएँ और समाज के हर वर्ग के हजारों लोग कार्यक्रम का हिस्सा रहे।
इसी क्रम में 7 मार्च को जेल कैदियों के साथ महिला मुद्दों पर कैदियों की सोच... पर एक गोष्ठी थी। मुझे लखनऊ जाना था पर एक दिन पहले स्कूली कार्यक्रम में पाँव में मोच आ गई। मेरा पाँव बहुत सूज गया। सो लखनऊ ना जा मैं नई टिहरी जेल पहुँची। एस.डी.एम. विष्णुपाल धानिक साथ थे। अचानक मेरी नजर कैदियों की भीड़ में किनारे बैठी महिला कैदी पर पड़ी। वह एक किनारे खड़ी थी। हर बात से बेपरवाह वह औरत बरबस ही मेरे आर्कषण का केंद्र हो गई। कुछ ऐसा था उसकी आंखों में, वह मेरे दिल में उतर गई। मैं एकटक उसे देखती रही। उसकी सूरत मुझे आज भी याद है- एकदम झक सफेद बाल, घुटनों तक चढ़ी छींटदार हल्की हरी धोती, पुरानी पतली चिंथड़ेनुमा काली शाल लपेटी, डरी-सहमी, गठीले बदन की 65-70 साल की एकदम स्याह काली शक्ल की दक्षिण भारतीय औरत। उसका झुर्रीदार चेहरा अपमान के दंश से क्लांत था। चेहरे पर गुस्सा साफ छलक रहा था। चिंदी सी छोटी आँखें हमें घूर कर चीरने की कोशिश में थीं। आँखों से लगातार आँसू बह रहे थे। धानिक जी मजिस्ट्रेटी अंदाज में बोले- मैडम ये तमिलनाडू की स्मगलर है। नारकोटिक्स एक्ट में 5-6महीनों से बंद है। इसे सजा होने ही वाली है। मैंने पास जाकर किरदेई को गौर से देखा। उसकी आँखें व चेहरा बता रहा था- वह बहुत कुछ बोलना चाह रही है पर उसके होंठ सिले हैं। वह चेहरा मैं कभी नहीं भूल सकती। वह हिंदी-अंग्रेजी कुछ नहीं जानती थी। कानूनी कागजों में उसे गूंगी बहरी बनाकर जुर्म कबूल करवाया जा चुका था। धानिक जी ने बताया- प्रशासन और वन विभाग के लोगों की बहादुरी से एक भांग के स्मगलगर गैंग को पकड़ा गया है। यह औरत किरदेई गैंग लीडर है, सो इसकी जमानत नहीं हुई। बाकी 4 जमानत पर छूट गये हैं। धानिक जी बड़े खुश थे- गोया कितनी बड़ी बात बोल रहे हों। कुछ देर की चुप्पी के बाद मैंने कहा- मुझे नहीं लगता यह स्मगलर है । कहीं जरूर कुछ बड़ी गड़बड़ है  आप इसकी शक्ल देखो, क्या ये स्मगलर लगती है? इस वक्‍त मेरे पास किरदेई का कोई साफ फोटो नहीं पर किसी पत्रिका में छपी बड़ी मुश्किल से मिली एक तस्वीर है। आप उसके चेहरे को देखकर खुद तय करें क्या किरदेई स्मगलर हो सकती है
गोष्ठी के बाद किरदेई जेल में बने छुटके से शिव मंदिर के पास खड़ी हो गई। उसके साथ बंदी रक्षक प्रेमा देवी थी। मैं कभी नहीं भूलती हूँ कि किरदेई कैसे एक टांग पर खड़ी आसमान की ओर शून्य में ताक रही थी। उसके हाथ जुड़े थे, उस अदृश्य ताकत के लिए- जिसे लोग भगवान कहते हैं। किरदेई की आँखें बंद थीं। आँखों से बह रही आँसुओं की धार रुक नहीं रही थी। वह ऊँ नमः शिवाय.... बुदबुदा रही थी। मैं अंदर से हिल गई। मैंने प्रेमा को पूछा- जो अनजान मुल्क में जेल की ऊँची दीवारों के बीच आँसुओं के अलावा बेजुबान किरदेई की एकमात्र साथी थी। दयालु प्रेमा ने ही अजनबी माहौल में हौसला और अपनापन देकर चारदीवारी में कैद किरदेई को बार-बार टूटने से बचाया- सिर्फ दिल की संवेदनाओं और आँखों की मौन भाषा से।
किरदेई ने मुझे घृणा और अविश्वास से घूरा- जैसे मैं भी कोई नया षडयंत्र करने आई हूँ। वह झटके से परे हट फिर से महादेव की साधना में लीन हो गई। उसकी उपेक्षा भरी नजर ने मेरे विश्वास को और मजबूत किया कि गोया कुछ तो जरूर गलत है। जेलर श्री दिवेदी और प्रेमा ने मिली जानकारी से मुझे मालूम हुआ कि किरदेई यहाँ महीनों से कैद है। वो ना कुछ बोल पाती है, ना हम कुछ समझ पाते हैं। वो कई-कई दिनों तक खाना नहीं खाती। कभी चप्पल नहीं पहनेगी। कभी सर्द ठंड में गरम कपड़े नहीं पहनेगी। जेल में सब किरदेई से सहानुभूति रख रहे थे। लेकिन उनके पास किरदेई के बाबत कोई ज्‍यादा जानकारी नहीं थी। कह रहे थे, हमारी दिक्कत है कि हम इससे बोल नहीं सकते। इसे समझा नहीं पाते कि हमें तुमसे सहानुभूति है। वो दिन रात इसी शिव मंदिर पर एक टांग पर खड़े हो रोती रहती है। बस एक ही शब्द हमने समझा- ऊँ नमः शिवाय। यह यूं ही बस ऊँ नमः शिवाय बुदबुदाते सूनी आँखों से आसमान में ताकती रहती है।
प्रेमा मेरे नाम और काम से परिचित थीं, उसी दौरान प्रेमा ने कहा- क्या आप वही कुसुम रावत हो जिसने महिला कैदी बलमदेई और कमला को छुड़ाया था? मैंने कहा हाँ। प्रेमा शिवालय पर गहरी श्रध्दा में माथा टेक संतुष्टि से बोली। हे प्रभु अब तो किरदेई जरूर छूट जाऐगी। प्रभु आपने ही कान्वेंट की नन लोगों की प्रार्थना पर कुसुम को जेल भेजा। मैं कुछ नहीं समझी। उसके बाद जो कुछ प्रेमा ने कहा वो बड़ा हैरान करने वाला सत्य है- नई टिहरी कान्वेंट की सिस्टर्स हर रविवार को कैदियों के साथ प्रार्थना करने जेल आती हैं। वो प्रार्थना के बाद बुदबुदाती हैं- हे यीशू कुसुम रावत को जेल भेज दो। हमें पहले कुछ समझ नहीं आया। बाद में पता चला कि सिस्टर लोग आपको जानते हैं। वे लोग ये भी जानते हैं कि आपने बलमा और कमला की मदद की। सो हर रविवार दिल पर क्रॉस बना इस बेचारी को ढांढस देते हैं कि- तू जरूर छूटेगी। यह सिलसिला कई महीनों से चल रहा है। मैं और धानिक जी हैरान रह गये। तो क्या सच में किसी दैविक प्रेरणा से कलक्टर राधा रतूड़ी ने मुझे यह काम सौंपा? और मैं लखनऊ के बजाए आज जेल में हूँ? खैर प्रेमा की बात को परमप्रभु का आदेश समझ मैंने तय किया- किरदेई की मदद करनी है पर कैसे? क्योंकि इसे सजा होने ही वाली थी- वो भी एन.डी.पी.एस.एक्ट में। कलक्टर बाहर थीं, नहीं तो उस दिन जरूर पंगा होता।
मैं सीधे कान्वेंट स्कूल गई। सिस्टर बोलीं- कुसुम किरदेई के आँसुओं और प्रार्थना में गजब की ताकत है। एक दिन हम अचानक जेल गए थे। किरदेई को देखकर हम रो पड़े। उसी दौरान तय किया कि हम हर इतवार को जेल में प्रार्थना करेंगे। यीशू ने ही तुम्हारे दिल में यह प्रेरणा भेजी है। हृदय पर क्रास बना सिस्टर बोलीं- अब ये जरूर छूट जाऐगी। गोया जैसे मुझे कोई वरदान मिला हो औरतों को जेल से छुड़ाने का। मैं दुखी मन से घर गई। किरदेई की पीड़ा महसूस कर मैं कई रात सो ना सकी। सब मुझ पर बहुत हँसते। कोई मुझे पागल ठहराता। मैंने सरकारी वकील से बात की। वह तो आग बबूला हो गये। अरे आप इसे कैसे छुड़ा सकते हो? यह तो स्मगलर है। बाकी मुजरिमों के वकील ने भी बड़ा हतोत्साहित किया। मैंने मामले की हकीकत जाननी चाही। अब मैं किसी तमिलभाषी की तलाश में थी, जो मुझे बता सके कि बात क्या है? अगले दो दिन में हजारों फोन करने के बाद सैंट्रल स्कूल नई टिहरी में तैनात प्रवक्ता हरेन्द्र सिंह ने बताया कि वहीं तैनात टीचर सुनीता वी.कुमार कभी मद्रास में रही हैं। वो तमिल जानती हैं। ईश्वर ने पहली सफलता दी इस राहत भरी खबर के साथ।
होली का दिन था। मैं कभी किसी की बाईक में नहीं बैठी,पर उस दिन ये भी किया। हरेन्द्र ने दो बाईकमैन तैयार किये जो होली खेलने के बजाय मुझे और सुनीता को जेल ले गये। किरदेई का सुनीता से मिलना वरदान साबित हुआ। तमिलभाषी सुनीता को पाकर बेजुबान किरदेई को मानो जुबान मिल गई। पहले तो वह बहुत चिढ़ी पर बाद में उसकी शक भरी निगाहों में मेरे लिए थोड़ा सा भरोसा भी पैदा हुआ, मैं उसकी आंखों में उस भरोसे को पढ़ सकती थी। वह घंटों रोती रही।
सुनीता बड़े धैर्य से किरदेई का हाथ पकड़कर चुपचाप उसे सुनती रही। वह उसे चुप कराती, पानी पिलाती। उसका हाथ सहला ढांढस बंधाती कि फिक्र ना करो। कुसुम को देख डरो मत। ये मेरी दोस्त है। ये तुम्हारी मदद करना चाहती है। तुम सब सच-सच बताओ। किरदेई की महीनों की घुटन उन चार घंटों में सुनीता से बात कर खत्म हुई। सुनीता ने उसे अपने हाथों से खाना खिलाया। किरदेई का सच जानकर मैं ही नहीं पूरा जेल स्टाफ हैरान था। पर लाख टके का सवाल अब भी था कि किरदेई को निर्दोष साबित करें तो कैसे? सुनीता के मुताबिक किरदेई की जुबानी कुछ यूं थी-  
‘’मेरा नाम करपाई है। मैं तमिलनाडू के डंडीकल जिले के चिन्नालपेटी गाँव की हूँ। मेरी उम्र लगभग 65 साल है। मुझे नहीं मालूम किसने मुझे कोर्ट के कागजों में कब और क्यों कैदी किरदेई बना दिया? मेरा एक भरा पूरा परिवार है। घर में मेरी माँ और छोटी बहन है। मेरी शादी 15 साल की उम्र में तय हुई। पर पिता की अचानक मौत ने मुझ पर परिवार की जिम्मेदारी डाल दी। मैंने शादी ना करने का फैसला लिया। मैं माँ और बहन की जिम्मेदारी उठाने लगी। मैं कभी स्कूल नहीं गई। हमारी जिंदगी ठीक ठाक चल रही थी। अचानक मेरी किस्मत ने पलटा खाया। हुआ यूं कि- एक दिन खाना खाते वक्त मेरा छोटी बहन से किसी बात पर झगड़ा हो गया। माँ ने भी बहन का साथ दिया। मैं गलत नहीं थी। मुझे उस झगड़े से ज्यादा माँ-बहन के व्यवहार ने आहत किया। मैंने खाना छोड़ा और तय किया कि अब मैं यहाँ नहीं रहूँगी। मैं काम की तलाश में परदेश जाऊंगी। यहाँ पर काम का दाम कम मिलता है। जो रोज की चिख-चिख का कारण है। माँ-बहन के व्यवहार ने मुझे अंदर से तोड़ दिया था। मैं सोचती रही- इनके कारण मैंने अपनी शादी तोड़ी, आजीवन अकेली रही। जो कमाया इनकी जिम्मेदारी उठाई और आज ये ऐसा व्यवहार कर रहे हैं? आखिर मेरा भी तो आत्म सम्मान है। पर मुझे नहीं मालूम था औरतों का आत्म सम्मान तो हमेशा गिरवी रहता है- कभी पिता, भाई,पति की चैखट पर तो कभी समाज के दरिन्दों के पास?’बड़ी उधेड़बुन के बीच मैंने इस उम्र में घर की चौखट छोड़ दिल्ली जाना तय किया। मैंने पड़ोस के गाँव के सेल्वम से बात की। उसका परिवार हमारा पुराना परिचित था। सेल्वम परिवार के साथ दिल्ली रहता था। सेल्वम ने मुझे भरोसा दिया। आँसुओं की धार के बीच किरदेई बोली- बस मैं ऐसे काम की तलाश में 6 साल पहले दिल्ली आ गई। पर दिल्ली आ मेरे सपनों को ग्रहण लग गया। परदेश में अकेली औरत कितनी लाचार होती है? ये मैंने तब समझा जब मैं तमिलनाडू से नई टिहरी जेल की सलाखों के पीछे पहुँची। पर क्यों?
‘’मैं सेल्वम के परिवार के साथ दिल्ली में पपनकला बस्ती में रहती थी। कुछ घरों में झाडू पोछा करने के बाद बचने वाले समय में मैं कबाड़ा बीनती। कबाडे़ से रोज 50-60रूपये कमा लेती। झाडू-पोछा की आमदनी अलग थी। मैं सारा पैसा सेल्वम के पास जमा करती। मेरा रोज का खर्च10-15 रूपये से ज्यादा ना था। मैंने सोचा घर जाते वक्त सारा पैसा एक साथ लूंगी। माँ और बहन इतना पैसा देख खुश हो जायेंगे। मुझे दिल्ली में 6 साल हो गये। सेल्वम जुआरी था। उसे नशे की लत थी। वह घर में मारपीट करता। मैं परिवार की जरूरतों पर पैसा खर्च करती। बच्चों की देखरेख करती। मेरा 15-20 हजार से ज्यादा पैसा सेल्वम के पास जमा था। मैं जब पैसे मांगती, वह टालता। हमारी कई बार लड़ाई होती। बाद में मैंने पैसे देने बंद कर दिये। मैं सेल्वम के सिवा किसी को नहीं जानती थी। सो चुप रहना मेरी मजबूरी थी। एक दिन वह बोला मेरे साथ टिहरी चलो। वहाँ डाम बन रहा है। वहाँ बहुत कबाड़ा मिलता है। खूब पैसा कमायेंगे। वहीं तुम्हारा पैसा भी लौटा दूंगा।
‘’सेल्वम हम चार पाँच लोगों को टिहरी लाया- किसी चिरबटिया नाम की जगह पर। चिरबटिया से घनसाली तक मेरा सेल्वम से पैसों को लेकर खूब झगड़ा हुआ। मैं उसकी हरकतों से समझ गई थी कि यह किसी और वजह से यहाँ आया है। सेल्वम चिरबटिया के स्थानीय लोगों के साथ मिल कर भांग की पत्तियों की स्मगलिंग करता था।‘’  
सेल्‍वम किरदेई को वाहक की तरह प्रयोग करना चाहता था। 11 नवंबर 2000 को किरदेई के दुर्भाग्य की कहानी शुरू हुई। घनसाली में वन विभाग और राजस्व कर्मियों ने जंगलात की चैक पोस्ट पर बस संख्या- यू.पी. 08-2377की तलाशी ली, बस की छत से बिस्तरबंद, बोरियाँ, बैग,वी.आई.पी. की अटैचियाँ बरामद कीं। सामान के साथ किरदेई और 4 लोग भांगपत्ती रखने के जुर्म में एन.डी.पी.एस. एक्ट में गिरफ्तार कर नई टिहरी जेल पहुँचा दिये गये। आश्चर्यजनक तौर पर सेल्वम गिरफ्तार लोगों में नहीं था। ना ही यह सामान किरदेई से बरामद किया गया था।
हैरानी की बात थी कि किरदेई के साथ गिरफ्तार 4 लोगों की जमानत हुई। जेन से छूटकर वे अपने देश चले गये। रह गई अकेली बूढ़ी किरदेई- अनजान देश में अजनबी लोगों के साथ जेल की चारदीवारी के बीच।
‘’मैं भाषा से लाचार थी। मैंने इशारों और आँसुओं से बोलने की कोशिश की कि यह मेरा सामान नहीं है। मुझे फंसाया जा रहा है। पर किसी ने मेरी ना सुनी। सिर्फ मेरे आँसू मेरे साथी थे। मेरा भगवान- जेल की ऊँची दीवारें और बंदी रक्षक प्रेमा देवी। मुझे नहीं मालूम था कि मेरा जुर्म क्या है?क्यों नहीं कोई मेरी बात सुनता है? मैंने आज तक किसी का दिल नहीं दुखाया। कभी किसी के साथ बुरा नहीं किया। कभी चोरी नहीं की, कभी झूठ नहीं बोला। मैंने जिंदगी भर जड़ी बूटियां देकर हजारों बच्चों और औरतों की जान बचाई। मैंने कभी इस काम का पैसा नहीं लिया। तुम ही बोलो सुनीता क्या मैं कभी ऐसा काम कर सकती हूँ? ‘’
बोलते-बोलते वह जोर-जोर से चीखने लगी। मैं और दयालु सुनीता कई बार जेल आए। कभी-कभी वह मुझ पर बुरी तरह बिगड़ पड़ती कि आखिर मैं क्यों उसे तंग कर रही हूँ?पूरी जानकारी लेकर मैंने अपनी रणनीति बनाई। मुझे पागल कह हंसने-डराने वालों की कमी ना थी। हरेन्द्र और सुनीता हर वक्‍त मेरी मदद के लिए तैयार मिलते। यह बड़ा सहारा था।
सरकारी वकील और सेल्वम एण्ड कम्पनी के पैरोकार बेहद नाराज थे। वे किसी तरह से किरदेई को मुजरिम करार कर असली मुजरिमों को बचाने के जोड़ तोड़ में लगे थे। मैंने हिम्मत नहीं हारी। मेरे साथ महिला समाख्या टीम चट्टान की तरह खड़ी थी। किरदेई का चेहरा मुझे रात को सोने नहीं देता। भगवान बड़ा दयालु है। उसी दिन शाम मुझे अचानक किसी मित्र ने फोन पर कहा कि मैं किरदेई केस में तुम्‍हारी मदद कर सकता हूँ। अगली दो छुट्टियों में मैं तुझे उसकी फाईल ला दूंगा। तू पढ़ और देख क्या हो सकता है? इसे फंसाया गया है। किरदेई से कोर्ट में भी लोग सहानुभूति रखते थे। पर कोई कानूनी दावपेंचों और षडयंत्रों के बीच उलझना नहीं चाहता था। मेरा यह मित्र सालों से मुझसे बहुत नाराज था कि मैंने बलमदेई को जेल से क्यों छुड़वाया? मेरे को तो यकीन ना हुआ। मैंने सोचा आज भाई जी ने जरूर कुछ ज्यादा ही चढ़ा ली होगी? तब तक टिहरी में खबर आग की तरह फैल गई थी कि कुसुम किरदेई का केस लड़ रही है। मेरा सर ईश्वर के चमत्कार के आगे शिद्दत से झुक गया, जब भाई जी ने अपनी नौकरी की परवाह ना कर मेरे हाथ में चुपचाप फाईल रख दी। मैंने रात भर फाईल पढ़ी। कुछ बेहद जरूरी बातें समझ आईं कि- हाँ यह केस पलटा जा सकता है। इसमें बहुत कमियाँ हैं।
फाइल से नोट्स बनाकर अपनी एडवोकेट दोस्त मृदुला जैन से मिली। दीदी ने बलमदेई सहित मेरे कई और केस फ्री में लड़े थे। वह हमेशा हमारी मदद करतीं। पहले तो दीदी ने हमेशा की तरह डांटा। पहले तो नारकोटिक्स एक्ट का डर दिखाया। पर मैं टस से मस ना हुई। कारण- किरदेई ना तो इस मुल्क की थी, ना उसे कोई यहाँ जानता- पहचानता ही था। किसी को उसकी परवाह नहीं थी। उसके घर वालों तक को पता नहीं था कि वह जेल में है। और तो और उसका तो नाम भी जेल दस्तावेजों में गलत लिखा था। मैंने मृदुला दी को धमकी दी- दीदी मुझे केस तो लड़ना ही है। आप चाहे मदद करो या नहीं। पर उसकी नौबत नहीं आई। दीदी को छोड़ हम कहाँ जाते? वो बड़ी दयालु हैं। रात को उनका फोन आ गया कि कुसुम मैं केस लड़ूंगी। तू वकालतनामा साईन करा ले। यह दूसरी जीत थी।
अब नई महाभारत थी- किरदेई से कागज पर अगूंठा लगवाना। उसे यह भरोसा देना कि हम सच में उसके दोस्त हैं। इन हालातों में किरदेई को कानूनी मदद से ज्यादा जरूरत थी- मानवीय संवेदनाओं, भावनात्मक सहारे,अपनेपन, एक अजनबी माहौल में भरोसे की, जो हम उसे अलग-अलग तरीके से देने की कोशिश कर रहे थे। मैं,सुनीता और गुरमीत बार-बार जेल जाते। हमारी कोशिशों में साझीदार थी- बंदी रक्षक प्रेमा देवी। प्रेमा ने किरदेई को मौन भाषा में समझाया कि कुसुम तेरी मदद करना चाहती है। तू अंगूठा लगा दे। वह बुरी तरह चिढ़ती, बैरक में चली जाती।
वह रात मैं कभी नहीं भूलती। बाहर बहुत ठंड थी। हड्डियाँ काँप रही थीं। मेरा ड्राईवर प्रमोद पंत बड़ा नेक लड़का था। हर वक्त काम को हाजिर। शहर में रोशनी गायब थी। खूब आंधी तूफान उस दिन चला था। उसी दौरान जब कलक्टर राधा रतूड़ी लखनऊ से लौटीं थीं। वह लगभग आठ बजे पहुँची। मैंने भी पूरी बेशर्मी से रात में ही उनसे मिलने की ठानी। सोचा, थोड़ा-बहुत डांटेगी, या ज्यादा से ज्यादा मना कर देंगी। पर ऐसा कुछ नहीं हुआ। कलक्टर सर्दी से कांप रही थीं। मैंने कई मोमबत्तियों की रोशनी में उनको कोर्ट की फाईल दिखा कहा- राधा दी यह अन्याय है। मैंने फ्री पैरवी हेतु वकील भी तैयार कर ली है। अपनी अल्प बुदधि से मैंने कलक्टर को समझाया कि केस में क्या-क्या कमियाँ हैं। केस का दिलचस्प पहलू था कि बरामदगी तो बस से भांग की पत्तियों की हुई पर फोरेंसिक रिपोर्ट में बरामद सामग्री को गांजा बताया गया था। ऐसा क्यों? इनके अलावा 10-12 ऐसे चैंकाने वाले तकनीकि बिन्दु थे, जिन्होंने मुझे आश्वस्त किया कि किरदेई बेगुनाह है।
कुछ सवाल मैंने क्‍लेक्‍टर के सामने रखे-
खचाखच भरी बस में भांग की बरामदगी हुई पर बस सीज क्यों नहीं हुई?खचाखच भरी बस में बरामदगी के बावजूद क्यों नहीं किसी यात्री को सरकारी गवाह बनाया गया?अपराधियों को 24 घंटे के भीतर कोर्ट में क्यों नहीं पेश किया गया? 

आपत्तिजनक सामग्री के बारे में प्रभारी नायब तहसीलदार ने उपजिलाधिकारी घनसाली को क्यों नहीं सूचित किया?और तीन दिन तक क्यों बरामद सामान अपनी कस्टडी में रखा ?क्यों केस में अपराधियों व सामान की बरामदगी राजस्व के बजाए वन विभाग के कर्मचारियों ने की?
मैंने कलक्टर से कहा- बस एक बार आप किरदेई की शक्ल देख लें। फिर आप तय करना कि क्या ऐसी दीन-हीन औरत से वी.आई.पी. सूटकेसों की बरामदगी सम्भव है? यदि आप मेरी बात से सहमत नहीं हो पाएंगी तो मैं चुप हो जाऊंगी। एक सुलझे-संजीदे कलक्टर की तरह वे बोलीं- कुसुम परेशान ना हो। लगता है तुम कई रात से सोई नहीं हो। चलो गरमा गरम काफी पिओ, खाना खाओ। कल हम दोनों जेल चलेंगे।
अगले दिन हम जेल गये। किरदेई की शक्ल देखकर दयालु कलक्टर चुप हो बैरक में ही बैठ गईं। जेलर से उसकी हिस्ट्री जानी, फाईल पढ़ी। बंदीरक्षक प्रेमा से उसके आचरण के बारे में पूछा। डरी सहमी किरदेई को गौर से देखा। फिर मेरी ओर देखा। सिर्फ आँखों की भाषा में मेरे हर कथन की पुष्टि की। हम चुपचाप एक दूसरे को देखते रहे। काले चश्मे के पीछे से लुढ़कते कलक्टर राधा रतूड़ी के आँसू मैंने देखे। वह उतनी ही चतुराई से उनको छिपाने की कोशिश में थी। जेल से लौटने से पहले दयालु कलक्टर किरदेई की मोतियाबिंद से पीड़ित आँखों और पाईरिया से सड़ते दांतों के इलाज का आदेश दे चुकी थीं। हम दोनों चुपचाप लौटे। रास्ते में नम आँखों से खामोशी से बोली- कुसुम तुम कुछ करो इसको बाहर निकालने को। यह बहुत ही गलत हुआ है। हम तुम्हारे साथ हैं। तुमको मुझसे जो मदद चाहिए मैं तैयार हूँ। यह बड़ा भरोसा था कलक्टर का मुझ पर। राधा रतूड़ी किरदेई से मिलीं यह बात आग की तरह फैली। अब किरदेई का केस नया मोड़ ले चुका था।  
अगले दिन मैं, मृदुला जैन और सुनीता जेल गए। किरदेई को सुनीता ने बताया कि राधा रतूड़ी कौन हैं? और समझाया कि वे तुमसे सहानुभूति रखती हैं। उस वक्‍त पहली बार किरदेई की पथराई आँखों में हमने उम्मीद की किरण देखी। उसने चुपचाप वकालतनामा साईन किया। मेरी ओर बड़े प्रेम से देखती रही। मानो कहने की कोशिश में हो- हाँ मेरा ईश्वर और मानवता पर भरोसा पूरी तरह टूटा नहीं है। हम बार-बार जेल जाते। दिल की भाषा में बात करते। अब भी उसकी आँखों में आँसू होते पर ये आँसू खुशी के होते। धीरे-धीरे किरदेई सामान्य होती गई। मुझे देख मुस्कराहट के साथ सलामी देना सीख गई थी। कभी मेरा हाथ पकड़ जोर से भरोसे के आँसू रोती। वह खुश रहने लगी थी। अब वो नियमित खाना खाती। जेल में बंदी रक्षक प्रेमा देवी और कांस्टेबिल सविता ठाकुरी, मीना देवी,ऊषा चैहान, कमला शर्मा ने हमारी बड़ी मदद की। हमारी तेज तर्रार वकील साहिबा ने केस की तेजी से पैरवी हेतु हर कोशिश की। केस की कमजोर कड़ियों को पकड़ अब वो हारी बाजी को पलटने की पूरी तैयारी में लगी थीं।
हमारी कोशिशों को पलीता लगाने वालों की भी कमी नहीं थी। हम जितनी कोशिश उसे बरी करवाने की करते, दूसरा पक्ष उतनी ही ताकत से उसे अपराधी घोषित कराने में लगा था। सरकारी वकील और कई नामी गिरामी लोग बड़े डरे हुए थे क्योंकि- दो महीने में ही मृदुला जैन की दमदार पैरवी ने केस का रुख बदल दिया था। कोर्ट में सबकी सहानुभूति इस लाचार औरत से थी। एक दिन मैंने सुना कि देहरादून से कोई एक्सपर्ट आ रहा है जो कोर्ट में इस बात की पुष्टि करेगा कि यह गूंगी बहरी है। इस केस का एक कमजोर पक्ष था कि किरदेई को गूंगा-बहरा बताकर इशारों में ही उसका अपराध स्वीकार करना बताया गया था। खैर हमने जो नहीं करना था वह भी किया। वह एक्सपर्ट अपनी ही रिपोर्ट की पुष्टि हेतु कभी कोर्ट में नहीं आया। क्योंकि उसे पता चल चुका था कि वह गूंगी-बहरी नहीं है। पर इसके बावजूद जेल के अंदर भी षडयंत्रकारी सक्रिय थे। उनसे ज्यादा सक्रिय था किरदेई का भगवान शिव पर- अटल और अखण्ड विश्वास। मुझे जेल से हर खबर पता चल जाती कि कौन सा नया शिगूफा होने वाला है। हम उसका तोड़ खोजते। यह लुकाछिपी का खेल चलता रहा।
अचानक एक दिन मेरी वकील का फोन आया कि कुसुम जल्दी कोर्ट आओ। किसी ने तुम्हारे नाम से एक पर्चा जेल में किरदेई को दिया है कि- यह कुसुम ने भेजा है। इसे कोर्ट में जज साहब को देना है। यह तुम्हारे छूटने का कागज है। तुम इस पर अंगूठा लगा दो। उस वक्त केस निर्णायक मोड़ पर पहुँच गया था। किरदेई वह कागज किसी को देने को तैयार ना थी। जेल से ही किसी नेक बंदे ने यह खबर मेरी वकील तक पहुँचाई। आप हैरान होंगे जानकर कि उस पर लिखा था- मैं मुजरिम हूँ। मैं अपना अपराध स्वीकार करती हूँ। भोली किरदेई इस विश्वास में कि कुसुम ने दिया है, उसे लेकर कोर्ट गई। बड़ी मुश्किल से उस दिन जज साहब के सामने ही वकील ने वह कागज खींचा। सो यह बला टली। यह बात किरदेई ने सुनीता की मदद से खुद कलक्टर और मुझे बताई। सच जानकर किरदेई फिर से बड़ी आहत और गुस्से में थी। उसने चार दिन खाना नहीं खाया। दयालु कलक्टर राधा रतूड़ी को जब यह पता चला तो वह खुद जेल गई। समझा-बुझाकर अपने हाथों से उन्होंने किरदेई को चाय पिलाई।
उतार चढ़ावों के बीच 23 नवम्बर 2001 को किरदेई के भाग्य का फैसला हुआ। किरदेई को निर्दोष करार दिया गया। विद्वान न्यायाधीश माननीय श्री आर.पी.वर्मा जी ने अपने फैसले में कहा कि जाँच अधिकारियों ने एन.डी.पी.एस.एक्ट की धारा 42  50 का अनुपालन नहीं किया है। मुझे मृदुला दीदी ने फोन कर के बुलाया, पर पता नहीं क्‍यों उसके छूटने की खुशी मैंने अकेले ही सैलीब्रेट करना तय किया। मैं वैसे तो नई टिहरी में ही थी। मेरी वकील बता रही थी कि छूटने के बावजूद भी घंटों किरदेई कोर्ट से बाहर नहीं गई। वह मेरा इंतजार करती रही- अपनी टूटी फूटी हिंदी में कुचुम-कुचुम बोल। पर मुझ पर बहुत जिम्मेदारियां थीं। बहुत दिनों से हमारा कार्यालय का जरूरी काम छूटा था। सो आफिस के लोगों को भेजा। मेरी कलक्टर टिहरी डुबाने वाली थीं। सो मुझे अपने घर की लिपाई-पुताई और अपनी गुरू के माई बाड़ा के निर्माण काम के साथ चम्बा अस्पताल में भर्ती बीमार माँ को देखना था। किरदेई केस में मेरा कीमा बन गया था। मैंने बहुत नाराजगी झेली पर मैं संतुष्ट थी। मैंने गुरमीत से कहा छोड़ो किरदेई से मिलने से ज्यादा जरूरी है, उसे घर तक भेजने का इंतजाम कराना। सो पुलिस अधीक्षक अमित सिन्हा व जेलर से मिलकर उसे सरकारी अभिरक्षा में गाँव भिजवाने के प्रबंध में काफी वक्त निकल गया। वह छूट गई थी। यही हमारे लिए काफी था। हाँ मैं किरदेई को गाँव पहुँचाने वाली पुलिस टीम के सम्पर्क में रही।
बाद में किरदेई कथा-व्यथा को अखबारों और भारत सरकार के समाज कल्याण विभाग की पत्रिका संदेश ने महिला सशक्तिकरण वर्ष की लीड स्टोरी के तौर पर छापा। कलक्टर राधा रतूड़ी और महिला समाख्या के लिए यह बड़ा सबक और सौगात थी। यह जीत महिला ब्रिगेड के समन्वित प्रयासों का प्रतिफल था। हमने किरदेई की कथा-व्यथा का विश्लेषण अपने न्यूज लैटर ‘’रंतरैबार’’ में किया। किरदेई पर एक शानदार फ्रलैश कार्ड सीरिज मेरी सहकर्मी अमीता रावत ने तैयार की, जिसको महिला हिंसा पर संवाद हेतु गाँव-गाँव में प्रयोग किया गया।
किरदेई ने ठीक ही कहा था कि- औरतों के साथ लोग परदेश में ठगी करते हैं। कलक्टर राधा रतूड़ी का तबादला हो गया था। कलक्टर राधा रतूड़ी ने हमको ट्रीट देने का वादा किया था। पर मुझे आज तक वक्त ही नहीं मिला ट्रीट लेने का। सो वो आज भी हमारी कर्जदार हैं...। मैं सोचती हूँ ऐसा अन्याय फिर कभी किसी के साथ ना हो। गुमनाम किरदेई का छूटना मेरे जीवन का सबसे संतुष्टि वाला पल है। जहाँ हममें में से कोई भी एक दूसरे को नहीं जानता था। किसी को किसी से कोई अपेक्षा नहीं थी। किसी को किसी से दुबारा नहीं मिलना था। सब कुछ नियति के तयशुदा कालचक्र की तरह खामोशी से चल रहा था। यही तो जीवन के सबसे सुंदर पल हैं ना! जहाँ हर कोई निस्वार्थ भाव से अपने हिस्से की आहुति महादेव के इस- किरदेई यज्ञ में खामोशी से डाल उतनी ही तेजी से खामोश हो गया था। बस यूं ही किरदेई मेरे मन में कवीन्द्र रवीन्द्र की गीतांजली के सार- निर्भय मन, सर ऊंचा और श्रीकृष्ण के उपदेश-जब-जब धर्म की हानि होगी मैं आऊंगा बार-बार आऊंगा.... के व्यवहारिक बोध पर टिका कर अपने देश चली गई। मैं कभी नहीं भूलती हूँ किरदेई केस जीतने पर राधा दी की प्रतिक्रिया- कुसुम हमारा जी करता है हम यूं ही तुम्हारी लाजवाब टीम का मेम्बर बन एक साथ औरतों और कमजोर लोगों के लिए जमीनी काम करें। पर वो दिन फिर कभी नहीं आया।
सो कई कारणों से मैं किरदेई की अहसानमंद हूँ। उसको शुक्रिया बोलने को मेरे पास ना कोई शब्द हैं और ना कोई भाव ही...। परदेशी किरदेई मेरे मन के कोने में कहीं चुपचाप एक बुझी चिंगारी की तरह जीवन का कोई नया सबक सिखाने को बारूद की तरह बैठी है, महिला सशत्तिकरण पर अनुत्तरित इन सवालों के साथ- कि आखिर कब तक असली दोषी के बजाय निर्दोष लोग कानूनी प्रक्रियों का शिकार होंगे? किरदेई को तो दैवीय अनुकम्पा ने बेगुनाह साबित किया पर यहाँ सवाल किरदेई का नहीं, बल्कि एक साफ सुथरी चौकस व्यवस्था के ईमानदार क्रियान्वयन का है? जहाँ कोई और बेगुनाह किरदेई किसी जुल्म का शिकार ना हो? और किरदेई जैसों की जेल प्रताड़ना का हिसाब कौन देगा?
इस अनोखे किरदेई यज्ञ में आहुति डालने वाले हर हाथ की मैं तहेदिल से शुक्रगुजार और कर्जदार हूँ।

Sunday, July 1, 2018

सऊदी अरब:लम्बे संघर्ष के बाद स्त्रियों को ड्राइविंग की छूट

24 जून 2018 को स्त्रियों को ड्राइविंग से दूर रखने वाला दुनिया का इकलौता देश सऊदी अरब स्त्रियों के लम्बे अहिंसक संघर्ष के बाद अंततः झुक गया और पुरुषों की तरह वहाँ की राजशाही ने सऊदी स्त्रियों को भी अपनी कार चलाने की आज़ादी दे दी - हाँलाकि अभी भी इस्लामी शुद्धता को अक्षुण्ण रखने के नाम पर इसमें अनेक स्त्रीविरोधी शर्तें समाहित हैं। इस से पहले जब जब भी साहसी स्वतंत्रचेता सऊदी स्त्रियों ने प्रतीकात्मक विरोध प्रदर्शन किया उनपर इस्लाम विरोधी, विदेशियों के उकसावे से प्रभावित,अनैतिक और देशद्रोही होने का आरोप लगाया गया। मजेदार तथ्य यह है कि देश के कानून की कोई धारा स्त्रियों को ड्राइविंग करने से नहीं रोकती पर वहाँ इस्लामी नैतिकता की हिफ़ाजत करने वाली पुलिस बीच में आ जाती है और ज्यादातर मामलों में बगैर मुकदमा चलाये आंदोलनकारी स्त्रियों को प्रताड़ित करती है ,हिरासत में रखती है और उनकी आज़ादी का हनन करती है। 24 जून को यह इजाज़त दे तो दी गयी पर पिछले महीने इसकी माँग करने वाली प्रमुख स्त्री अधिकार कार्यकर्ताओं को अब भी हिरासत में रखा गया है - जाहिर है इसका श्रेय शासन स्त्रियों के संघर्ष को नहीं देना चाहती।मीडिया में यह बताया जा रहा है कि इस फैसले से बड़ी संख्या में शिक्षित स्त्रियाँ बाहर निकल कर कामकाज में लगेंगी और सऊदी अर्थव्यवस्था पर इसका सकारात्मक असर पड़ेगा। वास्तविक परिणाम तो आने वाला समय ही बताएगा। डॉ आयशा अलमाना ,डॉ हिस्सा अल शेख और डॉ मदीहा अल अजरूश हर वर्ष नवम्बर के शुरुआती हफ़्ते में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार वार्षिक मेल मुलाकात के लिए एकत्र होने वाली करीब पचास सऊदी महिलाओं के समूह का हिस्सा हैं जो सऊदी अरब के इतिहास में दर्ज़ हो गये 6 नवम्बर 1990 के ऐतिहासिक विरोध प्रदर्शन की स्मृति ताज़ा करने और विरोध की मशाल जलाये रखने के लिये आयोजित की जाती हैं , "ड्राइवर" लिखे हुए टी शर्ट पहनती हैं और कार का चित्र बना हुआ केक काटती हैं -- वर्षगाँठ के रूप में साल दर साल मनाये जाने वाले वे इस प्रतीकात्मक विरोध प्रदर्शन की फ़ोटो खींच कर एकत्र करती रही हैं।इंटरनेट ,फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मिडिया में ये तस्वीरें उपलब्ध हैं भले ही सऊदी अरब का शासन उनके ऊपर दमनात्मक शिकंजा कितना भी कसता रहे। सऊदी स्त्रीवादी आंदोलन की जनक मानी जाने वाली डॉ आयशा अलमाना एक शिखर व्यवसायी होने के साथ साथ देश की पहली महिला पी एच डी हैं और किसी शिक्षा संस्थान की पहली प्रिंसिपल भी हैं। समाजशास्त्र के क्षेत्र में उनके शोध का विषय भी सऊदी महिलाओं का आर्थिक उत्थान ही था। "फ़ोर्ब्स मिडिल ईस्ट" पत्रिका ने उनको अपना खानदानी व्यवसाय चलाने वाली पाँचवीं सबसे प्रभावशाली अरब महिला के रूप में नामित किया। डॉ शेख यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं और डॉ अजरूश स्त्री अधिकार ऐक्टिविस्ट होने के साथ साथ देश की जानीमानी फ़ोटोग्राफ़र भी हैं। डॉ आयशा, डॉ शेख और डॉ अजरूश ने मिलकर नवम्बर 1990 के ऐतिहासिक ड्राइविंग प्रतिरोध प्रदर्शन पर एक संस्मरणात्मक किताब लिखी है जो मार्च 2014 के रियाद बुक फ़ेयर में हॉट केक की तरह बिकी (फ़ोटो )-- सऊदी अरबिया की निर्भीक ब्लॉगर ईमान अल नफ़्ज़ान इस किताब का अरबी से अंग्रेज़ी अनुवाद कर रही हैं। इसका एक छोटा सा अंश उन्होंने saudiwoman.me ब्लॉग ने पोस्ट किया है -- यहाँ पाठकों के लिए उसका हिंदी अनुवाद प्रस्तुत है।
प्रस्‍तुति : यादवेन्‍द्र


6 नवम्बर 1990 को दोपहर बाद के करीब ढ़ाई बजे की बात है ,सेफ़ वे सुपर मार्किट की पार्किंग में ढेर सारी महिलायें एकत्रित होने लगी थीं। उनमें से कुछ को उनके ड्राइवर वहाँ ले के आये थे और कुछ को उनके शौहर या बेटे --- पार्किंग के अंदर पहुँच कर चाहे ड्राइवर हो या शौहर या बेटा ,सबने गाड़ी महिलाओं के हवाले कर दी। देखने से साफ़ मालूम हो रहा था कि कारों की संख्या की तुलना में महिलाओं की उपस्थिति कहीं ज्यादा थी -- कुल जमा चौदह कारें थीं जबकि विरोध प्रदर्शन में भाग लेने के लिए सैंतालीस महिलायें।ऐसा नहीं था कि सब एक दूसरे से परिचित सखियाँ सहेलियाँ ही थीं ,बल्कि उनमें से अनेक ऐसी थीं जो एक दूसरे से पहली मर्तबा मिल रही थीं। जिन जिन महिलाओं के पास सऊदी अरबिया के बाहर के  देशों से प्राप्त कानूनी ड्राइविंग था वे एक एक कर स्टीयरिंग सँभाल कर बैठ गयीं और दूसरी औरतें साथ देने के लिए बगल और पीछे की सीटों पर बैठ गयीं।दोपहर बाद की नमाज़ (जौहर) की अज़ान जैसे ही शुरू  महिलाओं ने अपनी अपनी गाड़ियाँ स्टार्ट कर दीं। उन सभी महिलाओं के ड्राइवर ,शौहर और बेटे पूरी खामोशी से पार्किंग में खड़े खड़े सबकुछ देखते रहे।इस आंदोलन की सरलता और सच्चाई ने इन महिलाओं को एक दूसरे के प्रति इतना भरोसा दिला दिया था कि वे एक तरह के श्रद्धाभाव में आकर साझा विरोध प्रदर्शन का साहस जुटाने में सफल रहीं। एकसाथ नहीं बल्कि एक के पीछे दूसरी ,तीसरी,चौथी …गाड़ी चली।कारों के इस काफ़िले में सबसे आगे आगे वफ़ा अल मुनीफ़ की कार चल रही थी .... डॉ आयशा अलमाना उनके पीछे पीछे थीं।किंग अब्दुल अजीज़ स्ट्रीट से शुरू होकर यह काफ़िला ओरोबा स्ट्रीट तक गया ,फिर बाँयी तरफ़ मुड़ गया और थालाथीन स्ट्रीट पर आ गया। वहाँ लाल बत्ती होने के कारण काफ़िला थोड़ा धीमा हुआ। इस दरम्यान कई बार आगे की कारें इसलिए धीमी हुईं कि पीछे वाले साथ आ जाएँ -- उन्होंने शुरू में ही साथ साथ चलने और रहने का फैसला किया था। कार चलाती महिलाओं को पैदल राह चलते लोग और दूसरी गाड़ियाँ चलाते लोग भरपूर अचरज के साथ मुड़ मुड़ कर देख रहे थे .... उन्हें अपनी आँखों पर विशवास नहीं हो रहा था, वे सदमे में थे पर कुछ कर नहीं पा रहे थे -- हतप्रभ होकर ताकते रहे। 


बागी तेवर अपनाये हुए ये महिलायें इस बात से उत्साहित थीं कि पुलिस ने उनको कहीं रोक नहीं … या यूँ कहें कि उनकी तरफ आँखें उठा कर नहीं देखा। नेतृत्व कर रही महिलाओं ने एक और चक्कर लगाने का निश्चय किया .... पर  जैसे ही दूसरा चक्कर शुरू हुआ पुलिस एकदम से हरकत में आ गयी- हाथ देकर गाड़ियों के काफ़िले को रोक दिया। रियाद पैलेस फंक्शन हॉल के सामने किंग अब्दुल अजीज़ स्ट्रीट पर एक एक कर सभी कारों को रोक दिया गया। पुलिस के पीछे देखते देखते धार्मिक पुलिस (आधिकारिक नाम ,कमीशन फॉर द प्रमोशन ऑफ़ वर्च्यू एंड प्रिवेंशन ऑफ़ वाइस ) के लोग जत्था बना कर खड़े हो गये। 
पुलिस ने महिलाओं की गाड़ियों का काफ़िला रोकने के बाद सबसे पहला काम यह किया कि एक एक कर ड्राइविंग सीट पर बैठी सभी महिलाओं से उनके ड्राइविंग लाइसेंस माँगे। आगे बढ़ कर एक महिला ने तपाक से अमेरिका में हासिल किया हुआ अपना ड्राइविंग लाइसेंस थमा दिया -- इस अप्रत्याशित घटना के लिए वह तैयार नहीं था ,सो घबरा कर वह अपने अफ़सर को बुलाने अंदर चला गया।उसके पीछे पीछे पुलिस के आला अफ़सर तो आये ही धार्मिक पुलिस के लोग भी सामने आ खड़े हुए। दोनों के बीच इस बात को लेकर खींच तान होने लगी कि उन महिलाओं के साथ कौन निबटेगा -- धार्मिक पुलिस के अफ़सर महिलाओं को अपने कब्ज़े में रख कर जाँच करना चाहते थे। महिलायें इसके लिए बिलकुल तैयार नहीं हुईं ,न ही पुलिस अफ़सर उन्हें धार्मिक पुलिस को सौंपने के लिए राज़ी हुए। " 
कट्टरपंथी सत्ता को खुले आम चुनौती देने वाले इस प्रदर्शन का नतीज़ा यह हुआ कि इसमें भाग लेने वाली नौकरी पेशा महिलाओं और उनके पतियों को गिरफ़्तार कर लिया गया और जेल से छूटने पर नौकरी से या तो निकाल दिया गया या प्रताड़ित किया गया।सार्वजनिक तौर पर अपमानित किये जाने का सिलसला अबतक चल रहा है पर स्वतंत्रचेता स्त्रियों के हौसले पस्त नहीं पड़े। थोड़े थोड़े समय बाद प्रतीकात्मक विरोध की ख़बरें निरंतर आती रहीं। कुवैत पर इराकी कब्ज़े के समय जब पूरा अरब जगत भयभीत था ,एकबार फिर सऊदी महिलाओं ने सामूहिक तौर पर ड्राइविंग का प्रदर्शन कर के कठमुल्लेपन को चुनौती दी -- उनका तर्क था कि पुरुषों को  लड़ाई के लिए पूर्णकालिक तौर पर उपलब्ध कराने के लिए यह ज़रूरी है कि महिलाओं को अपना कामकाज संपन्न कर सकने के लिए ड्राइविंग करने की इजाज़त दी जाये।   
प्रतिकार के इस ऐतिहासिक प्रदर्शन के इक्कीस साल बाद मक्का के पवित्र शहर में जन्मी युवा इंजिनियर मनल अल शरीफ़ ने 2011 की गर्मियों में जब सारा मध्य पूर्व लोकतंत्र की माँग करते हुए युवा विद्रोह की ज्वाला में धू धू कर जल रहा था तब सऊदी अरब की स्त्रियों की आज़ादी के लिये प्रतीकात्मक तौर पर खुली सड़क पर घंटा भर कार चला कर एक बार फिर से बड़ा धमाका कर दिया -- पहले अकेले और दूसरी बार भाई के साथ बैठ कर कार चलाने का कारनामा मनल ने इसबार रियाद में नहीं पूर्वी राज्य खोबर में किया। उनको इस "गुस्ताख़ी"के लिए न सिर्फ़ बार बार गिरफ़्तार किया गया बल्कि "अरामको" जैसी बड़ी कम्पनी की सम्मानित नौकरी से निकाल दिया गया। जेल से रिहाई के लिए शासन तब तैयार हुआ जब मनल के पिता स्वयं सऊदी अरब के बादशाह  के दरबार में माफीनामे के साथ हाज़िर हुए। एक गैर अरबी युवक से शादी के लिए शासन ने उनको अनुमति नहीं दी तब उनको देश छोड़ कर दुबई में नौकरी लेनी पड़ी -- हर हफ़्ते वे दुबई से पहली शादी से हुए बेटे से मिलने सऊदी अरब आती हैं। बाद में वे ऑस्ट्रेलिया जाकर बस गयीं। 
मई 2011 में खुले आम सऊदी सड़कों पर गाड़ी चला कर तूफ़ान खड़ा कर दीं वाली मनल कहती हैं : "मेरे आसपास सभी लोग सऊदी औरतों के ड्राइविंग पर लगे प्रतिबन्ध की आलोचना तो करते थे पर आगे आने को कोई तैयार नहीं था … उनदिनों अरब बसंत की चर्चा और हवा चारों ओर फ़ैल रही थी ,सो मुझे लगा कि घर में बैठे बैठे स्थितियों को कोसते रहने का कोई फायदा नहीं.... करना है कुछ तो इसी समय करना है ,अब और इंतज़ार नहीं .... कोई न कोई तो होगा ही जिसको अगुआई करनी होगी ,दीवार ध्वस्त करनी होगी कि अब देखो ,क्या हुआ जो तुमने खुली सड़क पर गाड़ी चला दी … ऐसा करने पर कोई रेप थोड़े कर देगा। "
आगे मनल बताती हैं कि जब पुलिस ने उनको रोका और बोला :"ऐ लड़की ,ठहरो और गाड़ी से उतर  कर  बाहर आओ .... इस मुल्क में औरतों को गाड़ी चलाने की इजाज़त नहीं है। " मैंने पूछा :"मेहरबानी कर के मुझे बतायें मैंने कौन सा कानून तोड़ा है ?"
इसका जवाब किसी के पास नहीं था ,वे सिर्फ़ यह बोले :"तुमने कोई कानून नहीं तोड़ा ....पर चलन / परिपाटी का उल्लंघन किया है। "
अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए व्यापक जान समर्थन जुटाने के लिए उन्होंने woman2drive अभियान की शुरुआत की। शासन के प्रतिबंधों का उल्लंघन करने के लिए उन्हें महीनों जेल में रहना पड़ा। माँ पिता और बेटे के सामने मनल को सार्वजानिक तौर पर वेश्या कह कर पुकारा गया - माँ जब इससे आहत होकर बेटी से अपना रास्ता बदल देने का आग्रह करतीं तो मनल का एक ही जवाब होता कि जिस दिन सऊदी सरकार पहली औरत को ड्राइविंग लाइसेंस जारी करेगी उस दिन मैं अपना अभियान रोक दूँगी। उनकी मौत की झूटी अफ़वाह भी फैलाई गयी। ड्राइविंग के अतिरिक्त सऊदी शासन के अनेक दमनात्मक कानूनों की उन्होंने खुली मुख़ालफ़त की। उन्हें इन प्रताड़नाओं के कारण अपना देश छोड़ कर जाना पड़ा ,अब वे ऑस्ट्रेलिया में रहती हैं। उनका कहना है कि पिछले कुछ वर्षों से मेरे दो चेहरे हैं - मेरे अपने देश में मैं एक विलेन हूँ - एक ऐसी गिरी हुई औरत जो धर्म को चुनती देती है इसलिए घृणा का पात्र है। पर बाहर की दुनिया में मैं एक हीरो हूँ। 
मनल को अपूर्व साहस का परिचय देने के लिए 2012 के ओस्लो फ्रीडम फ़ोरम में व्याख्यान देने के लिए आमंत्रित किया गया और क्रियेटिव डिसेंट के हेवेल प्राईज़ से नवाज़ा गया। टाइम पत्रिका ने उन्हें 2012 में दुनिया के सर्वाधिक प्रभावशाली लोगों के समूह में शामिल किया है। अपने देश लौटने पर उनपर आक्रमण और तेज हो गए और अंततः नौकरी से हाथ धोना पड़ा। उनके इन संस्मरणों की किताब "डेयरिंग टु  ड्राइव:ए सऊदी वुमन्स अवेकेनिंग" (2017)  दुनिया के एक बड़े प्रकाशन से छप कर आ चुकी है जिसके अनेक भाषाओँ में अनुवाद हुए हैं।  

Saturday, June 30, 2018

ऐसी ज़िन्दगी किस काम की जो सिर्फ़ घृणा पर टिकी हो


कवि, कथाकार एवं विचारक ओमप्रकाश वाल्मीकि की स्मृति




मैं आपके इस तर्क को निराधार तो नहीं मान सकता कि एक लम्‍बे समय तक आपकी रचनाओं को स्‍थापित पत्र पत्रिकाओं में जगह न दिया जाना आपका दलित होना रहा होगा, लेकिन थोड़ा वस्‍तुनिष्‍ठ तरह से इस संभावना को रखना चाहूंगा कि हिंदी में पेशेवराना मिजाज न होने के कारण ही ऐसा हुआ होगा। पेशेवराना अभाव के कारण ही हिंदी आलोचना, आलोचकों की पहुंच की सीमा बनी हुई है। 1989 में प्रकाशित आपकी कविता पुस्तिका ‘सदियों का संताप’ भी उसी गुमानामी के अंधेरे में रहा होता यदि हिंदी में दलित साहित्‍य को पहचाना नहीं गया होता। इतिहास गवाह है कि ‘सदियों का संताप’ के प्रकाशन तक हिंदी में दलित साहित्‍य नाम की संज्ञा न होने के कारण रचनाओं के बाबत उस पुस्तिका में हम कहीं भी नहीं कह पाये थे कि ये दलित कविताएं हैं।
हिंदी में दलित साहित्‍य की आवाज तो ‘हंस’ संपादक राजेन्‍द्र यादव से हुई आपकी उस भेंट के बाद ही संभव हुई, जिस मुलाकात में तीखी बहस के बाद हंस संपादक ने आपसे हंस के लिए कविताएं भेजने को कहा था और मिलते ही उन्‍हें हंस में छापा भी था। बस इतना ही तो था हिंदी में दलित साहित्‍य के उभार का वह घटनाक्रम। जबकि बाद में तो आपकी रचनाओं को छापने वाले संपादकों के फोन और पत्रों की बाढ़ के हम आपके साथी गवाह रहे। उस वक्‍त आप अपने लेखन में ठीक ठाक व्‍यस्‍क हो चुके थे। यानी एक लेखक के रूप में आपकी पहचान आपके किशोर वय के दौरान की पहचान नहीं रही। इसी कारण हिंदी कविताओं को ‘इतिहास’ लिखने वाली आलोचना के पास आपकी पहचान को किसी ‘दशक’ में पहचानना मुश्किल ही बना हुआ है। जिस तरह कुछ लेखकों को किशोर वय में ही हाथों हाथ ले लिया जाता है, आप भी यदि उसी तरह एक लेखक के रूप में स्‍थापित हो गए होते तो यह आशंका जाहिर की ही जा सकती है कि हिंदी में दलित साहित्‍य के प्रणेता का दर्जा आपको शायद ही मिला होता। किसी आंदोलन का प्रणेता होने के लिए जिस वैचारिक तैयारी की जरूरत होती है, ‘तारीफ और तालियां’ आपको भी पता नहीं वैसा करने का मौका देती या नहीं। तालियों की गड़गड़ाहट यूं भी किसी को अपने में कहां रहने देती है। आप भी अपने करीब बने रहते, ऐसा न मानने के पीछे बस वे सामाजिक प्रवृत्तियां ही आधार हैं जो हिंदी में ‘अतिमहत्‍वाकांक्षा’ का कोहराम मचाए नजर आती हैं। आशंकाओं को निर्मूल न माने तो यह बात दृढ़ता से कही जा सकती है कि आप कवि, कहानीकार खूब कहलाए होते, लेकिन जिस तरह की वैचारिक जद्दोजहद आपने की, हिंदी की हमारी दुनिया उससे वंचित भी रह सकती थी।     

'जाति' आदिम सभ्यता का 
नुकीला औज़ार है 
जो सड़क चलते आदमी को
कर देता है छलनी 
एक तुम हो
जो अभी तक इस 'मादरचोद' जाति से चिपके हो 
न जाने किस हरामज़ादे ने 
तुम्हारे गले में 
डाल दिया है जाति का फन्दा
जो न तुम्हें जीने देता है
न हमें !   

यह कविता बाद के दौर की कविता है। उस दौर की, जब एक रचनात्‍मक स्‍वीकारोक्ति ने आपको आत्‍मविश्‍वास से भरना शुरु कर दिया था। शुरुआती दौर की कविताओं से इस मायने में भिन्‍न हैं कि वहां जो गुस्‍सा था, असहायता की क्षीण सी रेखा खींचता देता था, इनमें वह चुनौति प्रस्‍तुत करने लगा था। बानगी के तौर पर शुरूआती दौर की आपकी एक कविता का स्‍वर  कुछ यूं था,

मैंने दुख झेले
सहे कष्‍ट पीढ़ी-दर-पीढ़ी इतने
फिर भी देख नहीं पाए तुम
मेरे उत्‍पीड़न को
इसलिए युग समूचा
लगता है पाखंडी मुझको ।

इतिहास यहाँ नकली है
मर्यादाएँ सब झूठी
हत्‍यारों की रक्‍तरंजित उँगलियों पर
जैसे चमक रही
सोने की नग जड़ी अँगूठियाँ ।

कितने सवाल खड़े हैं
कितनों के दोगे तुम उत्‍तर
मैं शोषित, पीड़ित हूँ
अंत नहीं मेरी पीड़ा का
जब तक तुम बैठे हो
काले नाग बने फन फैलाए
मेरी संपत्ति पर ।

मैं खटता खेतों में
फिर भी भूखा हूँ
निर्माता मैं महलों का
फिर भी निष्‍कासित हूँ
प्रताडित हूँ ।

इठलाते हो बलशाली बनकर
तुम मेरी शक्ति पर
फिर भी मैं दीन-हीन जर्जर हूँ
इसलिए युग समूचा
लगता है पाखंडी मुझको । (अक्‍टूबर 1988)

निश्चित ही यह बदलाव इस बात के गवाह हैं कि अब आप अपने रास्‍ते, जो यू तो पहले से तय था, उस पर पूरी शिद्धत से बढ़ना शुरु कर चुके थे। यह विकास ही आपको आत्‍मविश्‍वासी बनाता रहा और यह आत्‍मविश्‍वास ही आपको उदात भी बनाता चला गया,

ऐसी ज़िन्दगी किस काम की
जो सिर्फ़ घृणा पर टिकी हो
कायरपन की हद तक
पत्थर बरसाये
कमज़ोर पडोसी की छत पर!

...जारी

  स्‍मृति

Saturday, June 23, 2018

मुझसे बातें करती जाती है

भिन्नता का सम्मान करना और उसके बीच बने रहना, सहज मानवीय गुण हैं। इस ब्रह्माण्ड की सम्पूर्ण अभिव्यक्ति-जो प्रकृति के रूप में हमारे इर्द गिर्द बिखरी है, हमारे भीतर और बाहर है, कहीं हमशक्ल तक भी दिखती नहीं, उसके अदृश्य गुणों की भिन्नता की बात तो क्या ही की जाए। सभ्यता के विकासक्रम में भिन्नता के संग साथ सतत बनी रहने वाली प्रकृति की प्रेरणा ने ही जनतांत्रिक मूल्य एवं नैतिकता के मानदण्ड रचे हैं। 

यह सुखद अहसास है कि अनीता सकलानी, जिनके कवि होने की घोषणाएं शायद ही सुनी गई हों, अपनी डायरी में भिन्नता का कोहराम मचाये हैं। उनकी कविताओं का मिजाज भिन्नता के यशोगान में ही आप्लावित है। कहें कि भिन्नता का काव्य उत्सव मनाते रहना उनकी कविताओं का ध्येय होता हुआ है। व्याकरण सम्मत कसाव में उनके कहन की सहज स्पष्टता, मजबूर कर रही है कि उनके कवि होने की घोषणा कर दी जाये।

 वि.गौ.

अनीता सकलानी










अदभुत


उड़ती हूं बादलों में
रोम-रोम पुलकता है
स्‍नान करती है आत्‍मा
अपसृत धाराओं में
सितारों संग, बिखरी पड़ी है, शरद पूर्णिमा
आकाश में

चांदनी से नहायी पृथ्‍वी में
विभोर होती है मीरा गलियों में
कबीर एक तारा बजाते हैं
सूर के कृष्‍ण नृत्‍य करते हैं
पेड़, पर्वत, नदी, एक नीली झीनी चादर ओढ़े
हवा के साथ करते ठिठोली हैं

एक धरती
एक लोग
भेद नहीं कहीं भी
इस धरती पर मैं समायी
अदभुत है 
  

आकाश


हवा मुझे ले जा रही आकाश में
नीचे मेरी प्‍यारी धरती

कभी पहाड़ कभी जंगल कभी चट्टानें
घुमड़ कर बादल आवेग में,
हृदय की लहरों की तरह

गहराई में छोटे-छोटे मकान
जैसे बच्‍चों ने खेल में बनाए हुये

शायद पाकिस्‍तान शायद अफगानिस्‍तान
कोई देश मेरे अनजाने
खुशी से ठाठे मारता समुद्र,
रात,
चांद पर रीझती रात
यहीं कहीं रहती है मेरी बेटी
थक कर सोई बिछौने में,
एक स्‍वप्‍नमयी नींद

मुझसे बातें करती जाती है
यह पृथ्‍वी