Tuesday, July 23, 2013

अजगरी सबक




डॉ. शोभा राम शर्मा

बहुत पुरानी बात है। पीले पट्ठार की किसी पीली घाटी में एक पीला अजगर रहता था। उसका रंग इतना प्यारा था कि इधर-उधर के चूहे, मेंढक और दूसरे-दूसरे जानवर उस घाटी में आकर रहने लगे। कुछ दिनों में देखा गया कि घाटी में न कोई चूहा था न मेंढक का पूत। इस पर दूसरे जानवरों का माथा ठनका। पता चल गया कि हर चमकने वाली चीज सोना नहीं होती। वे जान बचाकर दिशा-दिशाओं में भाग निकले। कहते हैं कि वर्षों तक वह पीला अजगर उसी घाटी में सोया पड़ा रहा। वर्षों तक केवल हवा फाँककर जिन्दा रहा। दुनिया को बड़ा आश्चर्य हुआ। इसी बीच उसके बेटे-बेटियों ने एक के बाद एक कई पीढि़यों को जन्म दे दिया। अजगरों से सारी घाटी पट गई। बूढ़े अजगर को साँस लेने में भी कठिनाई होने लगी। जब अजगरों को खाने को कुछ नहीं मिला तो वे एक दूसरे को निगलने लगे। स्वयं बूढ़े अजगर ने साँस खींची तो अनेक छोटे-मोटे अजगर उसके पेट में न जाने कहाँ समा गए। अपने भरे-पूरे परिवार को छोटा देखकर अजगर को बड़ा दुःख हुआ।
एक दिन उसने घाटी से सरकना आरम्भ किया तो एक पीली दुनिया उसके पीछे थी। वह जिधर भी सरकता गया, सब कुछ पीला होता गया। नदी, पहाड़, जंगल, घाटियाँ, मैदान और यहाँ तक कि सागर भी पीले पड़ गए। उसने उत्तर की ओर मुँह किया तो भेडि़ए अपनी मांदों में जा छिपे। सफेद भालुओं ने नरम-नरम बपर्फ में घुसकर अपनी जान बचाई। दक्षिण की ओर बढ़ा तो गरम चिपचिपा मौसम आड़े आया और पिफर भारी भरकम हाथियों और चीतों ने भी कई अजगरों को कुचल डाला। पूर्व की ओर बढ़ा तो पीले सागर की मछलियां गायब हो गई। पश्चिम के रेतीले पट्ठार पर जब चूहे समाप्त हो गए तो उसने आगे सरकना छोड़ दिया। इस अभियान में एक विशाल पीले साम्राज्य की स्थापना हो गई। एक अजगरी संस्कृति ने जन्म लिया, जिसका मूल-मंत्रा था- ‘बेशुमार सन्तान पैदा करो और कुछ न मिले तो एक दूसरे को निगल जाओ।’
बूढ़े अजगर ने एक दिन अपने सबसे बहादुर बेटों को बुलाया और कहा- ‘प्यारे बेटो, मैं बूढ़ा हुआ, अब आराम करूंगा। अपनी पीली दुनिया का भार अब तुम्हारे सिर है। मैं सोउफंगा पर जब भी करवट लूं, मेरे खाने-पीने का इन्तजाम बदस्तूर चलता रहे।’ बेटों ने कहा- ‘अब्बाजान, हम तो कब से चाहते हैं कि आप अब अपने पर रहम करें। पीली दुनिया का भार हम अपने उफपर लेते हैं। आप निश्चिन्त रहें।’
आश्वस्त होकर बूढ़ा अजगर सो गया। बेटों ने पीली दुनिया को आपस में बाँट लिया। पहले तो वे इधर-उधर से लड़ते रहे, जब कोई सामने नहीं आया तो एक दूसरे से लड़ने लगे। पीली दुनिया में कुहराम मच गया, पर बूढ़े अजगर की नींद नहीं खुली। उसके खाने-पीने का इन्तजाम बदस्तूर चलता रहा। जब भी एक करवट लेता और जोर की सांस खींचता सामने बंधे उत्तर के भालू-भेडि़ए, दक्षिण के बन्दर-चीते और पूर्व की मछलियां उसके खुले मुँह में समा जाते। वह डकार तक नहीं लेता और दूसरी करवट आराम से सो जाता। नालायक बेटों ने इस बीच इतनी आबादी बढ़ा दी कि उतनी बड़ी पीली दुनिया भी छोटा पड़ गई। मछलियाँ तो मछलियाँ, नदियों और झीलों का पानी तक कम पड़ गया, हर जगह अजगर सरकते नजर आने लगे। बड़े अजगर अब आँखों में आँसू भर कर छोटे अजगरों से कहते- ‘प्यारे बच्चों हमने कितने कष्ट झेलकर तुम्हें इतना बड़ा किया? अब तुम्हारे ये बूढ़े माँ-बाप भूखे मरते हैं, बताओ, तुम्हारा क्या कर्तव्य है?’
छोटे अजगर मुँह खोलते कि उससे पहले ही वे वहाँ पहुँच जाते, जहाँ से वे इस दुनिया में आए थे। भूख-प्यास और बड़ों के आंतक से घबराकर कुछ अजगर, बीहड़ वीरान जगहों में जा छिपे। कुछ दक्षिण के गरम जंगलों में जा घुसे। कुछ बड़े उफँचे पहाड़ों को पारकर पीली दुनिया से बाहर निकल गए और कुछ पीले सागर के पार न जाने किन-किन देशों और द्वीपों में जाकर बस गए। कुछ ने बूढ़े अजगर के पास जाकर पफरियाद की- ‘हे हमारे अब्बाओं के अब्बा! आपके रहते यह कैसा अन्धेर है कि हमें चुपचाप निगल लिया जाता है। कोई एक बूँद भी आँसू नहीं बहाता।’
बूढ़े अजगर ने आँखें खोली, देखा कि सामने एक विशाल पीला अजगर लहरा रहा है। छोटे-छोटे अजगर एक दूसरे से सटकर विनती कर रहे थे। उनींदी आँखों से बूढ़े अजगर को भ्रम हुआ। कतार को अपना प्रतिद्वन्द्वी समझकर वह ताव खा बैठा। एक तगड़ी सांस खींची तो सारे के सारे अन्दर। उतने सारे अजगरों के एक साथ पेट में चले जाने से बूढ़े अजगर का हाजमा खराब हो गया। पेट में मरोड़े उठने लगे। बूढ़ा अजगर तड़फने लगा। पीली दुनिया में जैसे भूकम्प आ गया। बहुत दवा-दारू की गई पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। अन्त में पता चला कि दक्षिण के जंगलों में कोई दूर देश का एक पहुँचा हुआ जटा-जटधारी लंगूर महात्मा आया है। बड़ी कठिनाई से महात्मा को लाया गया। महात्मा ने मरीज से कहा- ‘हे पीले देश के बुजुर्गों के बुजुर्ग! आपके पेट में दर्द है कि आपके अपने ही आपके पेट  में चले गए- यह मोह कैसा? आपने तो एक-दो नहीं सारी की सारी पीढि़यां देखी हैं। कहाँ हैं वे सब? जहाँ से आए थे वहीं चले गए तो यह कष्ट कैसा? सच पूछो तो न आप-आप हैं और न वे-वे थे जो आपके पेट में चले गए। सब कुछ एक है- एको{हम द्वितीयो नास्ति। इस चरम सत्य के उफपर माया का आवरण पड़ा है और उसके लुभावने आकर्षण में हम भटकते हैं। इस आवरण को चीरकर पफेंक दो। पिफर न आप-आप हैं न आपका पेट है और न उसका दर्द।’
मरीज ने कुछ आश्वस्त होकर कहा- ‘महात्मन कमाल है! आपके शब्दों ने तो जादू कर दिया। दर्द गायब है। उलटे भूख लगने लगी है। समझ में नहीं आता कि जब मैं-मैं नहीं, पेट-पेट नहीं तो यह भूख कहाँ से उग आती है?’
महात्मा बोले- ‘यह भी आपका भ्रम है। भ्रम का निवारण कीजिए तो भूख कहाँ है?’ अजगर ने अपनी चिपचिपी आँखंे मिचमिचाई और कहा- ‘महात्मन, आप भी तो आप नहीं, पर मुझे दिखाई दे रहे हैं और मेरी आँतें बुरी तरह बुलबुला रही है।’ महात्मा अवाक्! देखते-देखते अजगर ने अपना विकराल मुँह खोला, सांस खींची और महात्मा गायब। खबर उड़ गई कि महात्मा आकाश में उड़ गए।
पिफर तो गजब हो गया। बूढ़े की भूख बढ़ती गई। उसकी आँखों से चिनगारियाँ बरसने लगी। मुँह से लपटें निकलने लगी और लपटों का विषैला पीला धुंआ सारे आकाश में भर गया। उसने पुनः सरकना आरम्भ कर दिया तो सरसराहट से दसों दिशाएँ कांपने लगी। अगल-बगल में बसे भगोड़े अजगरों में हड़कम्प मच गया। वे खिराज लेकर उपस्थित हुए। अनुनय की- ‘महामहिम, हम कोई गैर नहीं, आपके अपने ही हैं। हमें अपनी ही प्रजा समझिए। हम हर सेवा के लिए तैयार हैं।’
बूढ़ा अजगर पिफसपिफसाया- ‘तुमने अपने देश से भागकर पहला अपराध किया। पिफर अपनी दुनियां अलग बसाकर दूसरा अपराध किया। इससे भी बड़ा अपराध तो यह है कि तुमने अपना रंग बदलकर पीली दुनिया को अपमानित किया। बोलो तुम्हें सबक सिखाना मेरा अधिकार है या नहीं?’
एक भूखे अजगर ने कहा- ‘हे दादाओं के दादा! हमने स्वयं रंग नहीं बदला, वहाँ कहीं गर्मी और मिट्टी ने हमारा रंग बदल डाला है। हम जानते हैं कि आपको भूख कितना सताती है। सच पूछो तो हम उसी का इन्तजाम करने इधर-उधर गए हैं। जब भी आवश्यकता हो लिख भेजें। अपने ही तो काम आते हैं।’
इस बीच सारी खिराज बूढ़े अजगर के पेट में समा चुकी थी। उसने सन्तोष की सांस ली और मुस्करा कर बोला- ‘लगता है बाहर जाकर अक्लमंद हो गए हो। चलो, आज तो मापफ किया, लेकिन इतना ध्यान रखना कि मैं तुम्हारे पूर्वजों का पूर्वज हूँ। तुम्हारे कान उमेठना मेरा पहला अधिकार है।’
भगोड़े अजगरों की जान में जान आई। सस्ते में जान छूटी तो रातों-रात भागकर अपने-अपने घर पहुँच गए। बूढ़े अजगर की पफरमाइशों से तंग आ गए तो उपाय सोचने लगे। उन दिनों वहाँ कुछ घुटमुण्डे लंगूर साधु-सन्यासी अपने धर्म का प्रचार कर रहे थे। वे कहते थे कि हिंसा मत करो, प्रेम और शान्ति से रहो। भूरे अजगरों ने उनके सामने अपना दुखड़ा रोया। उन्होंने बताया कि यदि वे पीले देश के बूढ़े अजगर का हृदय बदल सकें तो दुनिया का बड़ा कल्याण हो। घुटमुण्डे साधुओं ने चुनौती स्वीकार कर ली। उन्होंने बूढ़े अजगर की आदतों के बारे में गहराई से छान-बीन की। इसी बीच उन्हें पिछले महात्मा के गायब होने का रहस्य भी ज्ञात हो गया। उनमें से एक ने बड़े उफँचे पहाड़ों को पार किया और घोड़ों, गधों, उफंटों और याकों पर ढेरों पुस्तकें तथा दवाइयाँ लादकर पीले देश को रवाना हुआ। उसने बूढ़े अजगर के सबसे प्यारे बेटे को बस में कर लिया। बेटे ने साधू को बूढ़े अजगर तक पहुँचाया जो पीले देश के बीचोंबीच निकल पड़ा था। अपच के मारे उसका बुरा हाल था। दक्षिण से जो हाथी भेजा गया था उसे निगलने में एक बड़ा सा दाँत बूढ़े अजगर के गले में पफँस गया था। उधर-उत्तर के अजगर उसे लांघकर दक्षिण में आना चाहते थे। उत्तर के भेडि़यों और भालुओं ने अजगरों से निपटने की कला सीख ली थी। वे अचानक पीछे से हमला करते और माँस नोचकर भाग खड़े होते। बूढ़े अजगर के मुँह की ओर से बढ़ने की उनमें हिम्मत नहीं थी। पूँछ की ओर से आना चाहा तो अपच में बूढ़े अजगर की उछलती पूँछ से दबकर मर जाने का खतरा था। दूर देश से साधू ने बूढ़े अजगर के बेटे से कहा- ‘हे पीले देश के राजा! बूढ़े अजगर को यहाँ ऐसे ही पड़ा रहने दो तो तुम्हारे दक्षिणी भाग की रक्षा हो सकती है।’
यही निश्चय हुआ और साधू ने बूढ़े अजगर का इलाज आरम्भ किया। गले में पफँसे हाथी-दाँत को निकाल दिया गया तो बूढ़े अजगर ने आँखें खोली। सामने घुटमुण्डे साधु को देखकर मुस्कराया, बोला- ‘महात्मन, दाढ़ी ओर जटाजूट का क्या हुआ? क्या तुम वहीं नहीं हो?’
साधु ने कहा- ‘हाँ, मैं वही हूँ। दाढ़ी और जटा तो तुम्हारे पेट में गल गए, लेकिन मैं तुम्हारे कष्ट का निवारण करने बाहर निकल आया हूँ।’
‘तो पहले मेरे अपच का इलाज करो’। बूढ़ा अजगर बोला। साधू ने दवाइयों से लदे पाँच गधे उसके सामने कर दिए। बात ही बात में पाँचों गधे ढेरों दवाइयों सहित बूढ़े अजगर के पेट में समा गए। अजगर ने राहत की सांस ली। वह मुस्कराकर पुनः बोला- ‘महात्मन, जब मैं-मैं नहीं, पेट-पेट नहीं तो यह भूख कहाँ से आती है?’
साधू ने कहा- ‘हे जरठ! यह तो देह का धर्म है। देहधारी को भूख तो सताएगी ही। पर हिंसा से विरत रहना ही सबसे बड़ा धर्म है।’ लगता है कि अब आपके ज्ञान में अक्लमन्दी के पर भी उग आए हैं। मैं देहधारी का कर्तव्य ही तो पालता हूँ। हिंसा भी मैं नहीं करता। देखते नहीं समूचा निगल जाता हूँ। एक बूंद भी खून नहीं बहाता। पिफर उतनी दूर से तुम यहाँ क्या सिखाने आए हो? बूढ़े अजगर ने पूछा।
साधू ने उत्तर दिया- ‘हे महात्माओं के महात्मा! मैं सिखाने नहीं सीखने आया हूँ। भगवान तथागत ने मुझे आपके पास भेजा है। कितने करुणामय हैं वे! उन्होंने मुझसे कहा कि पीले देश में उनका सबसे पुराना और सबसे बड़ा भक्त कष्ट में हैं। एक बार पुनः उसके पास जाओ। वह थोड़ा सा भटक गया है। संयम और संतोष की थोड़ी सी कमी रह गई है। मेरा सन्देश उस तक ले जाओ और ढेर सारा ज्ञान लेकर वापस आओ। दोनों ओर कल्याण होगा।’
अजगर ने कहा- ‘भगवान तथागत का भला हो! लेकिन संयम और संतोष तो भरे पेट को सुहाते हैं। तुमने न जाने कौन सी दवा दी, यहाँ तो पेट में चूहे कूदने लगे हैं।’
साधु घबराकर पीछे हटा। उसने पुस्तकों से लदे घोड़े, उफँट और याक अजगर के सामने कर दिए। पिफर वहीं से बोला- ‘मंजु श्री कल्प भगवान तथागत किसी भूखे का कष्ट नहीं पाते। उन्होंने कहा था- मेरे भक्त को भूख बहुत सताती है, उसका इन्तजाम करके जाना। पहले आप देह-धर्म का पालन करें पिफर और बाते होंगी।’ अजगर ने जोर की सांस खींची और घोड़ों, उफँटों और याकों सहित ढेरों पुस्तकें उसके पेट से समा गई। साधु ने देखा कि भरे पेट के संतोष के कारण बूढ़ा अजगर झपकी लेने लगा है। वह उसके सामने आया और गले में कण्ठी बाँधकर बोला- बोलो ‘बु(म् शरणम् गच्छामि’। झपकी लेते-लेते अजगर पुफसपुफसाया- ‘बु(म् शरणम गच्छामि।’ और पिफर ‘संघम् शरणम् गच्छामि’ के साथ दीक्षा पूरी हो गई। नींद के झोंके तेज होने लगे तो साधु जल्दी-जल्दी में प्रार्थना- चक्र थमाकर कानों में पुफसपुफसाया- ‘हे जरठ! इस प्रार्थना-चक्र को निरन्तर घुमाते रहो। जो ग्रन्थ तुम्हारे पेट मंे समा गए हैं, उनके मंत्रों का जाप करते रहो। समाधि मंे इस तरह डूब जाओ कि साक्षात भगवान तथागत के प्रतिरूप बन जाओ। एक बार आँखें खोलकर अपनी सन्तान से जो कुछ कहना चाहो कह दो और आवागमन के बन्धन से निर्वाण प्राप्त करो।’
बूढ़े अजगर ने आँखें खोली। अपने बेटों को पास आने का संकेत किया। वे पास आ गए तो उसके गले में भारी आवाज आई- ‘मेरे प्यारे बेटों! मैं समाधि ले रहा हूँ। मेरी भूख के कारण तुम्हें जो कष्ट झेलने पड़े, उन्हें मन में न लाना। मैंने इस पीले देश की स्थापना तुम्हारे ही लिए की थी। इसकी गरिमा को आँच न आने देना। यह मत भूलना कि तुम दुनिया के सबसे पुराने अजगर की सन्तान हो। दुनिया को सबक सिखाना तुम्हारा काम होगा। तुम्हें एक भेद की बात बताउफँ -यह मेरी बूढ़ी चीमड़ खाल एक दिन सड़कर मिट्टी में मिल सकती है लेकिन मेरी आत्मा तुम में से किसी के भीतर चली आएगी और पिफर दुनिया की कोई शक्ति तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़ सकेगी। अच्छा अब मैं समाधि लेता हूँ। भगवान तथागत तुम्हारा कल्याण करें!’ ... कहते-कहते बूढे़ अजगर की आँख बन्द हो गई और वह खर्रांटे लेना लगा।
साधु ने संकेत किया और पीले देश के असंख्य अजगर अपने बुजुर्गों के बुजुर्ग का स्मारक बनाने में जुट गए। कुछ ही दिन में बूढ़े अजगर के उफपर एक विशाल लम्बा-चौड़ा पथरीला अजगर पीले देश के बीचों-बीच खड़ा हो गया। सदियों तक उस विशाल दीवार के नीचे घूमते प्रार्थना-चक्र का स्वर पीले देश के हर कोने में सुनाई देता रहा। पीले देश के अगल-बगल से खिराज मिलती रही और अजगर अमन-चैन से दिन काटते रहे।
;2द्ध
समय ने करवट बदली। विशाल दीवार के नीचे घुमते प्रार्थना-चक्र का स्वर मन्द पड़ने लगा। एक दिन ऐसा लगा कि कि प्रार्थना-चक्र का घूमना बन्द हो गया है। पता-चला कि उत्तर के जंगलों में भालू ने आतंक मचा रहा रखा है। भालू का कहना था कि वे जंगल उसके बपौती है और पीला अजगर जबरन् वहां घुस गया था। भेडि़यों ने भी उपद्रव खड़ा कर दिया और उत्तर के कुछ पीले अजगरों ने भी विद्रोह कर दिया। पफलतः पीले अजगर की सन्तान को एक विशाल क्षेत्रा से पीछे हट आना पड़ा। उधर पड़ोस के भूरे अजगरों ने भी खिराज देनी बन्द कर दी और वे इधर-उधर अपने दावे भी पेश करने लगे। संकट की इस घड़ी में किसी को बूढ़े अजगर की याद नहीं आई और संकट गहराता चला गया। इसी बीच कुछ विदेशी सियार सौदागरी करने पीले देश पहुँचे। उन्होंने पीले देश के राजा को बड़ी खूबसूरत जूतियाँ भेंट की। अजगरराज उन जूतियों पर मुग्ध हो गया। सौदागर सियारों ने कहा- ‘हे राजाओं के राजा! अगर इस तरह की जूतियाँ चाहते हो तो हमें अजगर-अजगरनियों की खाल ले जाने की आज्ञा दे।’
‘क्या कहा? तुम हमारी खाल से जूते-जूतियाँ बनाओगे और पिफर हमी को बेचोगे?’
अजगरराज चौंका।
सियारो ने कहा- ‘राजन, इसमें दोष क्या है? सड़ने-गलने से तो अच्छा है कि जूतियाँ बने। इसमें तो आपका लाभ ही लाभ है।’
अजगरराज को उनका तर्क पसन्द तो आया पिफर भी वह बोला- खाल के बदले हमें क्या मिलेगा? तुम जानते हो कि आजकल हम गहरे संकट में हैं’
उसकी दवा हम अपने साथ लाए हैं। महाराज। शौक तो पफरमाएँ। एक गोली हलक में डालो और पड़े रहे। भूख-प्यास से छुट्टी’ यह कहकर एक सियार ने अजगरराज को अपफीम की गोली थमा दी। अजगरराज ने उसे मुँह में डाला और उसकी आँखों में परमानन्द का खुमार लहराने लगा।
सियारों ने कहा- ‘कहिए महाराज, पसन्द आई? ऐसे में तो जिन्दे की खाल भी उतार लो तो उसे पता तक न चले।’
‘जिन्दे की खाल? क्या बात कही? उससे तो और भी सुन्दर जूतियाँ बनेगी न!’ पिनक में अजगरराज ने कहा।
‘बिल्कुल सही पफरमाते हैं जहाँ पनाह! अब मेहरबानी करें और हमारे नाम पट्टा लिखवा दें।’
‘भई, तुम स्वयं लिख लो। बगल में मुहर पड़ी है लगा लो। हमें तंग मत करो। माबदौलत आराम पफरमाएंगे।’
बहुत अच्छा श्रीमान। लेकिन एक प्रार्थना और है। सुना है कि आपकी बड़ी दीवार के नीचे सदियों पुरानी खाल बेकार सड़ रही है। उसे खोदने और ले जाने की भी इजाजत दें। हम श्रीमान की सेवा में और भी शानदार जूते पेश करेंगे। आपकी पीढि़यां दर पीढि़यां उनका उपयोग करेंगी पर वे पुराने नहीं पड़ेंगे।’ - उनमें से एक सौदागार सियार ने प्रस्ताव रखा।
‘मैंने कह दिया- तुम दीवार खोदो या पूरे पीले देश को खोद डालो पर मुझे तंग मत करो।’ और यह कहते-कहते पीला अजगर सिंहासन पर एक ओर लुढ़क गया।
दीवार खोदे जाने की बात से कुछ पीले अजगरों में सनसनी पफैल गई। उनमें से कुछ ऐसे मूढ़ निकले कि अपफीम के सौदे का भी विरोध करने लगे। सौदागर सियारों ने उन पर समझौता भंग करने का आरोप लगाया और दोनों ओर से ठन गई। पिफर भी अपफीम वहाँ धड़ल्ले से आती रही और अजगर उसकी पिनक में बहकते रहे। कुछ अजगरों ने भी अवसर का लाभ उठाया। वे दूसरे अजगरों को अपफीम पिलाने लगे। सैकड़ों की संख्या में उनकी अजगरनियां अपने हरम में रखने लगे। उनसे बेशुमार बच्चे पैदा करने लगे और कुछ ही दिनों में उनकी सुकोमल खाल की जूतियाँ दुनियां के बाजार में बचने लगे। उधर समझौते के विरोधी अजगर सौदागर सियारों की गोलियों के शिकार होते रहे। सौदागरों को मनचाही खालें मिलती रही। अजगर कहते- ‘हम अपफीम की गोलियाँ नहीं खाएँगे।’ सियार कहते- ‘बड़े बेशरम हो। समझौता भंग करोगे? अपफीम की नहीं तो शीशे की गोलियाँ खाओ।’
दुनिया में कुछ विरोध हुआ तो सियारों ने कहा- ऐ दुनिया वालों! तुम वहाँ जाकर तो देखो। अजगरों की जाति अब किसी काम की नहीं रही। उसे तो सड़ी-गली लाश ही समझो। वे तो स्वयं अपनी खाल उतारकर हमारे हवाले कर देते हैं। हम उसका उपयोग न करें तो वे वहीं सड़-गल जाएंगी। दुनिया में ऐसी सड़ान्ध पफैलेगी कि हम सब के लिए किसी भयानक रोग का खतरा उत्पन्न हो जाएगा। हम दुनिया को एक भयानक खतरे से बचा रहे हैं। दुनिया को हमारा एहसान मानना चाहिए।’
उनके इस बयान पर कुछ वहाँ गए भी। उन्होंने देखा कि अजगर जहाँ-तहाँ अपफीम की पिनक में पड़े हैं। अपनी पूँछ को ही अपना शत्राु समझ बैठे हैं और मुँह में डालकर निगलने का प्रयास कर रहे हैं। देखने वालों के भी थूँथन बन्द हो गए।
इसी बीच उत्तर-पश्चिम में बड़ी गड़बड़ हो गई। कुछ सपफेद भालुओं ने लाल लबादा ओढ़ लिया, उन्होंने सपफेद भालुओं को मार-मारकर लहूलुहान कर दिया और सपफेद भालू की जाति को लाल भालू की जाति में बदल दिया। इन नये भालुओं का कहना था कि वे उनके साथी हैं जिन पर आज तक जुल्म और ज्यादतियाँ होती रही हैं। बेचारे अगजरों के कान खड़े हुए तो सियारों ने समझाया- ‘प्यारे अजगरों, भालू की मांद में जाओगे तो वह समूचा हड़प जाएगा। हम तो तुम से खाल ही माँगते हैं, वह तुम्हारे दिल और दिमाग को भी शहद की तरह चाट जाएगा। तुम्हारी संस्कृति और सभ्यता कितनी पुरानी और पुख्ता है यह हम जानते हैं। भालू को इन बातों से क्या लेना-देना? देखते नहीं हम तुम्हारी बदशक्ल खालों को कितनी सुन्दर कला-कृतियों में बदल देते हैं। भालू तो लाठी से पीट-पीटकर बेकार कर देगा।’
शुभ-चिन्तक सियारों की चेतावनी का यह असर हुआ कि अजगर दो पिफरकों मंे बंट गए। पिफर भी एक अक्लमन्द अजगर ने उन्हें कुछ दिनों तक एक साथ बाँधे रखा। लोगों का विश्वास है कि उसमें दीवार के नीचे वाले अजगर की आत्मा उतर आयी थी। उसके नेतृत्व मंे अजगरों ने अपने ही राजमहल पर धावा बोल दिया। सिंहासन पर अपने राजा की दशा देखकर उन्होंने माथा पीट लिया। वह अपने आधे हिस्से को निगलकर मरा पड़ा था। विदेशी सौदागर उसकी सुनहरी खाल भी समुन्दर पार भेज चुके थे। अक्लमन्द अजगर को अपनी जाति की इस दुर्दशा का इतना बड़ा सदमा पहुँचा कि वह अधिक दिनों तक नहीं जी सका। इसी दौर में पीले सागर के पार से समुन्दरी अजगरों की आवाज आई- ‘ऐ पीले देश के अस्मतपफरोशो! तुम उस महान अजगर के नाम पर कलंक हो जो हमारे बुजुर्गों का बुजुर्ग था। उस महान दीवार की रक्षा अब हम करेंगे, जिसके नीचे उसकी महान आत्मा तुम्हारी करनी पर आठ-आठ आँसू रो रही है। तुम्हारा समय लद गया है। हम सूर्यदेश के वासी तुम्हारे पापों का प्रायश्चित करने आ रहे हैं।
वे आए और मुफ्रत में खालों का व्यापार करने लगे।
विदेशी सौदागरों ने कहा- ‘ऐ महान पीले देश के अजगरों! देखो, अपने इस छुटभैये को। खालें ले जाता है और अपफीम भी नहीं देता।’
लाल लबादा ओढ़े अजगरों ने कहा- अपफीम का लोभ अब और किसी को देना। हम तुम्हें भी जानते हैं पर पहले इस छुटभैये से निपट लें।’
पिफर उन्होंने पुरानी चाल के पीले अजगरों से कहा- ‘भैया, आपस में तो बाद में निपट लेंगे, पहले इस छुटभैये को सबक सिखाएं। कल तक हमें खिराज देता था और आज हमारे खाल की जूतियां बेच रहा है। यह सुनकर पीले अजगर दुविधा में पड़ गए।’
उधर छुटभैये ने दूसरे भूरे अजगरों की खालों पर भी अपना हक जताना आरम्भ कर दिया। विदेशी सौदागर ताव खा गए। वे कुछ कहते कि उधर यूरोप के जंगलों में भेडि़यों से कहा- ‘भेडि़ए भाई, यहाँ क्या रखा है? सुना है भालू का मांस स्वास्थ्य के लिए बड़ा मुपफीद है।’ लेकिन भेडि़ए को इतनी भूख लगी थी कि वह उन्हीं पर पिल पड़ा। सियारों का दम टूटने लगा तो भेडि़ए भालू पर भी झपट पड़े। भालू ने खीसे निपोर कर पीछे हटते हुए ऐसा नाच दिखाया कि भेडि़ए देखते रह गए। इसी गपफलत का लाभ उठाकर भालू ने डंडा सम्भाला और भेडि़यों को ऐसी मार मारी कि वे पानी भी न माँग सके।
पूर्व में समुन्दरी अजगर आगे बढ़ते रहे। बड़े उफँचे पहाड़ों के नीचे काली भूरी और चितकबरी खालों के हाथ से निकल जाने का खतरा उत्पन्न हुआ तो पुराना घाघ सियार अपने नये आका के पास पहुँचा और बोला- ऐ मुटल्ले भाई, गोला-बारूद और हथियारों के व्यापार से चर्बी इतनी बढ़ गई कि तुम्हें कुछ दिखाई नहीं देता। अरे समुन्दरी अजगर मुझे निगलता जा रहा है और तुम चुपचाप बैठे हो। आज अगर मेरी बारी है तो कल तुम्हारी आ सकती है। अजगर छोटा हो या बड़ा, पीला हो या भूरा, एक बार अगर उसकी भूख जग गई तो पिफर खुदा ही मालिक है।’
दोगला मुटल्ला सियार पहले ही सशंकित था। उसने आव देखा न ताव और समुन्दरी अजगर के सिर पर दो गोले ऐसे बरसाए कि वह चीं बोल गया। पिफर वह पीले देश में पहुँचा और बोला- ‘ऐ पीले देश के अजगरों! मैंने समुन्दरी अजगरों को ठिकाने लगा दिया। अब तुम्हारी खालों पर मेरा अधिकार है। अपफीम न लेना चाहो तो न सही, पर मेरे पास गोला-बारूद बहुत जमा हो गया है वह तो तुम्हें लेना ही पड़ेगा।’
पुरानी चाल के पीले अजगरों को यह सौदा पसन्द आ गया पर लाल लबादा ओढ़े अजगरों को पसन्द नहीं आया। बस क्या था, अजगरों के दोनों पिफरकों में ठन गई। पीले पिफरके की पीठ पर दोगला मुटल्ला सियार सवार हो गया और लाल पिफरके को भालू का जादू वाला डंडा मिल गया। तमाशा यह हुआ कि मुटल्ला सियार, पीले अजगरों के मुँह में शाम को गोला-बारूद ठूंस देता और वह सुबह लाल अजगरों के हाथ पड़ जाता। लाल लबादे का पफैशन इतना लोकप्रिय हुआ कि शु( पीले अजगरों की संख्या दिन प्रतिदिन कम होती गई और एक दिन पीले अजगरों को पीले सागर के पार एक द्वीप में शरण लेनी पड़ी। मुटल्ले सियार की बड़ी किरकिरी हुई।
लाल अजगरों के लाल देश से घोषणा हुई- ‘हम दुनिया भर के गरीब बेचारों का आह्नान करते हैं। एक नई दुनिया के निर्माण मंे हम हर जगह और हर दशा में उनका साथ देंगे। दुनिया से अब लूट-खसोट का व्यापार बन्द होना चाहिए। हम क्रान्ति के निर्यात में विश्वास नहीं करते, लेकिन कहीं यदि गरीब उठ खड़े होते हैं और क्रान्ति कर देते हैं तो हम जमकर उनका साथ देंगे। दुनिया को सुनने में जैसा भी लगे, लेकिन सत्य यही है कि सत्ता का उदय बन्दूक की नली से होता है। हमने इस सत्य के दर्शन अपनी लम्बी दुर्दशा के बाद किए हैं। हमारी इस बन्दूक के निशाने वे दरिन्दे हैं जो दूसरों की खाल उतार लेते हैं। लूट-खसोट करते हैं और दूसरों का गरम-गरम खून पीकर मोटे होते हैं। हम एक ऐसी दुनिया चाहते हैं जो लूट-खसोट से मुक्त हो, उत्पीड़न, भूख, गरीबी और लाचारी का जहाँ नामोनिशान न हो। हम लुटेरों के उस अमन-चैन के हामी नहीं, जिसमें उन्हें मन-मानी करने की छूट हो। हम सच्चे आर्थों में अमन-चैन चाहते हैं और अपने विशाल पीले आंगन में लाल, पीले, हरे, नीले हर प्रकार के रंग-बिरंगे पूफलों को पूफलने-पफलने की आजादी देते हैं।’
कुछ जानवरों ने कहा- ‘पूरब में एक नये सितारे का उदय हुआ है।’ दीन-दुखियों ने कहा- नई सुबह के नये सूरज का उदय हो गया है।’ उत्तर का लाल भालू तो इतना खुश हुआ कि रात-रात भर नाचता रहा। कुछ दिनों बाद लाल अजगर ने लाल भालू से कहा- ‘भालू भैया, मुटल्ले सियार की अक्ल ठिकाने लगानी है। समुन्दरी अजगरों ने हमें कम नहीं सताया लेकिन वे आखिर अपने ही तो हैं। मुटल्ला सियार उनकी पीठ पर सवार हो गया है। दक्षिण के भूरे अजगरों ने एक जिस्म-पफरोश को भगाया तो यह मुटल्ला वहाँ भी जा धमका है। वह हमें घेरकर भूखों मारना चाहता है।’ भालू ने कहा- ‘प्यारे अजगर, मैं हर दशा में तुम्हारा साथ दूँगा। गोला-बारूद की कमी है तो अभी ले आओ। मैं जरा पश्चिम में पफंसा हुआ हूँ। मुझे भी घेरने का प्रयास हो रहा है। मुटल्ले सियार की चौधराहट से अभी टकराना ठीक नहीं है। तुम उसे कागजी शेर कहते हो लेकिन याद रखो उसके ऐटमी दाँत भी हैं।
अजगर को यह सलाह पसन्द नहीं आई। इसी बीच अपनी सन्तान के अभ्युदय से पुराने महान अजगर की आत्मा सन्तुष्ट हो गई। बड़ी दीवार के नीचे से आवाज आई। ‘शाबाश मेरे बेटो! तुम कोई भी लबादा ओढ़ो लेकिन यह मत भूलो कि तुम महान पीले अजगर की सन्तान हो। अभी तुमको बहुत कुछ करना है। मैंने जिस विशाल पीले देश की स्थापना की, उसका एक बहुत बड़ा भाग अभी भी दूसरों के अधिकार में है। लुटेरे सियार तो कुछ खालें ही ले जाते थे। लेकिन तुम यह नहीं देखते कि वह कल का जंगली भालू तुम्हारे सिर पर बैठा नाच रहा है। वह तुम्हें सीख देता है और तुम नत सिर होकर स्वीकार करते हो। मैंने जब समाधि ली थी तो तुमने क्या वचन दिया था? याद रखो, सीख दुनिया को तुमसे सीखनी है।’
लाल अजगरों के सर्वथा लाल नेता ने कहा- हे महान अब्बाओं के अब्बा! क्या मैं अपना यह लाल लबादा उतार दूँ?’ ‘नहीं ऐसी मूर्खता मत करना।’ -आवाज आई- ‘यह बड़े काम की चीज है। इसके कारण कल की दुनिया को तुमसे कुछ नया कर दिखाने की आशा बंधी रहेगी। मुझे केवल इतना कहना है कि अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए दोस्ती और दुश्मनी का खुलकर प्रयोग करो। राजनीति में न कोई सदा के लिए दोस्त होता है और न दुश्मन। हर हथियार  से अपने को शक्तिशाली बनाओ। सि(ान्त कहीं हवा में नहीं टिकते, उनके लिए मजबूत जमीन की आवश्यकता होती है।’ 

लाल नेता ने सुबह-सुबह आँखे खोली तो लोगों ने देखा कि वह बार-बार लाल लबादे के नीचे अपने पीले शरीर को बड़ी हसरत भरी निगाहों से देख रहा है। उसी समय पूर्वोत्तर में उपद्रव हो गया। मुटल्ले सियार ने वहाँ अपनी सेनाएँ उतार दी। लाल अजगर ने लाल भालू से सलाह की तो वह सीधी सलाह देने में असमर्थ रहा। अजगर ने भालू की दोस्ती और मुटल्ले सियार की शक्ति को एक साथ अजमाने के लिए अपनी सेनाएँ भी वहाँ झोंक दी। भालू दूर से ही गुर्राता रहा। मुटल्ले सियार को पसीना तो आ गया पर अजगर को भी नाकों चने चबवा दिए। उसने एटम बम की धमकी दी तो भालू ने दूर ही से कहा- ‘पीले देश पर बम गिरा तो उसका धुंआ तुम्हारी नई दुनिया में उठेगा।’
सियार ने सोचा-शायद यह सौदा मंहगा पड़ेगा और लड़ाई खत्म हो गई।
उधर पश्चिम के बपर्फीले पठार से आवाज आई- ‘महान लाल अजगर की जय हो! लेकिन हमारी प्रार्थना है कि हमें हमारे हाल पर छोड़ दो। भेड़ों की उफन उतारने का हमारा पुश्तैनी हक बरकरार रहने दो। हमारे दैनिक जीवन में दखल बन्द करो।’
लाल अजगर इस गुस्ताखी को कैसे सहन करता। विरोध का वह स्वर कुचल दिया गया और बपर्फीले पठार का सुनहरा मेढ़ा प्रार्थना-चक्र घुमाता हुआ अपनी जान बचाकर बड़े उफंचे पहाड़ों से नीचे भागा। नीचे बैठे बूढ़े लंगूर ने सोचा अजगर को बीमारी उठे ज्यादा वक्त नहीं हुआ। भालू और अजगर भी भिड़े हुए हैं। मुटल्ला सियार भी ताक में है, मौका अच्छा है बपर्फीले पठार के मेढ़े का इलाका गड़पा जा सकता है। अजगर सब समझता था। अजगर की पूफत्कार सुनाई दी- ‘ऐ नीचे वाले! तुम हमारी सौ भेड़ें उठा ले गए हो, पफौरन वापस करो।’
बूढ़े लंगूर ने कहा- ‘प्यारे अजगर, हम तो धर्म-भाई हैं। भेड़ों की बात है तो सौ के बदले हजार ले लो।’
आवाज आई- ‘भेड़ों की बात नहीं है। वह सुनहरा मेढ़ा कहाँ है?’
लंगूर ने कहा- ‘वह तो हमारी शरण में है। तुम कुछ भी मांग लो, लेकिन शरणागत के साथ धोखा करना हमने नहीं सीखा है।’  ‘और उसके नाम पर तुम दुनिया में हमें बदनाम करते पिफरोगे? तुम्हें सबक सिखाना होगा।’ ‘यह कैसी उल्टी बात करते हो? सबक तो कभी हमने तुम्हें सिखाया था। भगवान तथागत का सन्देश क्या भूल गए?’ यह आवाज चितकबरे चीते की थी।
‘भूला नहीं हूँ प्यारे, उसके जख्म तो अभी तक हरे हैं। तुमने हमारी जाति को निष्क्रिय और कायर बनाया। तलवार की जगह प्रार्थना-चक्र थमवाया और इस तरह लुटेरों से ही नुचवाया!’
‘लुटेरों ने तो हमें भी नोचा-खसोटा है। हम में तो आपसी सद्भाव और सहयोग होना चाहिए।’
‘अपने सद्भाव और सहयोग को अपने पास रख। एक बार तुम्हारा बात मानी तो आज तक भुगत रहे हैं। अपने को दुनिया से बहुत उफपर समझते हो। तुम्हारे पर कुतरने होंगे। बताओ इन बड़े उफँचे पहाड़ों पर यह सपफेदी कैसी है?’
‘बपर्फ की सपफेदी है भाई। बपर्फ सपफेद नहीं तो क्या पीली या लाल होगी?’
‘हमारे पुराने दस्तावेजों में लिखा है कि ये पहाड़ पीले थे। जरूर सपफेदी सपफेद लुटेरों ने पोती होगी। लुटेरे सियारों ने जो पाप किया तुम उसे बनाए रखने की हिमाकत करोगे?’
‘ये तो इतिहास की उलझी हुई बातें हैं। क्यों गड़े मुर्दे उखाड़कर सड़ान्ध पफैलाते हो? पिफर भी बातचीत के लिए हम तैयार हैं।’
‘ठीक है पफौरन शुरू करो।’
‘आप अपना दावा पेश करें।’
‘कह तो दिया ये पीले पहाड़ हैं और जो पीले हैं वे हमारे हैं।’
‘लेकिन पहाड़ तो सपफेद हैं। कौन अन्धा है जो इन्हें पीला कहेगा?’
‘तूने मुझे अन्धा कहा। वार्ता के अपने प्रस्ताव को अपनी जेब में रख। ठोढ़ी पर हाथ रख कर शान्ति के बहुत कबूतर उड़ा चुके, अब अपनी उड़ती हुई खोपड़ी देख।’ -अजगर ने गुस्से में कहा और उसकी आंखों से चिनगारियां बरसने लगी। मुँह से आग उगलता हुआ वह बड़े पहाड़ों से नीचे सरकने लगा। लंगूर और बन्दर आदि उस आग में झुलसने लगे। उतर के भालू ने इसे अजगर की नासमझी बताया। जब तक लंगूरों, बन्दरों और चीतों का देश संभलता, अजगर ने अचानक घोषणा कर दी कि वह सबक सिखा चुका है और अब वह बड़े उफंचे पहाड़ों से पीछे खिसक रहा है। उसने सचमुच पूंछ मुँह में डाली और कुछ पीछे हट गया। पिफर भी वह कुछ भूमि पर कुंडली मार कर बैठ गया। बूढ़े लंगूर ने माथा पीट लिया।
दक्षिण में भूरा अजगर मुटल्ले सियार से जूझ रहा था। लाल अजगर उसकी मदद तो कर रहा था लेकिन दिल से चाहता था कि उत्तर का भालू सीधे उलझ जाए तो मजा आ जाए। इसी समय मुटल्ले सियार के दरवाजे के पास एक गन्ने के खेत का मामला उलझ गया। सियार का कहना था कि गन्ने के खेत के लाल मच्छर उसकी माद में घुसकर उसे तंग करने की सोच रहे हैं। इनके कान उमेठना मेरे अधिकार में है। बस क्या था अजगर ने भालू को जा पकड़ा बोला- ‘भालू भैया, तुमने यूरोप के खूंखार भेडि़ए को सबक सिखाया था न?’
‘तुम कहना क्या चाहते हो?’ भालू मुस्कराया।
‘कुछ वैसा ही सबक इस मुटल्ले सियार को क्यों नहीं सिखाते?’
‘तुम समझते क्यों नहीं? मैं ऐसी गलती नहीं कर सकता जैसी तुम कर बैठे हो। बताओ उन उफँचे बड़े पहाड़ों पर उलझने की क्या आवश्यकता थी?’
‘यह तुम नहीं समझ सकते भालू भैया।  मैं जिस महान परम्परा का उत्तराधिकारी हूँ, उसका दर्द तुम क्या जानो? जरा पीछे तो हटना, मेरी सांस घुट रही है।’
‘क्या?’ भालू अवाक् रह गया।
‘यहाँ तो तुम इंच भर पीछे नहीं हटना चाहते और वहाँ पहुँच गए तो भीतर घुसकर मुटल्ले की कब्र क्यों नहीं खोद डालते?’
‘मुटल्ले ने अगर पूरे खेत को ध्वस्त कर डाला तो?’
‘अरे वह गीदड़-भभकी है। तुम साहस तो करो। इधर मैं देख लूँगा।’
‘अपनी सीख तुम अपनी जेब में रहने दो। -भालू बड़बड़ाया- यह कोई नहर का मामला नहीं हैं। मैं जानता हूँ मुटल्ले के पास कितनी शक्ति है’
‘तो मैं समझ गया। तुम दूसरे के कन्धे पर बन्दूक रखकर भले चला लो, लेकिन स्वयं सामने नहीं आओगे। अपने को भलामानुष कहलवाना चाहते हो और हम पर दुस्साहस का आरोप मढ़ते हो। तभी तो मुटल्ले को रोज दावत पर बुलाते हो और स्वयं उसकी जूठी पत्तले चाटने पहुँच जाते हो। मैं मुटल्ले से जा टकराया तो तुम दूर से गुर्राते रहे। मेरा सुनहरा मेढ़ा भाग निकला तो तुमने कहा- जल्दबाजी की क्या जरूरत थी? जरा उसकी भी सुन लेते। मैं उफँचे पहाड़ों पर पफंस गया तो तुमने उसे नासमझी करार दिया। उफपर से दुनिया भर में ढोल पीटते हो कि तुमने मेरे लिए यह किया, वह किया। तुमने सड़ा-गला और घुना अनाज देकर मेरा स्वास्थ्य चौपट किया। पुराना गोला-बारुद देकर मेरी बन्दूक की नालियों को बेकार कर दिया और बेकार पुरानी मशीनें मेरे मत्थे मढ़ी है। तुम मुझे अपना जर-खरीद गुलाम समझ बैठे हो।’
अजगर को गुस्से में देखकर भालू ने कहा- ‘इस समय तुम आपे में नहीं हो, अगली बार मिलोगे तो बात करूँगा।’ -और वह उठकर चला गया। पीले देश से लाल घोषणा हुई। ऐ दुनिया के लाल भाइयों! यह सुनकर तुम्हें दुःख होगा कि मार्क्स का पढ़ा-पढ़ाया और लेनिन का सिखा-सिखाया महान लाल भालू मर गया है। उसकी जगह सपफेद भालू ने अधिकार कर लिया है और लाल लबादा ओढ़कर वह दुनिया को धोखा दे रहा है। वह सौदागर सियारों की जूतियाँ चाटता पिफरता है। आसमान में करामातें दिखा सकता है लेकिन दुनिया के मजलूमों को एक छदाम भी नहीं दे सकता। मार्क्स और लेनिन के सि(ान्त खतरे में हैं। इस नये खतरे के विरू( एकजुट हो जाओ।
इस घोषणा से लाल दुनिया में बड़ी खलबली मची। लालों में लाल, लाल अजगर की लाल किताबें लेकर जहाँ-जहाँ गलियों में चीखने-चिल्लाने लगे। लुटेरे सियार यह तमाशा देखकर मुस्कराने लगे। पिफर बम के धड़ाके और उसके काले-पीले धुँए के साथ दूसरी घोषणा हुई- ‘ऐ दुनिया वालो! यह कितना बड़ा अन्याय है कि मुट्ठी भर भालू मेरे विशाल क्षेत्रा पर पाँव पसारे बैठे हैं और जगह की कमी के कारण मेरा दम घुट रहा है। दुनिया के इस नये चौधरी को सबक सिखाना है तो मेरी मदद करो। ‘सुना, तो लुटेरे सौदागरों की बांछे खिल गईं। उन्होंने पीले देश के भीतर झांकना शुरू कर दिया।
इधर भूरे अजगर ने मुटल्ले सियार को पीटकर रख दिया वह बोरिया-बिस्तर बाँधकर भागा तो छोटे-मोटे अजगरों ने भी अपने स्वतंत्रा अस्तित्व की घोषणा कर दी। लाल लबादा ओढ़े अजगर भूरे अजगरों के पास पहुँचा और बोला- ‘हम अजगर हैं।’
‘वह तो हम हैं ही।’ -भूरे अजगर एक स्वर में बोले।
‘भालू हमारी जाति का नहीं है।’
तीनों अजगर चुप।
‘बोलते क्यों नहीं? क्या तुम्हें सांप सूंघ गया है?’ उसने पुफंपफकार छोड़ी।
‘सांप तो हमें क्या सूंघेगा पर भालू जरूर सूंघ गया है। क्या हमारी मदद करोगे?’
‘शाबास! अपना खून पिफर भी अपना ही होता है।’ पिफर उसने बड़े भूरे अजगर से कहा-
‘तुम क्या कहते हो?’ उसने तीसरे से पूछा।
‘मैं सोचकर जवाब दूंगा।’ तीसरे ने कहा।
अब उसने बड़े भूरे अजगर को आड़े हाथों लेना आरम्भ किया- ‘तुम महान अजगर की औलाद होकर भी उस नाचीज भालू की गुलामी करोगे? भालू के भौंडे नाच के लिए अपनी ही जाति से द्रोह करोगे? मैंने जो एहसान तुम पर किए हैं उनका यह बदला चुकाओगे?’
‘एहसान का शुक्रिया बड़े भाई, पर पहले उन द्वीपों को तो खाली करो, जिन पर तुम कुंडली मारकर बैठे हो। तुम पर भी तो किसी का एहसान है यह क्यों भूल जाते हो?’ ‘मुझ पर किसी का एहसान नहीं है, उल्टे भालू ने मेरी जमीन दाब रखी है। मैं उसको भी सबक सिखाउफंगा और तुमको सबक सिखाना तो मेरा पुश्तैनी अधिकार है। तुम समझते क्या हो? मुटल्ले सियार को पीट दिया तो खुद को बड़ा तीसमारखां समझने लगे हो। तुम्हारी अकड़ न निकाल दी तो उस महान अजगर की सन्तान नहीं। हां, इस समय तो मैं जा रहा हूँ लेकिन मेरी बात पर गौर करना। अगर अक्ल लौट आए तो जवाब भेज देना।’ -उसने कहा और छोटे भूरे अजगर के कन्धे पर हाथ रखकर एक ओर चल दिया। रास्ते में उसने छोटे अजगर को समझाया- ‘तुम कुछ ऐसा करो कि इन दोनों भूरे अजगरों से अधिक क्रान्तिकारी लगो। शहर की आबादी गाँवों  में और गाँवों की आबादी शहरों में ले जाओ तो कैसा रहे? हमने भी सांस्कृतिक क्रान्ति के दौरान कुछ ऐसा सोचा था लेकिन पूरा नहीं कर सके। मैं चाहता हूँ कि तुम इस क्रान्तिकारी कदम को अपने यहाँ चरितार्थ करो। हाँ, एक बात और हैं तुम्हारे इस बड़े पड़ोसी को गन्दे भालू के संसर्ग में खुजली हो गई है। यदा-कदा उसकी खुजली का इलाज भी कर लिया करो। घुड़कियाँ देगा तो डरना मत। मैं उसी के इलाज का प्रबन्ध करने वापस जा रहा हूँ।’
पीले देश पहुँचने पर उसने बड़े भूरे अजगर के विरू( बयान पर बयान देने आरम्भ कर दिए- ‘ऐ दुनिया वालो! सुनो, बड़े भूरे अजगर का दिमाग चल गया है। भालू की शह पाकर वह अपने यहाँ के निहायत पीले अजगरों को निकाल बाहर कर रहा है। मेरी सीमाओं पर भी छेड़खानी कर रहा है। पड़ोसी छोटे भूरे अजगर को धमकियां दे रहा है। मैं भालू से कह रहा हूँ कि वह मेरे कुनबाई इलके में दखल न करें पर वह भूरे अजगर को और भी उकसा रहा है। भूरे अजगर को तो मैं सबक सिखाकर रहूँगा, पर भालू की नाक में नकेल डालने में मेरी मदद करो।’
अजगरी सबक ;4द्ध
मुटल्ले सियार ने अजगर के बयान पढ़े तो उसने अजगर को अपने यहाँ आने का निमंत्राण दे डाला। अजगर दूसरे ही क्षण वहाँ जा पहुँचा। मुटल्ले ने बड़ी गर्म-जोशी से अजगर का स्वागत किया। उसने कहा- हे महान पीले देश के महान अजगर! आज आपको अपने बीच पाकर हम कितने गौरवान्वित हुए हैं कितनी प्रसन्नता हुई है हमको यह हमारे हृदय से पूछो। भाई हम जानते थे कि आप जैसे महान परम्परा के उत्तराधिकारी एक दिन यथार्थ को समझकर सही निर्णय पर पहुँचोगे और हमारे साथ मिलकर एक ऐसी दुनिया के निर्माण में सहयोग करोगे, जहाँ सबको खुलकर सांस लेने का स्वतंत्राता होगी, जहाँ किसी के बोलने, खाने-पीने और कोई भी काम करने पर किसी प्रकार का अंकुश नहीं होगा।’
अजगर ने आँखें मिचमिचाकर मुस्कराते हुए कहा- ‘यही आशा लेकर मैं आपके पास आया हूँ। इतने दिनों तक भालू के भौंडे नाच में जो समय गंवाया, उसका मुझे कितना दुःख है वह मेरे दिल से पूछो। मैंने भालू को जिस निकटता से देखा है और उसका जो-जो अनुभव मुझे हुआ है, वहीं मैं आप लोगों को बताना चाहूँगा। वह कल का जंगली आज दुनिया का चौधरी बनना चाहता है। बात करने का तो शउफर नहीं, मुँह से भयानक दुर्गन्ध निकलती है और एक नई भौंडी दुनिया बसाने चला है। मैं चाहता हूँ कि हम मिलकर उसकी नाक में नकेल डाल दें। हर जगह उसे टांग अड़ाने की आदत पड़ गई है। एक बार मिलकर पटक दें तो छुट्टी हो।’
‘आप पहल तो करें। हम आपके साथ हैं लेकिन कल तक तो आप हमें पानी पी-पीकर कोसते थे। भूरे अजगर के हाथों हमारी जो दुर्दशा हुई, उसे भूल पाना तो सहज नहीं है।’
सियार ने शिकायत की।
‘अब किस मँुह से अपना हाल कहँू। भाई, यहाँ भी होम करते हाथ जल गए। बड़े मियां तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभानल्ला। उधर से भालू गुर्रा रहा है तो नीचे से नमक हराम भूरा अजगर आँखें दिखा रहा है। लेकिन आप चिन्ता न करें भूरे अजगर की खाल उतारकर अगर आपको भेंट न की तो तब कहना।’ -अजगर ने कहा।
‘लेकिन कहीं भालू चढ़ दौड़ा तो?’
‘तो मैं यहाँ क्यों आया हूँ?’
‘यह तो आपने अच्छा किया। लेकिन हमारा सीधे टकराना शायद दुनिया के हित में न हो। भालू बदशक्ल को, बदशउफर हो पर ताकत तो गजब की रखता है।’
‘मैं यह कब कहता हूँ कि आप सीधे भालू से भिड़ पड़े। आप जरा उंगली भर उठा दें, बस इतना की कापफी है। मैं जानता हूँ कि वह आपसे कितना डरता है। मैं निश्चिन्त हो कर भूरे अजगर को सबक सिखा सकूं, क्या आप यह नहीं चाहते?’
‘चाहता तो हूँ भाई, पर कोई बड़ी मुसीबत मोल न ले लेना।’
‘प्रसन्नता है कि आपको मेरा योजना स्वीकार है। हाँ, एक बात और है। मैं वापस जाउफँगा तो लोग पूछेंगे और क्या-क्या लाए। आप ऐसा करें कि हमारे राजा की जो सुनहरी खाल आपके म्यूजियम में पड़ी है, उसे वापस कर दें। उस खाल को देकर जो बहुत लाल है। वे सुनहरे हो जाएंगे और जो सुनहरे हो चुके हैं वे पुराने पीले रंग में आ जाएगे। इससे मेरा काम और भी सरल हो जाएगा।’
‘और भी कुछ चाहिए आपको?’
‘हाँ, आपने पीले सागर को द्वीपों में जो पीले अजगर पाल रखे हैं, उनकी चिन्ता से अब अपने को मुक्त समझे। हम उन्हें कोई कष्ट नहीं होने देंगे। आखिर वे हमारे अपने ही भाई तो हैं।
‘गोला-बारूद और हथियारों की बात तो आपने बिल्कुल ही छोड़ दी। भाई, हम तो सौदागर हैं। कुछ लाभ भी तो हो।’
‘यह कोई कहने की बात है। उतनी दूर से क्या मैं केवल कोरी बातें करने आया हूँ? हाँ, जरा यूरेनियम की अच्छी किस्म की भी जरूरत पड़ेगी। भालू एटम बम से बहुत घबराता हैं।’
इस खुली और खरी बातचीत से दोनों पक्ष बड़े सन्तुष्ट हुए। अजगर ने लाल लबादा उतारा और तह करके कन्धे पर डालते हुए कहा- ‘अब इस बेकार के बोझ को शरीर पर लादे-लादे पिफरना अच्छा नहीं लगता।’ पिफर एक क्षण सोचकर कहा- ‘लेकिन एकदम उतार पफेंकना भी अच्छा नहीं होगा। चलो, आज से कन्धे पर ही रहेगा।’ वह जाने लगा तो मुटल्ले सियार ने पिफर पूछ लिया- ‘अगर भालू चढ़ दौड़ा तो?’
‘तो भी कोई चिन्ता नहीं। उसके पास आखिर कितनी गोलियाँ होंगी? अजगरों की लहर पर लहर जब आगे बढ़ेगी तो वह कितनों को मार पाएगा? मैं जानता हूँ कि वह भूरे अजगर को गोला-बारूद देकर बयानबाजी तक सीमित रहेगा। जब तक उसका गोला-बारूद भूरे अजगरों तक पहुँचेगा। तक तक तो मैं उनकी खाल उतारकर वापस भी हो जाउफँगा।’
अजगर की रणनीति से मुटल्ला सियार बिल्कुल सन्तुष्ट जान पड़ा। लाल लबादे को कन्धे पर डालकर अजगर उन सभी देशों में गया जो भालू से नपफरत करते थे। अपने देश पहुँचते-पहुँचते वह उफँचे बड़े पहाड़ों के नीचे वाले चीते को भी न्यौता देता गया कि वह आए और पुराने झगड़े की सुलह-सपफाई कर ले। लोगों ने सोचा कि शायद बाहर घूमने से अजगर को अक्ल आ गई है। घर पहुँचते ही उसने छोटे भूरे अजगर ही पीठ थपथपाई जिसने बदले में बड़े भूरे अजगर की चिकौटी काट ली। तैश में आकर बड़ा बूरा अजगर सीधे अन्दर पहुँच गया और एक ऐसी सरकार कायम कर दी जो गाँव वालों को गाँवों में और शहरियों को शहरों में लौटा लेने की प्रतिक्रियावादी बात करने लगी। बस पिफर क्या था पीले देश से एक और बयान निकला- ‘दुनिया के लोगों! भूरे अजगर ने मेरी सीमाओं का अतिक्रमण किया है। उसने मेरी कई सौ भेड़ें और बकरियाँ हजम कर डाली हैं। मेरे सब्र का बाँध टूट रहा है।  इस भूरे अजगर को समझाओ। पिफर मुझे न कहना कि मैंने गलत किया है। भालू से कह दो कि वह हमारे बीच न पड़े।’
दूसरी सुबह वह मैत्राी-द्वार के बुर्ज पर आ बैठा। वहीं से बोला- ‘अबे, ओ नमक हराम! यह मेरी ओर मैला किसने किया हैं?’
भूरे अजगर ने बहुत नीचे से कहा- ‘मैं क्या जानंू? मैंने तो बहुत दिन हुए इधर आना ही छोड़ दिया है।’
अजगर ने कहा- ‘तूने नहीं किया तो उस बदतमीज भालू ने किया होगा जो तेरे घर घरजवांई बनकर बैठा है। अब तो तुझे सबक सिखाना ही पड़ेगा।’
यह कहकर उसने ताली बजाई और बेशुमार अजगरी लश्कर भूरे अजगरी देश की उत्तरी सीमा पर छा गई। दुनिया में बड़ा शोर-शराबा मचा। मुटल्ले सियार ने कहा कि यह सब गलत है लेकिन भूरे अजगर को भी छोटे अजगर को सबक सिखाने की हिम्मत क्यों पड़ी? चीता जो सुलह-सपफाई के लिए पहुँच चुका था। बीच ही में नाराज होकर लौट आया। दुनिया भर के लाल एक स्वर में भर्त्सना करने लगे तो अजगर ने बड़े संजीदा स्वर में कहा- ‘मुझे गलत समझा जा रहा है। मैं भालू की तरह किसी की जमीन दाब कर बैठने वाला नहीं हूँ पर अपने छोटे भाई के कान उमेठने का अधिकार मैं नहीं छोड़ सकता। उसकी जमीन का लालच मुझे हो तो तब कहना। मैं तो उसकी गुस्ताखी की हल्की सी सजा देना चाहता हूँ। जिस दिन यह काम पूरा हुआ मैं लौट जाउफँगा।’
भालू सचुमच बयानबाजी से आगे नहीं बढ़ा। उसके हथियारों से लैस होकर ज्यों ही भूरे अजगर ने जवाबी कार्यवाही की और भालू ने भी लीक से हटकर कुछ कड़ी चेतावनी दी तो अजगर ने घोषणा कर दी कि वह सबक सिखा चुका है और पीछे लौट रहा है।
अजगरी सबक ;5द्ध
बड़ा भूरा अजगर छोटे भूरे अजगर के घर से बाहर नहीं निकला तो नहीं निकला। महान अजगर की संतान अपनी इस असपफलता से इतनी बौखला गई कि उसने दोगले मुटल्ले सियार की दुम से चिपकने का अब पूरा पफैसला कर लिया। मुटल्ले सियार को कब से शिकायत थी कि क्यूबा के लाल मच्छर अप्रफीका के जंगलों में भी भयानक लाल रोग पफैला रहे है तो अजगर ने भी छींकना आरम्भ कर दिया। उसका छींकना था कि अशुभ घटा। सौदागर सियार ने हैरान देश के रेगिस्तान में हथियारों के बल पर जो अजूबा खड़ा किया था वह ढह गया। उसके सबसे विश्वसनीय दोस्त को दपफन के लिए दो गज जमीन तक मयस्सर नहीं हुई। उफपर से बड़े मुल्ला की भेड़ें चिल्लाने लगीं कि हमारे आर्य मेढ़े को हमें सौंपो। उसकी नरम-नरम सपफेद उफन से हम अपने बड़े मुल्ला का चोगा तैयार करेंगे। वे बूढ़े हैं और उन्हें ठण्ड भी बहुत सताती है। जब तक हमारा मेढ़ा नहीं मिलेगा, हम तुम्हारी बकरियाँ नहीं छोड़ेंगे।’
सियार ने अजगर को जा पकड़ा- ‘कॉमरेड, अब क्या होगा?’
अजगर- ‘चिन्ता क्यों करते हो? उधर पिरामिडों का भूत है तो इधर महान दीवार की यह महान आत्मा है। हाँ, इस समय तुम्हें जलवायु-परिवर्तन की आवश्यकता है। क्यों न हम तुम दुनिया की छत पर स्केटिंग का आनन्द लें। मन बहलाव भी होगा और भालू की हरकतों पर नजर भी रख सकेंगे। मैंने तो पहले ही वहाँ तक पहुँचने का रास्ता भी तैयार कर लिया है। यह भी देखने का अवसर मिल जाएगा कि बड़े मुल्ला के लबादे के भीतर कहीं भालू तो नहीं छिपा है।
दोनों मटरगश्ती करते हुए उधर बढ़े तो भालू की गुर्राहट से चौंक उठे। भालू वहाँ की नरम-नरम बपर्फ पर पैर पसारे बैठा था। दोनों ने हड़बड़ी में खैबर के दर्रें को पार किया और उल्टे पैरों उल्टाबाद लौटकर राहत की सांस ली। काबुल के सूखे मेवे और पामीर के शु( शहद के हाथ से निकल जाने से सियार को इतनी निराशा हुई कि उसके भीतर अध्यात्म सुगबुगाने लगा। उल्टाबाद की आबो-हवा में उसे इस्लाम के उफपर मंडराते खतरे का अहसास हुआ और उसने घोषणा कर दी कि आज से वह इस्लाम का पैगम्बर है। वहाँ के लोमड़ सिपहसालार की पीठ ठोंकते हुए उसने कहा- ‘भालू, दुनिया की छत पर आ गया है।’
लोमड़- ‘आ गया होगा।’
सियार- ‘आ गया होगा, नहीं, आ गया है। मैं इस्लाम का पैगम्बर हूँ और तुम इस्लाम के सेवक हो। मैं जो कहता हूँ वह तुम्हारे लिए खुदाई हुक्म है।’
लोमड़- ‘मेरे आका, बहुत पहले भी आपने मंूगपफलियां भेजी थी। वे इतनी सड़ी गली और घुनी निकली’ कि हमारे बहादुरों का पेट चल गया। हम बंगाल की खाड़ी में डूबते-डूबते बचे। पिफर उधर बड़े मुल्ला कहते हैं कि आप इस्लाम के दुश्मन हैं। आपने ही वह सांड खुला छोड़ रखा है जो जब तब सींग मार-मारकर हमारे भाइयों को लहू-लुहान कर देता है।’
‘क्या पुराना रोना लेकर बैठे हो?’ सियार ने डांटा- ‘अबकी बार ऐसी करारी मूंगपफलियाँ भेजूँगा कि दाँत बाहर निकल आए। और वह मुल्ला-शैतान की औलाद है। मुझे तो वह भालू का एजेण्ट लगता है। सांड तो मैंने जान-बूझकर छोड़ा है। उसे न छोड़ता तो तुम्हारे मुर्दा दिलों में हरकत कहाँ से आती? यह सब मुझे इस्लाम की खिदमत के लिए ही तो करना पड़ रहा है। अब तो इस्लाम की खिदमत में ये भी हमारा साथ देंगे। इस्लाम की राह पर चलना है तो इनसे सीखें।’
अजगर मुस्करा रहा था।
लोमड़- ‘इनकी लीचियों से तो चेहरे की रौनक है। लेकिन कहीं वियतनाम’ ‘लाहौल-बिला-कूवत, किस गन्दी चीज का नाम ले लिया। जरा भेजे से तो काम लो। तब ये हमारे साथ कहाँ थे? तुम साहस तो करो, मैदान हमारे हाथ होगा।’
अब अजगर की बारी थी। बोला- ‘सही कहते हैं। भालू आज दुनिया की छत पर तो कल तुम्हारी छत पर होगा। इसलिए तुम्हारी छत के नीचे बारूद का ढेर जमा करना आवश्यक हो गया है। भालू के आने पर तुम्हें स्वयं पलीता दिखाना होगा। भालू उस विस्पफोट में खत्म हो जाएगा और उसकी चौधराहट से दुनिया को मुक्ति मिल जाएगी।’ ‘लेकिन मेरे घर का क्या होगा? ‘सिपहसालार लोमड़ ने आशंका प्रकट की।
-बड़े इस्लाम के सेवक बनते हो, क्या इतनी भी कुर्बानी नहीं दे सकते?’ पैगम्बर सियार ने कहा।
सिपहसालार चुप।
अजगर पुफसपुफसाया- ‘प्यारे भाई, चिन्ता मत करो। मेरे पश्चिमोत्तर में कुछ तुम जैसे लोग हैं, जिन्हें मेरा चलन पसन्द नहीं है। मैं  उन्हें और दूसरे बेशुमार अजगर-अजगरनियों को भेज कर तुम्हारे नुकसान को पूरा कर दूँगा। इस्लाम की सेवा में कोड़े मारना आवश्यक हो तो कोड़े मार-मार कर अपनी हसरत पूरी कर लेना। मैंने कारगिल की पहाडि़यों खोदी हैं तो पफारस की खाड़ी में इनका लश्कर मौजूद रहेगा। तुम्हें डरने की क्या आवश्यकता?’ ‘हाँ, अच्छी याद दिलाई। पफारस की खाड़ी- वह तो मेरी जीवन-रेखा है। मेरी शिराएँ वहीं से होकर गुजरती हैं। जब से भालू ने लाल लबादा बोढ़ा मैंने अपनी शिराओं का खून निकाल बाहर किया, क्योंकि उसका रंग भी लाल था। मुझे उस हर चीज से नपफरत है जो लाल है। मेरी शिराओं में अब तेल बहता है तेल। और वह तेल मुझे पफारस की खाड़ी से होकर ही मिलता है। मैं भालू से खुले आम कहता हूँ कि पफारस की खाड़ी मेरी जागीर है। जो भी उधर मुँह करेगा, उसका मुँह तोड़ दिया जाएगा। मुझे यूरोप के उन सियारों में न गिने, जो उसकी एक धमकी सुनकर मैदान छोड़ गए थे। मैं लाल सागर को भी मृत सागर में बदल डालूँगा। पफारस की खाड़ी की क्या, जो भी जगह मुझे पसन्द आ जाए, वह मेरी जागीर है। साइबेरिया के गन्दे जंगल मुझे पसन्द नहीं है। अच्छा हो कि भालू अपनी उस मांद से बाहर निकलने का दुस्साहस न करें। क्यों अजगर भैया, पशु-अधिकारों की रक्षा के लिए क्या यह आवश्यक नहीं है?’
अजगर ने लाल लबादा, उलटकर अपने पीले शरीर की रंगत दिखाई और छोटी सी आँखें मिचमिचाकर कहा- ‘बजा पफरमाते हैं। अब मेरी समझ में आया कि ग्वान्टेमानो, डिएगो गार्सिया और ओकीनावा के अड्डे क्यों जरूरी है? क्यों न एक अड्डा यहीं स्थापित कर लो?’
सिपहसालार लोमड़ बोला- ‘कुछ मेरी भी तो सुनो। इस्लाम की हिपफाजत के लिए एटम बम बहुत जरूरी है।’
सियार-‘अरे, वह तो हम यों ही नजर कर देंगे। तुम बनाने की जहमत क्यों मोल लो?’ लोमड़-‘पिफर वादी-ए-कश्मीर का सवाल है। जमीं पर जन्नत का नजारा और उसे मेरे पड़ोसी की गायें चर रही है। उनके गोबर की बदबू क्या आपके नथुनों तक नहीं पहुँचती?’ अजगर- ‘भाई, हर समस्या को एक साथ हल करने की कोशिश करोगे तो मुश्किल पड़ेगी। तुम्हारे पड़ोसी की एक करारा झटका तो मैं पहले की लगा चुका हूँ। पहले भालू से तो निपट लें, पिफर ऐसा सबक सिखाएगी कि पानी न माँग सके। पिफर तुम वादी-ए-कश्मीर मंे घुसो या सीधे लाल किले में जश्न मनाओ।’
सिपहसालार लोमड़ की जीभ में पानी भर आया। प्रसन्न होकर बोला-
‘तो मुझे क्या करना होगा?’
सियार- ‘कुछ विशेष नहीं, बस हम जो गोला-बारूद, तुम्हें भेजे, तुम उसे पामीर की भगोड़ी भेड़ों की दुम में बाँध देना और उन्हें पामीर की तरपफ हांकते रहना। वे वहाँ जाकर भालू की मांद में विस्पफोट करेंगी और हमारा काम बन जाएगा। भालू नाराज होकर तुम्हारे पाक वतन को नापाक करने की कोशिश करेगा तो हम तीनों मिलकर  उसे यहाँ घेर लेंगे और पिफर यकीनी पफतह समझो। हम तीन ही क्या इंग्लैण्ड के बुल डॉग और दुनिया भर के गि(, उल्लू, चील और शुतुरमुर्ग हमारे साथ हैं। सबकी यहीं इच्छा है कि मैं दुनिया के थानेदार की जिम्मेदार सम्भालूं। क्यों अजगर भैया, तुम्हें कोई एतराज तो नहीं?’
अजगर- ‘बिल्कुल भी नहीं। अगर आपको डण्डा सम्भालने में तकलीपफ होती हो तो मेरे हाथ में दे दें। मैं भालू की खोपड़ी का कचूमर न निकालू दूँ तो कहना। मार-मार कर उसे साइबेरिया के भी पार भगा दूँगा। आप जानते हैं कि वे जंगल तो मेरे थे। भालू को सबक सिखाने का मौका अब मुझे दें।’
सियार- ‘तो ठीक है, हम सब उसे घेरने की योजना तैयार करें और एक हल्ले में उसकी चौधराहट का शीराजा बिखेर दें।’
बस पफैसला हो गया। तीनों ने एक दूसरे की पीठ थपथपाई और अजगर लाल से पीला होकर कारगिल के रास्ते अपने घर को लौट गया।
तब से ह्वांग-हो में न जाने कितना पानी बह गया। उत्तर का लाल भालू दुनिया की छत पर टिक नहीं पाया और थक-हारकर एक दिन वापस चला गया। शान्ति का मसीहा बनने के चक्कर में ऐसा पफंसा कि वाहवाही के साथ अपनी तबाही भी मोल ले बैठा। लाल भालू की मांद पर सपफेद भालुओं ने अधिकार कर लिया। आजादी के नाम पर एक शक्तिशाली राष्ट्र को छिन्न-भिन्न कर दिया गया। सपफेद भालुओं का कहना है कि जीने के लिए रोटी नहीं, मुनापफा कमाने की आजादी ही असली आजादी चाहिए। रोटी तो भीख मांगकर भी जुटाई जा सकती है और आज उनके हाथ में भीख का कटोरा देखकर बड़ी हैरत होती है। मजदूरों और किसानों को उनका हक मिले या न मिले, लेकिन बटमारों लुटेरों और हत्यारों को खुले आम कुछ भी करने की आजादी है। और लाल भालू हैं कि अपने जख्म चाटने से ही पुफरसत नहीं है।
मुटल्ले सियार की धड़ल्ले से चल रही है। उसके साथ हुआ-हुआ करने वाले भी कम नहीं है। उसका कहना है कि वह जहाँ चाहे अपनी पफौजें उतार सकता है और जिसकी नाक में चाहे नकेल डाल सकता है। इसके लिए उसे किसी की इजाजत लेने की आवश्यकता नहीं है। दजला-पफरात की एक मछली ने बगावत कर दी तो मुहल्ला अपने जी-जुजूरों के साथ वहाँ पहुँच गया। इधर उसे इलहाम होने लगा कि अब इस्लाम एक खतरा बन गया है। इसलिए उस मछली और उस जैसे दूसरों के पास हथियार नहीं होने चाहिए। कब्रें तक खोद डाली गई पर हथियार नहीं मिले। कहता है- पेट चीरकर देखो, वहाँ छिपाए होंगे। उसका यह भी कहना है कि विनाशकारी हथियारों का जो तजुर्बा उसे है। वह बहुतों को नहीं है। इसलिए ऐसे हथियार उसी के पास रहने चाहिए। दूसरों को जब जरूरत पड़े, उसका दरवाजा खटखटाएँ और वह मुहैया कर देगा। उपदेश देने में भी वह उस्ताद हो गया है। लेकिन जिन्हें उस पर विश्वास नहीं, वे हथियार बनाने की अपनी आजादी गिरवी रखना मंजूर नहीं कर रहे हैं। उसकी चौधराहट से घबराकर हमने अजगर को जा पकड़ा और विनती की- ‘हे लालों में लाल! यह क्या हो रहा है? तुम भी उसका सथ दे रहे हो। लाल भालू की दशा पर क्या सचमुच तुम्हें कोई दुःख नहीं है?’
वह बोला- ‘हमने तो बहुत पहले ही समझ लिया था कि भालू नाम के लिए ही लाल रह गया है। वह तो रास्ते से कब का भटक गया था। उसका जो हाल हुआ वह तो होना ही था।
हमने कहा- ‘लेकिन इससे लालें की दुनिया में जो पस्त-हिम्मती पैदा हो गई है, उसके लिए आप कुछ करते क्यों नहीं। आप तो उसी की हाँ में हाँ मिलाते जा रहे हैं।’ उसने समझाया- ‘समझने की कोशिश करो। सीधे टकराने का अर्थ जानते हो? हमने दुनिया में जितना उफँच-नीच देखा है, परसों का मुटल्ला क्या जाने? अभी सीधे विरोध मोल लेना ठीक नहीं है। समय आने दो, सबक सिखाया जाएगा।’
और हम चुप हो गए।
इस अजगरी उठा-पटक और टेढ़ी चाल को न समझ पाने के कारण लोग हमसे पूछते हैं- कहिए, आपके उस उगते सितारे का क्या हुआ? हम कहते हैं- ‘आजकल महान अजगरी परम्परा की बदली में छिप गया है।’ वे कहते हैं- ‘नयी सुबह के नये सूरज का क्या हुआ?’ हम कहते हैं- ‘उसे सबक सिखाने का ग्रहण लग गया है।’ पिफर हम कहते हैं- ‘भाई, कभी-कभी सीधे सपाट रास्ते पर भी भूल से पैर इधर-उधर बहक जाते हैं। आगे-आगे देख्एि होता है क्या?’
वे तपाक से कहते हैं- ‘अमां यार, अजदहा तो अजदहा है, लाल-पीला  होता है क्या?’ 



2 comments:

तुषार राज रस्तोगी said...

बहुत खूब लिखा परन्तु यदि फॉन्ट का साइज़ थोडा बड़ा होता तो पढने में आसानी होती |

Anonymous said...

Font bad karne ke liye control ke sath mouse ke scroll ko age kijiye manchahe size me padhiye