Wednesday, August 12, 2009

लोक भाषा में फिलीस्तिनी कविता



फिलीस्तिनी कवि ताहा मुहम्मद अली की कविताओं से हिन्दी पाठकों का परिचय यादवेन्द्र जी ने अपने हिन्दी अनुवादों से कराया है। झारखण्डी पहचान के लिए सचेत कार्रवाइयों में जुटे अश्विनी कुमार पंकज ताहा का परिचय नागपुरी में करा रहे है। उन्होने कविताओं का अनुवाद नागपुरी भाषा की पत्रिका- जोहार सहिया के लिए किया है। लोकभाषा को बचाने और देश-दुनिया से उस भाषा के लोगों को परिचित कराने की उनकी इस कोशिश का स्वागत करते हुए कविताओं के नागपुरी भाषा में किए गए अनुवाद प्रस्तुत हैं।

कविताओं को हिन्दी में पढने के लिए यहां क्लिक करें







ताहा मुहम्मद अली
फिलीस्तिनी कवि



मात्र प्राइमरी तक पढ़ल ताहा मुहम्मद अली इजरायल कर नाँव बाजल फिलीस्तिनी कबि हेकयँ। 1931 में इनकर जनम गलिली इलाका कर एगो सधारन किसान परिवार में सफ्फुरिया गाँव में होय रहे। 1948 में जोन बेरा इजरायल बनलक हजारों फिलीस्तिनी परिवार के अपन घर-गाँव से जबरन बेदखल होयक पड़लक। ताहा कर परिवार कटिक बछर तक लेबनान में बिस्थापित रहलक तसे नजारेथ आयके बसलक। आजीविका चलायक ले ताहा एगो छोट दोकान चलायँना। दिन में दोकान-दौरी आउर राइत में साहित कर पढ़इ। इनकर पहिल कबिता संग्रह 42 बछर कर उमिर में छपलक। एखन तक ताहा कर पाँचठो कबिता आउर एकठो कहनी कर किताब प्रकासित होय चुइक हे। अपन बेरा कर फिलीस्तिनी कबि महमूद दरवेश आउर सामिह अल कासिम तइर ताहा प्रतिरोध कर कबिता नइ लिखयँना, मुदा उनकर कबिता में बिस्थापन कर दुख-पीरा आउर उजड़ेक कर अवाज मुध हेके। ताहा मुहम्मद अली कर कबिता के हिंदी में उल्था कइर हयँ यादवेन्द्र। ताहा कर ई सउब कबिता हिंदी में पहिल बेर 'लिखो यहाँ वहाँ" ब्लॉग उपरे प्रकासित होहे। जिके नागपुरी में रउर ले लाइन हयँ ।


बेस तइर बिदाइयो नइ

हाम तो नि कांदली बिल्कुल
बिदा होयक बेरा
का ले कि नइ रहे फुरसत हमर ठिन जरिको
आउर नि रहे लोर -
बेस तइर हमिन कर बिदाइयो नइ होलक।

दूर जात रही हमिन
लगिन हमिन के कोनो मालूम नि रहे
कि हमिन बिछुड़े जात ही हर-हमेसा ले
तसे का तइर ढरकतलक इसन में
हमिन कर लोर?

जुदाइ कर ऊ गोटेक राइत रहे
आउर हमिन जागलो नइ रही
(आउर नइ बेहोसी में निंदाले रही)
जोन राइत हमिन बिछुड़त रही हर-हमेसा ले।

ऊ राइत
नि तो अंधरिया रहे
नि तो उजियार
आउर नि चांद हें असमान में उइग रहे।

ऊ राइत
हमिन से बिछुइड़ गेलक हमिन कर तरेगइन
दिया हमिन कर सामने खउब करलक नाटक
रतजगा करेक कर -
इसन में कहाँ से सजातली
जगायक वाला
अभियान।
----------------

होय सकेला

बीतल राइत
सपना में
देखली खुद के मोरत।

मिरतु ठाड़ा रहे हामर एकदम हेंठे
आँइख से आँइख मिलाय के
बड़ सिद्दत से महसूस करली हाम
कि सपना भितरेहें ही रहे ई मउवत।

सच तो एहे हय -
हामके नि मालूम रहे पहिले
कि हमर मिरतु
अनगिन सीढ़ी से
ढरइक आवी पानी लखे
जइसे उजर, सिमसिमाल
अगुवायक आउर मोहेक वाला काहिली
इया सुस्ती के उनींद कइर देक वाला अनुभूति आवेला।

सधारन गोईठ में कहु
तो इकर में कोनो पीरा नइ रहे
नि रहे कोनो भय;
होय सकेला
मउवत के लेइके
हामरे भय कर अतिरेक कर जड़मन
जिनगी कर लालसा कर उद्वेग में
धंसल होओक ढेइरे गहरा -
होय सकेला
कि इसने हें होय।

मुदा हमर मउवत में
एगो अनसुलझल पेंच हय
जेकर बारे में खउब बिस्तार से
अपसोस हय कि
हाम नइ गोठियायक पारब -
कि अचके उठेक लागेला गोटेक देह में सिहरन
जखन बेसे बोध होवेला
खुद के मोरेक कर -
कि एखने अइगला क्षण छयमान होय जाबयँ
हमिन कर सउब प्रियजन
कि हमिन नइ देखेक पारब अब कधियो ऊमन के
इया कि सोंचेक हों नइ पारब
अब कधियो ऊ मनक बारे में।


चेतावनी


सिकार पर निकलेक कर सउक रखेक वाला सउब झन
आउर सिकार उपरे झपट्टा मारेक कर ओर करेक वाला सउब झन
अपन बंदूक कर
मुँह कर निसाना मइत कर हमर खुसी बट
इ एतइ महँग ना लागे
कि इकर उपरे एको ठो गोली खरच करल जाओक
(ई एकदमे बरबादी हय)
तोयँ जे देखत हिस
हरिन कर छउवा तइर
बेस तेज आउर मनमोहना
डेगत-कूदत
इया तीतर तइर पाँइख के फड़फड़ाते -
ई मइत बुइझ लेबे कि
बस एहे खुसी हय
हमर बिसुवास कइर
मोर खुसी कर इकर से
कोनो लेना-देना नखे।


ओहे ठाँव

हाम तो घ्ाुइर आली फिन ओहे ठाँव
मुदा ठाँव कर मतलब
खाली माटी, पखना आउर मैदाने होवेला का?
कहाँ हय ऊ लाल पोंछ वाला चिरई
आउर जामुन कर हरियरी
कहाँ हय मिमियायक वाला छगरीमन
आउर कटहर वाला साइँझ?
केंइद कर सुगंध
आउर उकर ले उठेक वाला कुनमुनाहट कहाँ हय?
कहाँ गेलक सउब खिड़की
आउर चांदो कर बिखरल केंस?
कहाँ हेराय गेलक सउब बटेरमन
आउर चरका खुर वाला हिनहिनात सउब घ्ाोड़ामन
जिनकर सिरिफ दाहिना गोड़ हें खुला छोड़ल जाय रहे?
कहाँ चइल गेलक सउब बरातमन
आउर उनकर खाना-पीना?
सउब रीत-रेवाज आउर खस्सीवाला भात कहाँ चइल गेलक?
धन कर बाली से भरल-पूरल खेत कहाँ गेलक
आउर कहाँ चइल गेलक फूलवाला पौधामनक रोआँदार बरौनीमन?
हमिन खेलत रही जहाँ
लुकाछिपी कर खेइल खउब देइर-देइर तलक
ऊ खेतमन कहाँ चइल गेलक?
सुगंध से मताय देकवाला पुटुस कर झारमन कहाँ चइल गेलक?
स्वर्ग से सोझे छप्पर उपरे उतइर आवेकवाला
फतिंगामन कहाँ गेलयँ
जेके देखतेहें
बुढ़िया कर मुँह से झरेक लागत रहे गारी:
हामर चितकबरी मुरगी चोरायकवाला
तोहिन सउब कर सउब, बदमास लागिस -
हामके मालूम हय तोयँ उके पचायक नि पारबे
चल भाइग हिआँ से बदमास
तोयँ हमर मुरगी के कोनो रकम नि हजम करेक पारबे।



अनुवाद : अश्विनी कुमार पंकज

4 comments:

अजित वडनेरकर said...

बहुत बढ़िया पोस्ट। नागपुरी बोली की मिठास दिल को भा गई। फलस्तीनी कविता, कवि और रूपांतरकार से मिलवाने का शुक्रिया ...
आभार।

sanjay vyas said...

ये बात और है कि सिर्फ इसकी मोहकता और मिठास का आभास ही हो पाया पर तय है कि हिंदी में शब्द और मुहावरे बहुत कुछ अनुदीत होने का अहसास करवाते हैं. अनुवाद और उधारी की छाया मौलिक लेखन पर भी दिखने लगी है. ये उससे मुक्त हैं.

विनीता यशस्वी said...

मैंने तो पहली बार किसी क्षेत्रीय भाषा में कोई अनुवाद पढ़ा है और यह एक सुखद अहसास है।

vijay gaur/विजय गौड़ said...

भाई ऎसा कोई उद्देश्य नहीं, आप तो पहले ही उनके प्रकाशन की घोषणा कर चुके हैं। अनुवाद भी इसीलिए किए हैं। मैं तो सिर्फ़ उस मोह को छोड न पाया जो लोगों को बताने का मन कर रहा था। कविताओं का पहला प्रकाशन मे जोहार सहिया में ही मानता हूं।
यह बात दर्ज रहे।