Monday, March 2, 2009

तुम कहां के बाशिंदे हो

देहरादून के लिए य़ह खबर है कि मुम्बई में रहने वाला देहरादूनिया सूरज प्रकाश ६ मार्च को अपने शहर देहरादून में पहुंच रहा है। खबर इसलिए कि एक लम्बे अरसे बाद, वर्ष २००५ के बाद, जब पिछले दिनों वे देहरादून आ रहे थे तो एक आकस्मिकता की लपेट में देहरादून आने की बजाय उन्हें दिल्ली ही रूक जाना पडा और देहरादून में उनके आने की सूचना प्राप्त हुए मित्र बेचैनी से उनकी राह तकते रहे। अपनी जीवटता के दम पर सूरज ने उस कठीन समय का मुकाबला किया है।
कथाकार नवीन नैथानी उसी देहरादून के बाशिंदो का जिक्र करते हुए, जिसका बाशिंदा हमारा मित्र सूरज भी है, अपने लेखन के उन शुरूआती दिनों को जिक्र फ़िर से बिलकुल अलग अनुभवों के साथ कर रहे हैं। देहारादून के चरित्र को व्याख्यायित करने की नवीन यह कोशिश प्रशंसनिय है, जो आगे भी जारी रहनी है।


नवीन नैथानी

देहरादून की फितरत का पता इसके बाशिन्दों से लगता है. वे जव शहर से बाहर जाते हैं तो शहर को भूल नहीं पाते. पता नहीं, दूसरे शहरों में रहने वाले लेखक अपने शहर को किस तरह से देख्रते हैं.सुरेश उनियाल , मनमोहन चड्ढा ऒर सूरज प्रकाश देहरादून से बाहर रहते हैं लेकिन लगता नहीं कि वे देहरादून में नहीं रहते . हां, पिछली किस्त में मैंने सिद्धेशजी का जिक्र किया था. उस त्रयी के अन्य महानुभावों पर बात करना एक तरह से शहर के उन दिनों को फिर से जीने की तरह है.
कविजी (सुखबीर विश्वकर्मा ) वेनगार्ड में काम करते थे- वे उस अखबार में हिन्दी संपादक थे. वह एक विलक्षण अखबार था.द्विभाषी. अंग्रेजी ऒर हिन्दी में. तीन पन्ने अंग्रेजी में होते थे ऒर एक पन्ना हिन्दी में .हिन्दी का पन्ना पूरी तरह साहित्यिक होता था. अक्सर कवितायें छपती थीं.साहित्यकारों के साक्षात्कार होते ऒर गोष्ठियों की रपट होती.कविजी हिन्दी पन्ने के तो घोषित सम्पादक थे ही, अंग्रेजी की सामग्री भी जुटाते थे-अधिकतर STATESMAN की कतरने वे रामप्रसादजी को पकडा़ देते.रामप्रसाद एक माहिर कम्पोजिटर थे.लैटर-प्रेस के वे दिन बहुत जादुई लगते हैं.सीसे के ढले हुए अक्षर,स्याही की गन्ध ऒर ट्रेडल-मशीन की आवाज!शाम की नीम-रोशनी में पढे़ जाने का इन्तजार करता हुआ ताजा छपा पन्ना रामप्रसाद के हाथों में होता.कविजी प्रूफ फ़ाईनल करें तो फ़र्मा छपे ऒर रामप्रसाद घर जायें.रामप्रसाद में असीम धैर्य था.सब कविजी की आदतों के साथ होना जानते थे-खासतॊर पर तब, जब उनके पास साहित्यकार बैठे हों.
अखबार के मालिक जीत साहब अपना पोर्टेबल टाइप राइटर लिये शाम चार बजे के आसपास वेन गार्ड के दफ्तर में आते थे .कोई खास रपट टाइप करते ऒर संपादकीय लिख कर कविजी के हवाले कर देते . हमने उन्हें ज्यादा देर वेन गार्ड के दफ्तर में नहीं देखा. कविजी प्रूफ देखते, खबरें दुरूस्त करते ऒर शहर की सरगोशियों को कान दिये रहते. वे वेनगार्ड के दफ्तर में बैठे-बैठे शहर की साहित्यिक - सांस्कॄतिक गतिविधियों की खबर रखते थे. एक जमाने में वेन गार्ड लेखकों की एक किस्म की नर्सरी के रूप में जाना जाता था. मैंने पुराने लोगों से सुना है कि वहां अच्छा खासा जमावडा़ हुआ करता था. हां, अवधेश के साथ कई मर्तबा शाम की बैठक में शामिल होने का मॊका जरूर मिला.
वेनगार्ड में संभवतः विजय गॊड़ ने ओमप्रकाश वाल्मीकि का साक्षात्कार लिया था जो हिन्दी में दलित-विमर्श से बहुत पहले की घटना है.उन्हीं दिनों की बात है-रतिनाथ योगेश्वर ऒर जय प्रकाश ’नवेन्दु’ ने देहरादून के युवा कवियों की कविताओं का संग्रह निकाला ’इन दिनों’ नाम से. उस संग्रह की समीक्षा खाकसार ने की ऒर कविजी की प्रशंसा में कुछ टिप्प्णी की थी जिसका भाव कुछ युं था कि कविजी ने बेहद ठण्डेपन के साथ अपनी बात कही है.काफी दिनों के बाद कविजी से शाम के वक्त घंण्टाघर में अचानक भेंट हो गय़ी. उन्होंने नाराजगी जाहिर की-सुखबीर विश्व्कर्मा ठण्डा कवि है!तुमने मुझे ठण्डा कवि कैसे बता दिया.
हिन्दी में दलित विमर्श की गूंज देहरादून से ही उठी - यह एक तथ्य के रुप में रखा जा सकता है। 'सदियों का संताप" दलित रचनाकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का पहला कविता संग्रह है, जिसकी खोज में दलित साहित्य का पाठ्क आज भी उस कविता संग्रह पर छपे उस पते को खड़खड़ाता है जो इसी देहरादून की एक बेहद मरियल सी गली में कहीं हैं। हिन्दी साहित्य के केन्द्र में दलित विमर्श जब स्वीकार्य हुआ, तब तक कवि जी (सुखबीर विश्वकर्मा) वैसी ही न जाने कितनी ही रचनाऐं जैसी बाद में दलित चेतना कीसंवाहक हुई, लिखते-लिखते ही विदा हो गये। मिथ और इतिहास के वे प्रश्न जिनसे हिन्दी दलित चेतना का आरम्भिक दौर टकराता रहा उनकी रचनाओं का मुख्य विषय था। अग्नि परीक्षा के लिए अभिशप्त सीता की कराह वेदना बनकर उनकी रचनाओं में बिखरती रही। पेड़ के पीछे छुप कर बाली का वध करने वाला राम उनकी रचनाओं में शर्मसार होता रहा। - कागज का नक्शाभर नहीं है देहरा दून

उनके पास पत्रिकाएं बहुत आती थीं. तमाम जगह वे छ्पे ऒर गर्व से इस बात को कहा करते थे कि वे जितनी जगह छ्पे हैं, उतनी जगह कोई दूसरा कवि नहीं छपा होगा.उनके पास मिलने वालों की अक्सर भीड़ लगी रहती थी.शुरु-शुरु में मुझे ताज्जुब होता था कि अवधेश कवि जी के पास बैठ कैसे जाता है! उनके दफ्तर के सामने कनाट प्लेस का ठेका था (देहरादून में एक कनाट प्लेस भी है).तो मैं इसके पीछे ठेके की मॊजूदगी कोसबसे बड़ा कारण समझता था. य्ह एक कारण था पर सबसे बड़ा कारण नहीं था. कविजी के व्यक्तित्व में एक सहजता थी. निर्भीकता भी-अपनी बात पर अड़ गये तो फिर आप उन्हें समझा नहीं पायेंगे.एक बार से.रा.यात्री उनके कब्जे में पड़ गये. यह १९९०में मई-जून की कोई शाम थी. अवधेश मेरे साथ था.हरजीत संभवतः नहीं था.किसी बात पर कविजी उलझ पडे़.यात्रीजी ने हाथ जोड़ लिये. यात्रीजी का एक वाक्य मुझे अक्सर याद आ जाता है-ऐसा नशा-खाऊ आदमी मैंने नहीं देखा.
खैर, कविजी नशा-खाऊ तो नहीं थे. बाद के वर्षों में एक तरह की कुण्ठा उनमें घर कर गयी थी. वे अपना कविता संग्रह राष्ट्रपति को भेंट करने जब दिल्ली गये तो मेहमानों की फेहरिस्त में अवधेश का नाम जुड़्वाना नहीं भूले. अवधेश दिल्ली गया कि नहीं ,यह मुझे ठीक-ठीक याद नहीं आ रहा.
कविजी के व्यक्तित्व के बहुत से पहलू मुझे जितेन ठाकुर से पता चले. जितेन अपने साहित्यिक सफर की शुरूआती वर्जिश में वेनगार्ड के पास काफी टहला किये.
मृत्यु-पर्यंत कविजी कवि - कर्म में लिप्त रहे.हरिद्वार में कवि-सम्मेलन था. लॊटते हुए जीप पलट गयी. हरजीत गम्भीर रूप से घायल हुआ. कविजी दुर्घटना -स्थल पर ही हत-प्राण रह गये.

5 comments:

Ashok Pande said...

मेरे लिए यह एक ऐतिहासिक पोस्ट का दर्ज़ा रखती है भाई!. शुक्राना. सूरज जी अब बेहतर होंगे! दुआएं!

Dr. Vijay Tiwari "Kislay" said...

ज्ञान वर्धक आलेख.
आभार.
-विजय तिवारी ' किसल

Dr. Sudha Om Dhingra said...

गौड़ जी ,
आप के ब्लाग पर पहली बार आई हूँ ,
नवीन नैथानी का लेख पढ़ा , देहरादून से और
वहां के कई लेखकों से परिचय हो गया.
कुछेक को मैं जानतीं हूँ -पूरा ब्लॉग
पढ़ लिया. ज्ञान वर्धक सामग्री --धन्यवाद !
सुधा

vijay gaur/विजय गौड़ said...

सुधा जी आप ब्लाग तक आयी और आपकी जीवन्त उपस्थिति से अन्य पाठक भी रू ब रू हो पाए, इसके लिए सिर्फ़ आभार कह दें तो शायद इस ब्लाग तक पहुंचने वाले सभी पाठकों के प्रति हमारे मन में जो भाव होते है वे पूरी तरह से व्यक्त न हो पाएं।

कथाकार said...

भाई मेरे
कहा सुना माफ हो। बंदा मार्च में नहीं अ्रपैल आ रहा है। सबको खबर रहे कि मैं 10 तक रहूंगा और दोस्‍तों के आसपास ही रहूंगा। जिसने जितना स्‍वागत फवागत करना हो, तैयारी रखे।09860094402पर बात की जा सकती है
सूरज