Tuesday, November 6, 2018

मुर्गी को भी इंसानी भूत बना देते हैं वे


पेशे से एक अमेरिकी विश्व विद्यालय की प्रोफेसर एंजेला सोरबी कवि,कथाकार,बाल साहित्यकार और साहित्य की समालोचक हैं।उनके अनेक संकलन प्रकाशित और पुरस्कृत हैं।बर्ड स्किन कोट , डिस्टेंस लर्निंग और द स्लीव वेव्ज़ उनके प्रमुख संकलन हैं। अमेरिका के लोकप्रिय रेडियो एनपीआर के छोटी कहानियों के प्रोग्राम 'थ्री मिनट फ़िक्शन' के राउंड 6 (2011) में यह कहानी शामिल थी और सर्वश्रेष्ठ कहानी के चयन की निर्णायक चिमामांडा अदिची ने इस कहानी की विशेष चर्चा की थी। अमानवीय परिस्थितियों में काम करने वाली श्रमिक चीनी युवतियों को केन्द्र में रख कर लिखी गयी इस कहानी के बारे में वे कहती हैं कि यह बेहद संयम के साथ लिखी गयी कहानी है जिससे भावुकता का अतिरेक हावी नहीं होने पाया। यह व्यक्तियों को केन्द्र में नहीं रखती बल्कि आत्मा तक को मटियामेट कर देने वाली कार्य संस्कृति पर आघात करती है।ऊपरी तौर पर कहानी के किरदार जिंदा दिखते हैं पर राक्षसी काम ने उन्हें मार कर चलता फिरता भूत बना दिया है...यहाँ तक कि बुनियादी इंसानियत तक उनमें नहीं बची।

प्रस्तुति एवं चयन : यादवेंद्र 


                                              लाल पत्तियों वाला पेड़ 

                                                                                - एंजेला सोरबी

लैन काम पर देर से पहुँची तो उसकी बॉस चिल्लाने लगी : 'मालूम नहीं, तुम्हें यहाँ ठीक सात बजे पहुँचना था?' लैन ने पलट कर पूछा :'भला क्यों? सात बजे ऐसा खास क्या होने वाला होता है?' 
कल तो यह हँसी मज़ाक में हुआ था पर आज वैसा नहीं था...यह वाकया खूबसूरत खाल वाले कछुए सरीखा था,ऊपर से चमक दमक पर पलटते ही सड़ा हुआ गोश्त।
जिंग से मेरी कोई खास दोस्ती नहीं है पर फैक्टरी में जहाँ खड़ी होकर मैं काम करती हूँ उसी के पास वह भी खड़ी होकर काम करती है - उसका काम खूबसूरत पॉली बैलेरिना के सिर पर बाल चिपकाना है,मैं उनमें गाँठें बाँधती हूँ।पर हम यह काम अपने हाथ से नहीं करते,रोबोट से करते हैं...ऐसा नहीं कि रोबोट खुद ब खुद सारा काम सम्पन्न कर देता है,उसे भी इंसानी सहयोग चाहिए।काम करते हुए शॉप फ्लोर पर हमें एक दूसरे से कुछ भी बात करने की मनाही है फिर भी बातें छुपी कहाँ रह पाती हैं यहाँ से वहाँ तक फैल ही जाती हैं: अभी महीना भी नहीं हुआ था उसको हुनान के किसी गाँव से यहाँ आये कि ऐन यी लॉन्ड्री वाली छत से नीचे कूद गई...नीचे जहाँ लोगबाग पक्षी और फूल बाजार जाने के लिए 17 नं की बस के लिए खड़े थे,उसकी लाश उनके बीच सड़क पर पड़ी रही।
'मुझे अंदेशा था ऐसा होगा',जिंग ने छूटते ही कहा...'वह रातभर जगी रहती थी,कभी कुछ मिनट के लिए आँख लग जाये तो अलग बात...क्या उसकी आँखों के नीचे थैलियाँ लटकी हुई दिखाई नहीं देती थीं?आधी रात को शतरंज उठा कर वह पीछे के गलियारे में आ जाती और एक भूत के साथ देर तक बैठ कर खेलती - वह जगह कोई दूर थोड़े ही है,यहीं पास की दो फैक्ट्रियों की डॉरमिटरी के बीचोंबीच जो लाल पत्तियों वाला पेड़ है वहीं पर वह बैठ कर शतरंज खेला करती थी।'
'जिंग,यह तो सीरियस बात है।', मैं अपने काम के लिए रोबोट को हिदायत देते हुए बोल पड़ी:'यानि ऐन यी सहज मौत नहीं मरी है,उसने खुदकुशी कर ली।'
'उसी भूत ने उसे ऐसा करने को कहा था',जिंग एक रौ में बोलती गयी:'जानती हो वह भूत कौन था?पिछले साल ऐसे ही कूद कर खुदकुशी करने वाली एक लड़की....उसी ने उसे अपनी तरह कूद कर मर जाने को उकसाया।'
'मुझे यकीन नहीं हो रहा कि तुम भी  इतनी अंधविश्वासी हो सकती हो जिंग।तुम तो हुनान के किसी गाँव की अनपढ़ गंवार जैसी बातें कर रही हो।'गुस्से से मेरे कान गरम हो रहे थे जबकि मैं खुद हुनान से यहाँ आयी हूँ पर ऐसी दकियानूस बातों से कोसों दूर रहती हूँ।
जिंग ने मेरे तेवर देख मुझसे नज़रें मिलायीं...उसका चेहरा पीलापन लिए हुए लम्बोतरा है,किसी पुरानी मोटी सी जड़ सरीखा।बोली:'तुम्हें मालूम हैऐन यी अपने साथ हरदम एक मुर्गी रखा करती थी?'
'मुर्गी?क्या खाने के लिये?'
'धत,खाने के लिए नहीं...पालने के लिए।उसको सीने से चिपका कर रखती थी,इससे उसको सुकून मिलता था।पिछले हफ़्ते जब डॉरमिटरी वाले गैरकानूनी चीजों को हटाने के लिए कमरों की तलाशी ले रहे थे तब मुर्गी को पकड़ कर अपने साथ ले गए।'
जिंग की बातें सुनकर मैं मन ही मन में ऐन यी की छवि निर्मित करने लगी जिसमें वह अपनी पालतू मुर्गी को सीने से चिपकाए हुए खड़ी है...हाँलाकि उसको शायद ही मैं निकट से जानती थी।कल्पना में मुझे वह रोती हुई दिखी और आँसू छुपाने के लिए मुर्गी के पंखों के बीच घुसती हुई...
'चाहे कुछ भी हो उसे नियम नहीं तोड़ना चाहिए था',मैं स्वतःस्फूर्त ढंग से बोल पड़ी...हाँलाकि बोलते हुए मेरा मन वही करने को कह रहा था जिसको न करने की बात मैं कह रही थी - मुझे भी एकदम से एक मुर्गी पालने की इच्छा हो आयी... और मन हुआ कोई भूत आधी रात मेरे पास आये और छत से नीचे छलाँग लगा देने को कहे।
'उसने अपनी मुर्गी का पुकारने का नाम भी रखा हुआ था - पेंग्यू...अपने इलाके की भाषा में वह हर रात पेंग्यू को लोरी गा कर सुनाती थी।'
'पर यह बताओ,तुम्हें इतना सब कुछ मालूम कैसे है? तुम तो उसकी डॉरमिटरी में रहती भी नहीं थी।'
मेरा यह सवाल सुन कर जिंग इतनी जोर से ठहाका लगा कर हँसी कि उसका पूरा शरीर कांप गया...और दूर खड़ी लड़कियाँ उसे घूर घूर कर देखने लगीं।वह बोली: 'मैं यह सब कैसे जानती हूँ?इसलिए जानती हूँ कि मैं भी एक भूत हूँ, जिंदा इंसान नहीं।'
'झूठमूठ गप्पें मत हाँको जिंग',मैं तपाक से बोल पड़ी।वैसे उसको एक के बाद एक किस्से सुनाने की आदत थी...कभी लाल पत्तियों वाले पेड़ का,कभी जादुई अंगूठियों का...कभी हंसों का किस्सा तो कभी बेमौसम फलों का।
'पर तुम भी वही नहीं हो क्या मेरी दोस्त?सच बताना,तुम भूत नहीं तो क्या जिंदा इंसान हो?'
मैं ने कोई जवाब नहीं दिया...वैसे मैं जिंग की नजदीकी दोस्त हूँ भी नहीं कि उसकी तरह खुद को जिंदा इंसान नहीं भूत मानने लगूँ।पर विडम्बना यह है कि हम दोनों यहाँ एक दूसरे से सट कर खड़े हैं।परिस्थितियाँ हर समय एक सी नहीं रहतीं,बदलती रहती हैं।कौन जाने इनके पीछे क्या है,कौन है?
तभी मुझे एहसास हुआ हमारे चारों ओर तमाम लड़कियाँ खड़ी धीमी आवाज़ में बातें कर रही हैं...उनके स्वर स्पष्ट नहीं थे,मशीनों का शोर उन्हें ढाँपे दे रहा था।

3 comments:

Dinesh chandra joshi said...

Nice short story depicts how people are being forced to think, work and act like machines. Results of such mechanization is horribly visible the narrative.

RADHA TIWARI said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (07-11-2018) को "दीप खुशियों के जलाओ" (चर्चा अंक-3148) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
राधा तिवारी

शिवम् मिश्रा said...

ब्लॉग बुलेटिन टीम और मेरी ओर से आप सब को छोटी दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं|


ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 06/11/2018 की बुलेटिन, " जल गया है दीप तो अंधियार ढल कर ही रहेगा “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !